My Cart
close

BLOG

Astrology By Institute of Vedic Astrology Feb 18 2020

Maintaining a proper relationship with everyone in today's world is so important for every single person. The relationship holds great importance in everyone's life because this is the only thing on which people rely in their life because they always need someone in their life. Like a child needs a parent, friends, a person needs a life partner, etc. Every relation is important. Today it is also very important to maintain a proper relationship with your professional contacts to have a smooth working in the business or in the office.

But do you ever thought that how you should maintain a proper relationship with every person around you? If you are thinking that talking or meeting them properly or giving time to them is enough to create a better relationship with them is not always right. As we all know every human being is different so as their behavior and nature. So you should always keep in your mind that how you have to deal with every person around you. Astrology can surely help you with that!

We have always heard about astrological horoscope and zodiac signs somewhere, but have you ever thought that these things can actually affect your life and relationship with people around you, whether it is family, friends or professional relationships.

If you are facing difficulty managing relationships with some people in your life then here we are going to give you an idea about some people and their behavior according to their zodiac sign.

There are total of twelve zodiac signs in astrology here we are going to give you an idea about every zodiac sign that how these people are so that you can create a better understanding and approach with them.

- Aries

Most of the time they get so frustrated about some things and never stop thinking about it. As you should maintain calm relations with them as they are very aggressive and feisty sometimes.

 - Leo

They are the most positive ones in their life. They have a positive attitude with everyone around them which take them to the fair things in their life. 

 - Cancer

These people are highly sensitive and moody that is why you should always have to think before speaking with these kinds of people. But once you are friends with them you can ensure a lifetime of friendship.

 -Pisces

Pisces adapt well to their circumstances both good and bad. They are highly empathetic.

 -Scorpio

You should mess with them as they are very turbulent. They are self-concerned and mysterious in their nature.

 -Taurus

They are known for their stubbornness. But they are highly determined you can create good terms with them in business as they are totally ambitious.

 -Sagittarius

They are optimistic and restless. They are highly aggressive in their nature and freedom is their catnip.

 -Gemini

They are adaptable, so they can be adjustable as well. They are versatile, curious and fun-loving. You can have better terms in friendship with them.

 -Virgo

They can be a perfect business person because they have logical and practical thinking and approach towards everything in their life.

 -Libra

These people have a tendency of forgiving but not forgetting. So try to be patient and calm with them in every situation.

 - Capricorn

They are the actual working bees. They are always concerned about their work and career. They are goal-oriented as you can have good terms with them in business.

 -Aquarius

They care about their privacy a lot, that is the reason it is hard for them to make close friends. They are intellectual and innovative as well.

Know more about astrology by learning Vedic Astrology with the Institute of Vedic Astrology from online distance learning courses. Now learn Vedic Astrology and know your friends, family and create a better relationship.

 

 



Read More
Gems_and_crystals_therapy By Institute of Vedic Astrology Feb 14 2020

In today’s modern world no one is free from stress and anxiety. A student facing a competitive exam to a person dealing with business activities is surrounded by the vibe of stress and anxiety which will later harm their life and health due to their bad effects. Keeping yourself away from a different kind of stress and anxiety is in your hands.

There are many ways through which you can get relieved from the stress and anxiety within you. The most unique and proven ways of fighting with stress and anxiety are different gems and crystals.

With the help of particular gems or crystals, you can get rid of the stress and anxiety which you are facing for a very long time, as well as you can also suggest this to your family members and other people also so that everyone can get the benefits from it.

Some crystals are easily available and some are rare but it all depends on the person facing the problem that which crystal or gem he wants to use according to his or her problem.

Most commonly people use gems and crystals as per astrological concepts to get rid of many different life-related problems and health problems.

It is not obvious or compulsory to use crystals or gems only as per the astrological concept. There are many gems that are used in different ways to get rid of many problems in life. Stress and anxiety are commonly found in many people, but the reasons are different so one should prefer crystal or gem according to their problem or a particular life situation.

Everyone is aware of crystals or gems but not every person knows that they can be used in many different ways possible.

Here are some generally used crystals and gems that can surely help you to fight with the stress and anxiety of your life.

The main and important crystals which are specially used for getting relief in stress and anxiety are:
1. Moonstone

  1. Rose Quartz
  2. Himalayan salt rock
  3. Howlite
  4. Clear Quartz

 

  1. Moonstone-This crystal helps us to understand ourselves better. By understanding ourself better you can create a better perception towards life and towards your work, it will help you to reduce your anxiety within yourself. 

 

  1. Rose Quartz- This is the crystal which basically represents love. This can increase self-love as well as love with others also. By wearing this one can create love with self and can increase motivation and positivity in themselves. 

 

  1. Himalayan salt stone- This is the best stone that is used for fighting and getting relief from anxiety due to any work or life situation. It also helps to get relief from insomnia. It raises the energy level in the person and boosts the flow of blood in the human body. 

 

  1. Howlite- It is known as the calming stone. The howlite stone calms communication between people. It also encourages and facilitates awareness and encourages emotional expression. This can help you to balance your emotions and you can easily deal with stress and anxiety. 

 

  1. Clear Quartz- It is the stone that generally clears negativity from the mind and enhances the spirituality in the person which will take him to the right path and help them to get rid of the anxiety depression and stress.

    Learn more about crystals and gems from the best institute of learning about gems and crystals therapy, the Institute of Vedic Astrology, Indore. Here you can get the best guidance about gems and crystals with the online distance learning course of IVA. Join and create a stress-free and happy life.

Read More
Astrology By Institute of Vedic Astrology Feb 11 2020

विवाह क्या है?

भारतीय संस्कृति में अपने वंश को आगे बढ़ाने के लिए और समृद्ध करने के लिए विवाह की एक शुभ परंपरा है जिसमें दो व्यक्तियों को एक मधुर बंधन में बांधा जाता है इस बंधन में बंद कर दो व्यक्ति एक साथ जीवन व्यतीत करते हैं, एक साथ सुख-दुख बांटते हैं, और मिलजुलकर  परिवार की व्यवस्थाएं संभालते हैं, पति-पत्नी परिवार रूपी गाड़ी के दो पहिए होते हैं यदि एक भी रुक जाए तो परिवार रूपी गाड़ी आगे नहीं बढ़ती जिन व्यक्तियों का दांपत्य जीवन खुशहाल होता है, वे अपने जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी अच्छी प्रगति करते देखे गए हैं। किसी कारण से यदि दांपत्य जीवन खुशहाल नहीं होता है तो उसमें घबराने वाली कोई बात नहीं होती उससे बहुत सरल उपायों द्वारा खुशहाल बनाया जा सकता है।

दांपत्य सुख हेतु ज्योतिषी उपाय-

जीवन में असंतुष्ट दांपत्य अनेक समस्याओं की जड़ होता है, जिससे विभिन्न प्रकार के तनाव एवं बाधाएं उपस्थित होती हैं दांपत्य जीवन को सहज सरल और मधुर बनाने के लिए यह कुछ उपाय हैं-

1 प्रदोष के दिन गुड़ का शिवलिंग बनाकर उसकी विधि पूर्वक पूजा करने से दांपत्य जीवन में सौहार्द बढ़ता है।

2 प्रतिदिन सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए सुंदरकांड का पाठ शुक्ल पक्ष के किसी भी मंगलवार से प्रारंभ किया जा सकता है 3.चावल मिश्री दूध सुगंधित वस्तुएं दही और सफेद पशु दान करने से दांपत्य जीवन मधुर बनता है।  

4.दांपत्य जीवन शुक्र को प्रबल करने से मधुर बनता है उसके लिए सत्संगति करना, कला में रूचि पैदा करना, और एकांत का त्याग करना आवश्यक है।

5 स्फटिक की माला से इस मंत्र का 11000 बार जप करने से और उसके बाद बेसन के लड्डू का प्रसाद बांटने से लाभ होता है मंत्र है- “ओम ह्रीं सः”।  

6 तुलसी की माला से निम्नलिखित मंत्र का 18 बार जप करने के बाद माला को बहते जल में प्रवाहित करने से लाभ होगा मंत्र है- “ओम ह्रीं सः” यदि पति-पत्नी के मध्य अकारण ही तनाव उत्पन्न हो रहा हो, तो दांपत्य जीवन को सुखमय बनाने के लिए निम्नलिखित मंत्र का लाल चंदन की माला से 21000 जाप करने चाहिए और जाप के बाद माला को स्वयं धारण कर लेना चाहिए -"ओम क्ल क्लोम क्रीम नमः”

व्रत एवं दान से दांपत्य सुख प्राप्ति के उपाय-

जिन स्त्रियों को दांपत्य सुख में स्थायित्व चाहिए, वह गुरुवार का व्रत विधि पूर्वक करें गुरुवार के व्रत में इन नियमों का पालन आवश्यक है। व्रत को शुक्ल पक्ष के गुरूवार से प्रारंभ करें व्रत वाले दिन केले के वृक्ष की पूजा करें गुड़ और चने का भोग लगाएं, तथा भगवान विष्णु की आराधना करें और भगवान को पीले पुष्प अर्पित करें, गुरुवार को पीले रंग के वस्त्र धारण करें तथा खाने में पीली वस्तुओं का उपयोग करें गुरु मंत्र- “ॐ बृहस्पताऍ नमः” का जाप करें किसी ब्राह्मण को भोजन कराकर दक्षिणा दें।  तथा सुखी दांपत्य जीवन हेतु आशीर्वाद प्राप्त करें, इस दिन झूठ बोलने और पाप कर्मों से दूर रहें।

ज्योतिषी सम्बंधित आगे जानकारी लेने हेतु हमारे ब्लॉग पढ़ते रहे साथ ही हमारी संस्थान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के साथ सीखें ज्योतिषी पत्राचार शिक्षा विडिओ कोर्स के माध्यम से घर बैठे कभी भी कहीं भी। आज ही सीखें ज्योतिषी और बने ज्योतिष विशेषज्ञ।

Read More
FengShui By Institute of Vedic Astrology Feb 07 2020

     इससे पहले कि आप कुछ भी सीखें आपको मूलभूत रूप से उस विषय के बार में पता होना चाहिए ताकि आपको उस विषय के बारे में मूल ज्ञान हो। फेंग शुई भी उन्ही विषयों में से एक है, आईऐ जानिए की फेंग शुई के बारे की उसे कैसे सीखा जा सकता है और घर में उसका उपयोग क्या है।

फेंगशुई क्या है?

कई लोगों के लिए, यह शब्द नया और दिलचस्प है, ज्यादातर भारतीयों के लिए। तो, आइए इस शब्द के बारे में विचार करें। अंग्रेजी में फेंग शुई का अर्थ है “हवा-पानी”। फेंग शुई एक चीनी प्राचीन कला और विज्ञान है जो मनुष्यों के लिए अनुकूल और लाभकारी तरीके से घर की प्रकृति और ऊर्जा से जुड़ा है। फेंगशुई के विशेषज्ञों का दावा है, कि फेंग शुई के कुछ सरल और आसान नियमों का पालन करके ही हमारे घर में हम सकारात्मक और शुभ वातावरण का निर्माण कर सकते है।

फेंग शुई के विशेष नियमों के अनुसार इमारते,  मकान,  कार्यालय और स्थान व्यवस्था को डिजाइन करने की एक चीनी प्रणाली है जो ऊर्जा के प्रवाह से संबंधित है।

आजकल, दुनिया भर में कई लोग फेंगशुई का पालन करते हैं और उसमे विश्वास करते हैं,  क्योंकि इसके इस्तेमाल के बाद लोगो को जीवन में सही परिणाम देखने को मिले| भारत और भारत के बाहर फेंग शुई सीखने के लिए सबसे अच्छी जगह इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी है। यह संस्थान पूरी कोर्स अवधि के दौरान आपका मार्गदर्शन करेगा और आपको फेंग शुई के क्षेत्र में विशेषज्ञ बनने में सहायता भी करेगा।

फेंगशुई सीखने के फायदे-

  • यह आपके घर में सकारात्मक प्रवाह उत्पन्न करने में मदद करेगा और पर्यावरण को शुद्ध करने में भी सहायता करेगा।
  • फेंगशुई घर में सुख और समृद्धि लाने में मदद करता है।
  • यह आपके घर के वातावरण को शुद्ध और ताज़ा बनाने में मदद करता है।
  • यदि आप अपने घर में किसी भी तरह के दुख का सामना कर रहे हैं या नकारात्मक वातावरण की तलाश कर रहे हैं तो आप इससे छुटकारा पाने के लिए फेंग शुई सिद्धांतों को लागू कर सकते हैं।
  • यह आपको पानी, प्रकाश और हवा से संबंधित ऊर्जा को बनाए रखने में मदद करेगा।
  • फेंग शुई आपके परिवार को नकारात्मकता मुक्ति प्राप्त करने और मन और आत्मा को सकारात्मक बनाने में मदद करेगा।
  • आप IVA से फेंग शुई सीखकर भी फेंग शुई में अपना करियर शुरू कर सकते हैं और पेशेवर रूप से काम करेंगे।

  फेंग शुई जैसे विषय बहुत ही रोचक और आसानी से सीखने वाले होते हैं, जिसमें केवल कुछ सिद्धांत, उपकरण और तकनीक शामिल हैं, जिन्हें आपको अपने घर या रहने की जगह पर लागू करना है। निर्माण, डिजाइनिंग और सजावट में उन सिद्धांतों को लागू करने के बाद, आप अपने घर को सकारात्मक बना सकते हैं और बुरी ऊर्जाओं से मुक्त हो सकते हैं, जो हमारे निकट वातावरण में मौजूद हैं।

 बहुत से लोग केवल अपने घरों पर बैठकर नई चीजें सीखना पसंद करते हैं क्योंकि वे किसी कॉलेज या संस्थान से बाहर नहीं जाना चाहते हैं। समय और अन्य अनुसूची बहुत से लोगों को अपने जीवन में विभिन्न चीजों को सीखने की अनुमति नहीं देती है।

घर में फेंग शुई सम्बन्धी उपकरण लगाना नया चलन है। कुछ लोग अपने घर में फेंग शुई का उपयोग सिर्फ इसलिए करते हैं क्योंकि वे इसे किसी तरह से पसंद करते हैं, और उन्हें फेंग शुई दिलचस्प लगता है, लेकिन दूसरी ओर, बहुत से लोग अपने घर को शुद्ध और सकारात्मक बनाने के लिए इसका प्रयोग करते है।

कैसे सीखें फेंगशुई?

अगर आप कुछ भी नया सीखना चाहते हैं तो आपको इसे हमेशा शुरू से सीखना चाहिए। बहुत से लोग अपने जीवन में अलग और अनोखी चीजें सीखना चाहते हैं, इसलिए फेंग शुई सीखना आपको सभी से अलग और अलग बना देगा।

आपके घर पर फेंग शुई सीखने के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं, इंटरनेट की मदद से आप घर बैठे ही कुछ भी सीखना बहुत आसान हो गया था। सीखना अब सीखने के विभिन्न तरीकों से बहुत आसान और सुविधाजनक हो गया है।

फेंग शुई सीखने का सबसे अच्छा तरीका किताबों के साथ है और इंस्टीट्यूट ऑफ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के पास सरल भाषा से तैयार किये गए मॉड्यूल्स के साथ फेंगशुई सीखने के लिए सबसे अच्छी अध्ययन सामग्री है। आज ही फेंग शुई सीखे और अपने घर को सबसे अलग बनाये।

Read More
Palmistry By Institute Of Vedic Astrology Feb 04 2020

What is hast Mudra ( hand posture)?

In India, there is a popular method of hand’s posture therapy ( hast mudra chikitsaa) since ancient timings. The inclusion of hand postures ( hast mudras ) is already placed in the prayer methods of the Hindu spiritual services. Almost everybody is familiar with 24 postures before chanting the Gayatri mantra and 8 postures after the Gayatri mantra. These postures keep one healthy.

 Natural five elements :

The human body is made of Natural five elements, it is mentioned in the Charaka Samhita's career sthanam’s. These five Natural five elements are including earth elements, water elements, air elements, fire elements, and sky elements. These are present into every part of our body including the hands. The earth element is present into the closest finger from the smallest finger which is known as Anamika or ring finger. A water element is present into the smallest finger (kanistha finger). Air element is present into the tarjani finger which is close to the ring finger, fire element is present into the thumb finger and sky element is present into the middle finger.

Diseases and the Natural five elements(Panchabhoota)

We know that the human body is consists of Natural five elements. these natural five elements are present in every part of our body, but with a certain fix proportion. If this balance or proportion gets disturb then, the balance of the human body gets disturbed. This imbalance finally leads to various kinds of illnesses. If this imbalance gets rectify with the help of the fine balancing of these five Natural five elements.then the body automatically gets cured.

Major hand postures(Hast Mudras):-

There are several kinds of hand postures( hast mudras). A few major hand postures are as follows.

1- Earth Posture:  

    The ring finger is the representative of earth posture. In the earth, the posture ring finger is touched with the thumb finger.

2- Water Posture:    

    In the water posture, the smallest finger is touched with the thumb finger.

3- Air Posture: 

  In the air posture Index, a finger is its representative finger. In this posture index finger is touched with thumb at its root point and then by the thumb, index finger needs to press very gently.

4- Sky Posture (Akaash Mudra):

   In this posture, the middle finger is considered its representative finger. This middle finger is touched with the thumb while practicing this sky posture.

5- Muskingam Posture :

   In this p[osture both hand’s fingers are kept close in tiding position. Then they need to press gently each other.

6- Life posture (Prana  Mudra):

     In this posture, ring finger and smallest finger which are representatives of the earth element and water element respectively are touched with the thumb finger.

7- Sun Posture :

        In this posture fingers of both the hands are kept fix in such a way that they should make fist position, thereafter left hand’s thumb to be kept in the state up position and then right hand’s thumb is kept in its backside position.

8- Yampashsm posture :

        In this posture, both hand’s Index fingers are to be kept tide with one another and remaining fingers are used for making fist position.

Various postures and their relativity with curing diseases ;

Ling mudra keeps cold and coughs away, prana mudra keeps eye-related problems away, Vaayu mudra keeps pimples away, Aakash mudra keeps ear-related problems away. Other than these effects Surya mudra keeps diabetes away and Surya mudra keeps lover related problems away. Whenever these postures (mudras 0 are to be practiced one should sit in a Padmaasan position and then he or she should keep their back, neck, and hands must keep state and erected position. One must always remember or concentrated over his or her Est dev before doing any posture.  


Institute of Vedic Astrology, Indore which is the best institute in India and the USA provided Distance learning courses on Palmistry through which you can learn Palmistry easily and become a master in this skill. Join and know yourself better and help others with Palmistry.

 

Read More
Gems&crystaltherapy By Institute of Vedic Astrology Jan 31 2020

रुद्राक्ष क्या है - मनुष्य ने जब से प्रगति की है, तब से समस्याएं भी हैं और जब समस्याएं  हैं, तो उसने उनका समाधान भी खोज निकाला है। हर समस्या का समाधान उसने मंत्र से या यंत्र से या फिर रत्नों से खोज निकाला। कुछ मनुष्य है, जो रत्न नहीं पहन पाते तो उन्होंने बहुत सारी वनस्पतियां खोज निकाली। जिनसे कि धन, स्वास्थ्य और विद्या संबंधी समस्याओं का निदान प्राप्त किया जा सकता था। ऐसी वनस्पतियों में रुद्राक्ष होता है। रुद्राक्ष के द्वारा जीवन जीने में आसानी और सार्थकता मिल जाती है। रुद्राक्ष एक फल स्वरूप विशेष बीज है, जो बेर के बीजों से थोड़ा बहुत मिलता-जुलता होता है। यह संसार की सर्वाधिक प्रभावशाली वस्तु है। पवित्रता, दिव्यता, आध्यात्मिक-चेतना, और देवी चमत्कार के लिए विश्व में विख्यात है।

रुद्राक्ष का पौराणिक संदर्भ - रुद्राक्ष को शिवजी के नेत्र से उत्पन्न माना जाता है, इसलिए इसका नामकरण रुद्राक्ष अर्थात रूद्र धन अक्षर रखा हुआ है। शिव भक्तों को यह बहुत ही प्रिय है। वैसे अन्य अनेक देवी-देवताओं की पूजा विधि में भी इसकी माला धारण करने और उस पर मंत्र जप करने का विधान है। आध्यात्मिक दृष्टि से जितना महत्व रुद्राक्ष को प्राप्त है कदाचित ही अन्य किसी वनस्पति को प्राप्त होगा। अध्यात्म ही नहीं, भौतिक जगत के कई क्षेत्रों में भी इसका विशेषकर- चिकित्सा क्षेत्र में इसे बहुत मान्यता प्राप्त है। पूजा-पाठ और मंत्र-जप आदि में विशेष लाभ के लिए रुद्राक्ष की माला सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है। गणेश जी, लक्ष्मी जी, शिव जी आदि सभी देवी-देवताओं की उपासना में रुद्राक्ष की माला एक अहम भूमिका अदा करती है, परंतु डाकिनी-शाकिनी-यक्षिणी, आदि की उपासना में रुद्राक्ष की माला का प्रयोग वर्जित है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह इसकी पावनता, शिवत्व और कल्याणकारी प्रभाव के कारण है।

रुद्राक्ष कहां पाए जाते हैं। - रुद्राक्ष एक पेड़ का फल है। यह फल गूलर के समान गोल होता है। गोल जामुन की कल्पना करते है, ठीक वैसा ही होता है। परंतु जामुन का गुदा कोमल होता है, जबकि यह बहुत ही कठोर है। इसकी टहनियों में फलों की संख्या विपुल होती है और ये पक कर अपने आप गिर जाते हैं। पेड़ के नीचे या फल निंबोली की तरह बिखरे रहते हैं। आदिवासी लोग इनका संग्रह करते हैं और फिर पानी में कई दिनों तक फलों को भिगोकर गूदे को मुलायम करके निकालते हैं। गुदा निकल जाने पर धुले हुए रुद्राक्ष के बीज बाजार में बिकने आते हैं। पके फल के बीज उत्तम होते हैं, लेकिन कच्चे फलों के बीच ना तो स्थाई होते हैं, न ही गुणवत्ता में पूरे खरे उतरते हैं। कुछ जंगली बेर के बीजों की मिलावट भी इनमें होती है। अतः रुद्राक्ष खरीदते समय उसकी शुद्धता को भलीभांति परख लेना चाहिए। रुद्राक्ष के पेड़ भारत में, नेपाल के आसपास पाए जाते हैं। वैसे कुछ पेड़ दक्षिण भारत में भी हैं, परंतु स्वाभाविक रूप से इसके पेड़ हिमालय की तराई वाले क्षेत्रों में ही मिलते हैं। बर्मा, दक्षिण पूर्व के देशों, जावा, कंबोडिया, थाईलैंड, इंडोनेशिया और सुमात्रा आदि देशो विशेष रूप से पाया जाता है।

रुद्राक्ष का मुख्य भेद से वर्गीकरण - रुद्राक्ष का दाना हाथ में लेकर गौर से देखें, जैसे छिले हुए नींबू अथवा आंवले के फल पर धारियां बनी होती है। ठीक वैसी ही धारियां रुद्राक्ष के दाने पर दिख जाती हैं। रुद्राक्ष चाहे जिस आकार में हो उसके उपर धारिया होती है। यह धारिया एक सिरे से चलकर दूसरे सिरे को छूती हैं। इन्हें मुख कहते हैं, जिन दानों पर जितने धारियां हो वह दाना उतना ही मुखी कहलाता है। आमतौर से पांच धारियों वाले दाने ही पाए जाते हैं, उन्हें पंचमुखी रुद्राक्ष कहते हैं। यह धारियां प्राकृतिक रूप से निर्मित होती हैं। इनकी संख्या 1 से लेकर 21 तक मानी जाती हैं, परंतु वर्तमान समय में अधिकतम 14 धारियों वाले दाने ही देखे गए हैं। इनमें कुछ सुलभ होते हैं और कुछ दुर्लभ तो कुछ तो बिल्कुल ही प्राप्त नहीं होते हैं। जिस पेड़ में जिस आकार के फल आते हैं, सभी लगभग समान ही होते हैं। आम, जामुन की तरह प्रत्येक दाने वाले पेड़ अलग-अलग होते हैं। परन्तु धारियों की संख्या इसमें बदलती रहती है, जिस पेड़ से पंचमुखी रुद्राक्ष प्राप्त होते हैं उसी से 6 तथा 7 मुखी दाना भी प्राप्त हो जाता है। रुद्राक्ष छोटा हो या बड़ा सभी पूजा तथा औषधीय प्रयोग में समान रूप से उपयोग में आते हैं।

रुद्राक्ष तथा अन्य रत्न व उपरत्न के बारे में जानने के लिए आप हमारे इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी से जेम्स एंड क्रिस्टल में अध्यन कर सकते है, तथा इसमें विशेषज्ञ भी बन सकते है। हमारा इंस्टिट्यूट आपको ये कोर्स पत्राचार द्वारा प्रदान करता है।

Read More
VedicVastu By Institute of Vedic Astrology Jan 28 2020

    Is your house facing a T-junction of the road? Then it's time to get the right advice to secure yourself from the bad effects of this T-junction. Many people face this problem in their house, office or factory or showroom which is not auspicious as per Vastu.

This is the main reason why our house or office is not getting prosperity and happiness. According to the Vedic Vastu, the house or a plot which is facing T-point of the road outside of the house’s main door is not so auspicious, or if you are still living in that type of plot then you should take some measures to protect yourself from the negative effects, road that runs straight into the face of the house is considered obstruction and symbolize as spear that obstructs the good fortune of the house.

Sometimes people are also unaware of the fact that T-facing houses bring bad luck, inauspiciousness, and misfortune for the people living there. It does not matter if you believe in these things or not but the fact is that this can actually affect your personal as well as professional life.

You cannot change the direction of the road where your home exists but you can bring some minor or major changes in the house and take some measures to protect yourself from the negative effects of the road which is facing your house straightly.

These T-junction is also known as Veedhi Sulas as per Vedic Vastu. This Veedhi Sulas happens when the road affects the house that means when road approaches the site, some are considered bad while some of them don’t matter so much.

When it is about the T-junction then it is like a gun pointed straight towards our house, which will be going to kill your happiness, peace, the prosperity of the house. One should think to rectify this thing with some measures soon.

According to Vastu that house which is facing East, North, and Northeast direction and has T-junction is only said to be auspicious as it will bring wealth, fame and name to the owner of the house, that other directions are not considered as auspicious.

Here are some measures and tips you can follow to avoid that negative energy to avoid you

  • You can add plants like shrubs at the border of your house which can control the effect of the negative energy which is coming directly to your house.
  • Add a mirror or small pieces of the mirrors at the outside wall of the house.
  • If you are having your door straight towards the road then try to relocate the main door to avoid some effects.
  • You can install Vastu copper strips in your house it will work as a virtual partition to cut off the negative energies which are coming towards your house.
  • Rectify defects related to the road towards the south by using a lead metal pyramid.

To know more about various aspects of Vastu faults you can follow our recent and upcoming blogs on Vastu.

You can also learn Vedic Vastu from the Institute of Vedic Astrology, Indore, through their online distance learning courses in Vedic Vastu.

Read More
Astrology By institute of Vedic Astrology Jan 25 2020

That was a huge achievement for Indians that we have got our democratic rights in India on 26th of January 1950. On this day in the 1950s, we had become a Republic country in the world. The Constitution of India was adopted by the Constituent Assembly on 26 November 1949 and came into effect across the country on 26 January 1950. Republic Day of India is one of the three national festivals in India.


By celebrating Republic Day, we ensure that we have fulfilled our responsibilities and duties towards our nation. Change, development, growth, and culture is the soul of Nation and Nation is still waiting to become a developed country from a developing country.
Believe or not believe but it is all dependent on some Astrological aspect due to that Nation has faced and are still facing different kinds of things and situations.
Astrology shows that the planetary effects in the sky not only affects the life of the human but it also affects the whole nation where the person used to live because a person used to live in the society and the aspects like weather, societal environment, democracy, government, law, employment, education directly affects the human life.
If the planetary positions and the movements in the sky is favorable then it will give good effects on the people of the nation also.
With no doubt, 2020 has brought many changes in the astrological situations of the sky as well as in the human’s life.

If we talk about the astrological aspect of India at the time of the Republic then it is said that planet Pluto was occupied by the Leo sign that was the reason which indicates that the nation has faced various struggles and problems and then got high achievements after getting the republic rights in the world. 
There are various transits in the whole year of 2020 which will affect the lives of many people due to the change in the positions of the planets. India is going to face various changes and development this year.


The planet Saturn has the main transit in the month of January, as it is transiting to the zodiac sign Capricorn and later in Sagittarius. The planet Saturn is the planet of justice and discipline as it will bring many changes in the life of the people after the 26th of January. The planet is going to give the right directions and path to the people of Capricorn sign, it will affect many things the democracy as well.  People who are ruling the country or a particular state will take the right decisions for the nation and the society which will provide great benefits to the citizens of India. 
As Saturn is the ruling planet of the zodiac sign Capricorn and Aquarius as people with this zodiac sign will also face various changes. As the zodiac sign, Sagittarius and Capricorn are already facing the phase of Sade Sati, Aquarius is also going to join their team soon this year.
Saturn will be going to make realize all the zodiac signs that success can only be achieved with the help of hard work and struggle. So, it is believed that people who are ruling the country will soon be going to realize many things through which the nation can get the development and changes.


If the nation gets the development and growth it will directly affect the life of the people living in the nation because people are connected to the society and nation.
You can also follow our latest and future blogs to get the astrological updates on various Indian festivals www.ivaindia.com/blog

On behalf of the Institute of Vedic Astrology, Indore, we are wishing you a very happy Republic day. 

Read More
VASTU By Institute of Vedic Astrology Jan 21 2020

हमारे घर में जिस प्रकार हर एक कमरे का अपना महत्व है उसी प्रकार से पूजा घर / मंदिर भी हमारे घर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। भारतीय पद्धति के अनुसार भी मंदिर घर में एक महत्वपूण स्थान रखता है, जहाँ विभिन्न देव व देवियों को स्थान दिया जाता है और उन्हें हर रोज़ पूजा जाता है, जिससे घर में शान्ति, समृद्धि और धन का आगमन होता है। 

घर में मंदिर एक पवित्र स्थान है जहाँ हम भगवान की पूजा करते हैं। इसलिए, स्वाभाविक रूप से, यह एक सकारात्मक और शांतिपूर्ण स्थान होना चाहिए। मंदिर क्षेत्र जब वास्तु शास्त्र के अनुसार रखा जाता है तो घर और वहां रहने वालों के लिए स्वास्थ्य, समृद्धि और खुशी ला सकता है। हालांकि एक अलग पूजा कक्ष आदर्श होगा, यह हमेशा महानगरीय शहरों में संभव नहीं है, जहां जगह की कमी सामान्य रूप से पायी जाती है। 

आईए जानते हैं मंदिर और घर में मंदिर के स्थान से जुड़ी कई मुख्य बातें जैसे किस स्थान पर हो मंदिर की स्थापना, किस दिशा में मंदिर बनाना है उचित? पौराणिक और शास्त्रीय मान्यता के अनुसार भगवान की पूजा और मंदिर का स्थान घर के एकांत स्थान में उत्तर - पूर्व के कोने में ही हो, जिसे ईशान कोण कहते है, किन्तु अज्ञानतावश कई लोग अपने शयन कक्ष में ही भगवान का स्थान स्थापित कर देते है जो कि सर्वथा अनुचित है। 

शंका व समाधान- 

किसी के घर में यदि परिस्थितिवश मास्टर बेडरूम के अलावा कोई स्थान नही है, तो वह व्यक्ति या तो रसोई के उत्तर पूर्व के कोने में मंदिर स्थापित करें किन्तु भारत ही नहीं अपितु विदेशों में भी ऐसी परिस्थिति परिवारों में देखी गयी है, जहाँ केवल एक ही कक्ष में भोजन शयन और बैठक बनायीं जाती है। शौचालय या तो कॉमन होता है या जंगल का प्रयोग करते है।

जिन व्यक्तियों के पास एक कक्ष के अलावा दूसरा कक्ष नहीं है उन व्यक्तियों की परिस्थितियों के अनुसार मंदिर अथवा पूजा स्थान के बारे में गहन अनुसन्धान से यह स्पष्ट हुआ की वह मनुष्य या परिवार अपने उसी कक्ष के इशान कोण में किसी भी विधि द्वारा अपने इष्ट देव का चित्र स्थापित कर सकते है।

प्राण प्रतिष्ठित मूर्ति, धातु, पत्थर, लकड़ी एवं रत्न आदि की मूर्ति उस स्थान पर न रखे, यदि गलती से रखें हो तो उन्हें मंदिर या किसी धर्माचार्य को सौप देनी चाहिए, जिससे उसकी विधिवत पूजा की जा सके। 

मंदिर से सम्बन्धित कुछ विशेष बातें- 

- प्रत्येक व्यक्ति को इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए की वह अपने आवासीय परिसर के अन्दर कभी गलती से भी सार्वजनिक मंदिर, शिवालय स्थापित न करे।  
- जिन घरों में स्थायी शिवालय देवालय या मंदिर होते है और नियमित पूजा-अर्चना नहीं होती वह परिवार निश्चित तौर पर घोर कष्टों को पातें है।
 
- जिन व्यक्तियों के घर मंदिर के आसपास हो या वह में मंदिर रहते हों, वो लोग भी बड़े धर्म संकट का शिकार बनते हैं, क्यूंकी ग्रहस्ति में सभी कुछ होता है, अतः वे लोग जहाँ तक संभव हो सके दूर जाने का प्रयास करें।
 
- जिन देवताओं के हाथ में दो से ज्यादा अस्त्र हों, ऐसी तस्वीरें और मूर्तियां भी मंदिर में न रखें। वास्तु के अनुसार इसे भी अशुभ माना जाता है।

वास्तु सम्बंधित आगे जानकारी लेने हेतु हमारे ब्लॉग पढ़ते रहे साथ ही हमारी संस्थान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के साथ सीखें वैदिक वास्तु पत्राचार शिक्षा विडिओ कोर्स के माध्यम से घर बैठे कभी भी कहीं भी। आज ही सीखें वास्तु और बने वास्तु विशेषज्ञ।

 

Read More
NUMEROLOGY By Institute of Vedic Astrology Jan 17 2020

अंक विज्ञान क्या है -सभ्यता का पहला मापदंड अंक है, क्योंकि जीवन में जो कुछ भी घटित हुआ है, हो रहा है या होगा। उसे व्यक्त करने के लिए भाषा के बाद हमें अंको का ही सहारा लेना पड़ेगा। किसी भी परिणाम का प्रारंभ और अंत अंक ही है। यद्धपि यह निश्चित है, कि अंक विज्ञान विश्व का सर्वाधिक प्राचीन व उन्नत विज्ञान है, पर आज के युग में जिस गति से मानव के निकट आया है। उसे ध्यान में रखते हुए यह कहा जा सकता है, कि अंक ही आज के मानव का सर्वाधिक विश्वस्त मित्र है। उसका सहचर है, सुख-दुख का संभागीय सहायक है, पथ प्रदर्शक है और पूर्णता सक्षम है। आप भले ही इसे छोड़ दें पर यह आपके निकट है। आपके जीवन का प्रत्येक क्षेत्र अंक शास्त्र से बंधा है। इसके द्वारा आप यह जान सकते हैं, कि आज का दिन आपके लिए कैसा है या अगला सप्ताह क्या होने वाला है और आपको क्या करना चाहिए। हमारा पूरा जीवन ही अंको का जीवन है, उदाहरण के लिए यदि किसी व्यक्ति की जो जन्म तारीख होती है। वह जन्म तारीख उसे बहुत प्रिय होती है। वह उसके जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग बन जाती है, साथ ही उसके परिवार वालों के लिए भी वह बड़ी महत्वपूर्ण हो जाती है और वह तारीख व्यक्ति के जीवन में उत्साह का अनुभव देती है। इसलिए हम यह सब याद रखते हैं, कि हमारी शादी कब हुई, हमारी नौकरी कब लगी, हमारी पढ़ाई कब पूरी हुई या हमारे घर में कौन सा शुभ कार्य किस तारीख को हुआ था।

अंक विज्ञान में अंकों के प्रकार - अंक विज्ञान में अंक कई तरह के होते हैं, जैसे मूलांक, भाग्यांक, नामाक्षर, व्यक्तिगत अंक आदि इन सभी के द्वारा आप अंक ज्योतिष में अलग-अलग तरह की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और सभी अंक आपको भविष्य की ओर इंगित करते हैं और नई योजनाएं बनाने में सहायक होते हैं। व्यक्तिगत अंक द्वारा आप अपने मित्र और अपने शत्रु को बड़ी आसानी से पहचान सकते हैं। तो हम देखते हैं, कि व्यक्तिगत अंक क्या होते हैं।

व्यक्तिगत अंक - व्यक्तिगत अंक व्यक्ति के अपने अंक होते हैं, जिन्हें उन्हें अपने नामाक्षर के अंकों को जोड़कर स्पष्ट कर लेना चाहिए। अंग्रेजी के प्रत्येक अक्षर के लिए व्यक्तिगत अंक होते हैं। यह क्रम से 1 से 9 तक होते हैं फिर अगले अंक के लिए फिर एक अंक आ जाता है। उदाहरण के लिए A अंक 1 होगा, B का अंक 2 होगा, इस तरह क्रम से चलने पर J का अंक फिर 1 आ जाएगा, क्योंकि यह क्रम में दसवां अल्फाबेट है। इस प्रकार हर अक्षर के लिए हर अंक तय है।

अपने नाम के साथ प्रयोग करें - अल्फाबेट्स के साथ जो अंक तय होते हैं। उन अंकों के आधार पर आप अपने नाम में आने वाले अल्फाबेट्स के अनुसार सभी अंक लिख ले, इसका अर्थ यह हुआ कि आप अपने या किसी भी व्यक्ति के व्यक्तिगत अंक ज्ञात करने के लिए व्यक्ति के नाम के सभी अक्षरों को अंको में बदले और फिर उन्हें जोड़ ले। उदाहरण के लिए यदि आपका नाम अनिल है, तो आप के अक्षरों के हिसाब से अंक होंगे का , N का 5, I का 9  और L का 3 जोड़ने पर कुल 17 हुआ और उसका भी अंक 8 बनेगा इस तरह अनिल का व्यक्तिगत अंक 8 हुआ।

अपने मित्र या शत्रु को पहचाने - जिसके भी बारे में आपको पता करना है कि वह मित्र है या आप का शत्रु है या वह न तो मित्र है ना तो शत्रु है, तो उसके भी नाम के आप अक्षरों के अनुसार अंक बना ले। उन अंकों को जोड़कर उसका भी व्यक्तिगत अंक आपके पास आ जाएगा। आपका भी व्यक्तिगत अंक आपके पास है और सामने वाले व्यक्ति का भी व्यक्तिगत अंक आपके पास है। अब यह देख लीजिए कि क्या वे दोनों अंक एक है या अलग हैं। यदि वे अंक एक ही आते हैं तब तो वह व्यक्ति आपका मित्र होगा, हितेषी होगा परंतु यदि वह अंक अलग आता है, तो फिर यह देखना पड़ेगा कि क्या वह अंक आपके अंक से मित्रता रखता है या शत्रुता रखता है। इस तरह अंको की मित्रता और शत्रुता के अनुसार यह पता चल जाएगा कि सामने वाला व्यक्ति आपसे अच्छा भाव रखेगा या शत्रुता का भाव रखेगा। उसी के अनुसार आप उससे अपना व्यवहार तय कर सकते हैं और भविष्य की योजना बना सकते हैं।

आप यदि इन संख्यो के बारे में विस्तार से जानना चाहते है या अंक शास्त्र में ज्ञान आर्जित करना चाहते है, तो आप नुमेरोलोजी में हमारे सर्वश्रेठ संसथान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी से पत्राचार द्वारा कोर्स कर सकते है।

Read More
Astrology By Institute of Vedic Astrology Jan 14 2020

Kites and happy faces are the symbols of Makar Sankranti. If you are an Indian you have surely flown a kite in the sky but the main difference here is that people celebrate this activity in the face of Makar Sankranti in many regions of India, according to their customs and traditions. 
The method and custom of celebrating Makar Sankranti are different in every culture and region of India. Makar Sankranti is celebrated mostly in the regions of Gujarat, Western Madhya Pradesh, Rajasthan, Haryana, Delhi, Karnataka, Tamil Nadu, and more states.  

Why it is called Makar Sankranti?
Makar is the zodiac sign Capricorn in Hindi. At this time the sun transits to the new zodiac that is Capricorn (Makar) sign that is why it is named Makar Sankranti. Makar Sankranti is the harvest festival. 

Makar Sankranti Festival-
Makar Sankranti is one of the most opportune days of the Hindu community and it is distinguished in almost all parts of India in countless cultural forms with immense fervor, joviality, and spirituality. This is the beginning of the month of Magh. 
Makar Sankranti is the date from when the Northward moment of the Sun begins. 
Before Makar Sankranti, the sun is in the Southern Hemisphere. Because of this reason in India, in winters the days are smaller and the nights are longer  
As per the mythological concept, it is said that Goddess Durga killed Devil Kinkarasur and won a battel from him and saved many people, that is why on that day Sankranti is celebrated. 
In many sections of the India Makar Sankranti is celebrated by making teel (sesame) 
Makar Sankranti is also known as the festival of bath and charity, in this time period people take baths in sacred rivers like Ganga and donates food, clothes and many things to poor people. People mostly donate sesame, jaggery, khichdi, fruits, etc to needy people through they can get benefits in their life if they have any fault (Dosh) in their zodiac. The Sun God is pleased with the donations made on this day. Especially eating khichdi with jaggery and ghee is important. On this day, waking and bathing of sesame is done early in the morning.

People who have zodiac Capricorn (Makar) should donate things and should do a holy bath in the sacred river of Ganga to have auspicious effects in their life. 


Commonly on this day, married women gift things to other married women near them. People use to eat things made from sesame and jaggery and children use to fly kites with their friends and family. 

For more information and updates on such topics do keep reading our blogs on the Institute of Vedic Astrology and Astralvarsity. Join our Distance Learning courses and Video Courses on Astrology and allied subjects and become an expert in the field with our premium course material.

Read More
Fengshui By Institute of Vedic Astrology Jan 10 2020

                      There are probably few people who face financial crises, loss in business, instability in business or work after working hard or after investing a high amount of money they do not get the expected results or did not get the expected outcome.
There are various reasons behind not getting the expected and proper business or work outcome. But there might be a reason that the place is not as auspicious as your work or you might use some wrong steps or activities in your office like in regular sitting, location or any other work-related things. For getting a proper solution for this you can apply Feng Shui principles or tricks in your workplace or office to get the best results in your work.

What is Feng Shui and how does it work?
Feng Shui is a Chinese system of designing buildings, homes, offices, and space arrangement according to special rules about the flow of energy, which aimed to achieve harmony with the surroundings, because according to Chinese Mythology a system of spiritual energies, both good and evil are present in our environment.
It was majorly used in the China country but later with modernization, it got trendy in neighboring countries like India, Nepal, Bhutan, South Korea, etc. Now it is highly used and believed in India as well.
Applying Feng Shui not only harmonizes your house, office or living but also purifies the environment.


Some Feng Shui Tips to follow to get benefits-

  1. You should try to make the entrance of your office in the direction of the West or North. If you have a door in the East or South direction then you face damages in business. 
  2. The owner of the business should always sit in the direction of West or South and he should not sit facing the back towards any gate or window. 
  3. If you don’t feel like sitting or working so long in your business work you can place a crystal on your table for that. 
  4. You should put feng shui coins tied with the sacred red thread of Feng Shui in your locker where you generally save money. 
  5. You should always place a mirror above the main entrance gate if the entrance gate is facing any tree, temple, electricity pole, sewage or any other thing which holds the flow of positive energy. 
  6. You can also place Gems tree in the North direction of the office this will bring profit in business. 
  7. A laughing buddha should be placed in front of the entrance of the main door so that it can attract every person entering the office as well as it will increase the profit of the business. 
  8. You should face electric connections and extensions in the direction of the West or South it will give auspicious results and will protect every person from the accidents. 
  9. In feng shui, the right location of walls can promote a good flow of energy and enhance the positive feelings in a home or an office.
  10. If you are working in the work of a creative field try to give the desks in the proper directions to your employees. 

There are many other aspects when it comes to Feng Shui if you are passionate about your business and work then you can also learn Feng Shui as a course in some institutes like the Institute of Vedic Astrology and become an expert of your business with their online distance learning course

Read More
Astrology By Institute of Vedic Astrology Jan 07 2020

पूजा का अर्थ

जब हमें किसी मनुष्य से बातचीत करनी होती है, तो हम भाषा का प्रयोग करते हैं और उससे सीधे सीधे बातचीत करके अपनी बात उसे समझा लेते हैं। जब हम किसी कंप्यूटर जैसीकिसीमशीनकोकमांडदेतेहै,तब हम उसके कीबोर्ड द्वारा या उसके स्विच या बटनो द्वारा उसे अपनी बात समझा लेते हैं, कि हम उससे क्या चाहते हैं। परंतु जब हमें परमात्मा से बात करनी होती है, तब हमारे पास भाषा का साधन सीधा-सीधा नहीं होता, क्योंकि परमात्मा हमें दिखाई नहीं देता। तब उस अदृश्य शक्ति तक अपनी बात पहुंचाने के लिए जो सशक्त माध्यम होता है, वह होती है पूजा। जो कार्य एक मशीन द्वारा नहीं हो सकता। वह कार्य पूजा के द्वारा हो जाता।

पूजा के विभिन्न चरण

एक सफल पूजा के लिए विभिन्न चरण होते हैं, जो कि इस प्रकार हैं।

पवित्रीकरण

पूजा विधान का कार्य पवित्रीकरण की क्रिया से प्रारंभ करते हैं। यह एक भावनात्मक क्रिया है, सर्वप्रथम पूजन के द्वारा परमात्मा का एवं प्रकृति का ध्यान करने से पहले अपने आप को मन आत्मा एवं शरीर से पवित्र करना, मनवाणी एवं शरीर द्वारा अपने को शुद्ध करना, अर्थात भावना करना, कि अब मैं अत्यंत सात्विक कर्म करने को तैयार होता हूं। एवं एकाग्र भाव उत्पन्न करता हूं, इस भावना से शरीर एवं आत्मा का पवित्रीकरण करने की विधि की जाती है।

शिखा बंधन

शिखा रखना भारतीय संस्कृति का महत्वपूर्ण अंग है। शिखा स्थान बुद्धि का वह केंद्र स्थान है, जहां से बुद्धि में सभी प्रकार के विचार उत्पन्न होते हैं। उन्हें स्पाइनल कॉर्ड के द्वारा समस्त शरीर के अंगों तक पहुंचाने का कार्य इसी स्थान से प्रारंभ किया जाता है। स्पाइनल कॉर्ड मस्तिष्क से जुड़कर मस्तिष्क के समस्त विचारों का संप्रेषण करती है। इसीलिए इस स्थान पर शिखा रखी जाती है, जो स्पाइनल कॉर्ड का बाह्य स्वरूप है और गणपति का स्वरूप है, अर्थात पूजा विधि प्रारंभ करने से पूर्व परमात्मा से प्रार्थना करते हैं।कि बुद्धि उत्तम विचारों का संप्रेषण करें पूजा का प्रत्येक सद्भाव बुद्धि द्वारा शरीर को पूर्ण रूप से प्राप्त हो।

तिलक धारण करना

पूजन करने के पूर्व तिलक की स्थापना माथे पर की जाती है। कुमकुम रोली के द्वारा अथवा चंदन के द्वारा माथे पर तिलक धारण किया जाता है। अधिकतर मंगल कार्यों में कुमकुम का ही प्रयोग होता है। कुमकुम इसलिए माथे के अग्रभाग पर लगाते हैं, क्योंकि यह हमारी बुद्धि का अग्रभाग है, जिसे वैज्ञानिक भाषा में फ्रॉम कॉल लॉग कहते हैं। योग की भाषा में इस स्थान को आज्ञा चक्र कहते हैं। इस आज्ञा चक्र को शांति प्रदान करने के लिए कुमकुम लगाया जाता है। मन में प्रश्न यह उठ सकता है, कि कुमकुम ही क्यों लगाया जाता है। वह इस कारण की कुमकुम का निर्माण हल्दी एवं चूने को मिलाकर किया जाता है। हम सभी जानते हैं, कि हल्दी औषधि के समान गुण रखती है। हल्दी को घाव पर लगा दो तो ठंडक पड़ जाती है। जले हुए पर लगा दो तो ठंडक पड़ जाती है। उस औषधि गुण आयुक्त हल्दी एवं चूने के रासायनिक मिश्रण से कुमकुम का निर्माण होता है, जो आज्ञा चक्र पर लगाने से आज्ञा चक्र को शांति एवं एकाग्रता मिलती है। इसी प्रकार चंदन भी आज्ञा चक्र को ठंडक प्रदान करता है, इस भावना से बुद्धि को शांति प्रदान करने के लिए कुमकुम एवं चंदन का लेप आज्ञा चक्र पर किया जाता है।

रक्षा सूत्र

रक्षा सूत्र शब्द से ही समझ में आता है, कि पूजा करने वाले यजमान के उस हाथ में जिसके द्वारा वह पूरी पूजन क्रिया को क्रियान्वित करेगा रक्षण एवं पवित्रता के लिए रक्षा सूत्र बांधने की परंपरा बनी हुई है।

संकल्प

जिस भी विशेष पूजा का प्रकरण होता है, उसके अनुकूल परमात्मा के सामने संकल्प लेते हुए उस पूजन को करने का एवं उससे अच्छे फल की कामना करने हेतु इस संकल्प का विधान पूजा पद्धति में किया जाता है। इसमें पूजन की तारीख दिन समय संवत एवं चंद्र एवं समस्त ग्रहों की नक्षत्र एवं राशि गत स्थिति इत्यादि का विवरण देते हुए, उस व्यक्ति से संकल्प लिया जाता है। जिसके द्वारा वह पूजा करने वाला व्यक्ति परमात्मा से प्रार्थना करता है, कि उसकी पूजा का श्रेष्ठ फल उसे एवं उसके परिवार को प्राप्त हो।

* स्वाति वचन*

अर्थात शांति पाठ वह भी एक बहुत ही सुंदर प्रथा हमारी पूजा में होती है, जो पूजा प्रारंभ करने से पहले हम शांति पाठ करते हैं। इसका तात्पर्य है, कि पूजा के पूर्व पृथ्वी पर उपस्थित सभी जड़ एवं चेतन तत्वों को शांति मिले उनका हम पर आशीर्वाद रहे और प्रकृति के तत्वों से मानवजाति प्रसन्न रहो ऐसा भाव रखकर वैदिक मंत्रों का पाठ किया जाता है। उन सभी मंत्रों का यही तात्पर्य होता है, कि सब जगह सुख शांति हो पृथ्वी पर, अंतरिक्ष में, जल में, वनस्पति में, औषधि में सभी कुछ जो ईश्वर ने ब्रह्मांड में बनाया सभी को शांति प्राप्त हो इस प्रकार और भी अनेक मंत्र होते हैं, जो प्राकृतिक तत्वों से हमें सुख प्रदान करने की भावना से लिखे गए।

गणपति स्थापना पूजन का प्रारंभ गणपति की स्थापना से ही होता है। कोई भी विशेष कार्य हो विवाह, भूमि पूजन, ग्रह प्रवेश, व्यापार प्रारंभ, लक्ष्मी पूजन अथवा ग्रहों की शांति के पूजन या और भी किसी प्रकार की पूजा हो सर्वप्रथम गणपति स्थापना की जाती है।सभी शुभ कार्यों को करने से पहले गणपति की स्थापना की जाती है, क्योंकि सभी कार्य स्वस्थ बुद्धि के द्वारा ही संभव होते हैं। अतः सर्वप्रथम गणपति जी की स्थापना कर उपासना कर परमात्मा से प्रार्थना की जाती है, कि वह हमारी बुद्धि को स्थिर करें ताकि यह शुभ कार्य संपन्न हो सके।

पंचतत्व पूजन

यह पूजन गणपति स्थापना के पहले किया जाता है, जिसमें दीप प्रज्वलन कर पूजा का प्रारंभ किया जाता है। जो कि अग्नि की पूजा करने के लिए किया जाता है। दीप प्रज्वलन का कर पूजा का प्रारंभ इसलिए किया जाता है, क्योंकि सर्वप्रथम पूजन प्रारंभ करने से पहले परमपिता परमात्मा को जो दिव्य ज्योति के स्वरूप में है या अग्नि पुंज के स्वरूप में हैं, तो उनके उसी स्वरूप को सार्थक रूप में पूजने के लिए अग्नि जलाई जाती है। दूसरा कारण यह है, कि पंचतत्व जिनसे यह मानव शरीर बनता है, उसका पहला तत्व अग्नि है, अग्नि के द्वारा ही हमारा शरीर जीवित और स्वस्थ है जठराग्नि हमारे खाए भोजन को पचाने का कार्य करती है। भोजन का पचना और शरीर का जीवित रहना इस अग्नि के बिना संभव नहीं, इसी तरह हमारे शरीर का तापमान अभी अग्नि के द्वारा ही स्थिर रहता है। अतः अग्नि हमें हमेशा स्वस्थ और जीवित रखती है, इसलिए इस अग्नि का सर्वप्रथम सम्मान किया जाता है।

कलश स्थापना

प्रत्येक पूजन विधि में कलश स्थापना अवश्य की जाती है। कलश स्थापना कर ब्रह्मांड को नारियल का स्वरूप देकर उस पर समस्त देवताओं का आव्हान किया जाता है। पांच पान के पत्ते रखे जाते हैं या आम के पत्ते रखे जाते हैं, जिसका संकेत होता है कि हमें अपनी प्रकृति को बचाना है और कलश में जल भरकर यह संकेत होता है, कि जल हमारे जीवन के लिए कितना जरूरी है।

इसी तरह के अन्य विषयों में जानने के लिए आप वैदिक ज्योतिष शास्त्र विषय में अध्यन कर सकते है। इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी जो एक सर्वश्रेष्ठ संस्थान है, जो आपको इस तरह के विषय में आपको तीन प्रकार से कोर्स उपलब्ध करता है। जैसे वैदिक एस्ट्रोलॉजी, विडियो वैदिक एस्ट्रोलॉजी तथा कॉम्बो कोर्स और वो भी दूरस्थ पाठ्यक्रम द्वारा आपके घर बैठे आपकी इच्छा अनुसार।‍

Read More
Gems&Crystalstherapy By Institute of Vedic Astrology Jan 03 2020

 Wear Gems cautiously before wearing as per Astrology- 

Almost every individual scholar, material science related scientist and astrologer has unanimously accepted this very fact that gems radiate a special type of light. These specific lights irrespective of their nonvisibility does affect human life in one or another form. This effect is very much similar to that effect which comes into the earth from the planets. Astrological experts and other experts related to this subject matter have given a principle according to which every planet has a resembling stone on the earth. This stone is considered a Gem and there are several types of Gem unlike various kinds of planets on our solar system. Sun has a similar effect producing stone which is known as a Manik, Moon has its resembling stone with the name of Moti, Mangal has Munga, Budha has Panna, Guru has Pukhraj, Sukra has Diamond, Shani has Neelam, Rahu has Gomeda and Ketu has Lahsunia. These stones have very similar effects on what their associated planets are having on our well beings.

Select the metal of Gems with utmost care:

If you wear any Gem without knowing its perfect suitable ally metal then, it will do more harm than any good effect for its wearer. After many years’ research and intense observation subject experts came to this conclusion that one should wear any precious Gem with its properly suitable combination making metal like Gold, Silver, Copper, Germanium etc.etc. One can wear these Gems after putting them into the ring or locket.

The alliance of various Gems with different-different metal is as follows:

A-   Manik with the Gold

B-   Moti with the Silver

C-   Munga with the Gold 

D-   Panna with the Gold 

E-   Pukhraj with the Silver 

F-  Diamond with tri-metal (Tridhaatu)

G-  Neelam either with tri-metal or with the Silver 

H -Gomed with the Panchadhatu 

I - Lahsunia with the Panchadhatu 

Although, in this classification, there is a difference of opinion too. Many rich and wealthy people use to wear any such Gem with Gold or any other precious metal which is actually recommended only with the Silver. This is not at all recommended from the point of view of astrology and it may give adverse effects instead of giving some benefit to that person who is wearing it. It is a proven fact that Diamond and Moti are not beneficial when they are used with the Gold. Before wearing any Gem and selecting its ally metal one should take proper advice of any knowledgeable astrologer.

Select Gem’s wearing order with utmost care:

Many people wear NavRatna rings in their fingers or chain in their neck just for the sake of fashion. On the other hand, many people wear them for getting instant benefits. This is a very tricky situation and one should always wear such kind of Navratna ornament with its appropriate order according to the science of astrology. This order must be in such a way that the first row must have Panna and Diamond in the second row there must be Pukhraj with Manik and Munga, in the third row there must be Lahsunia, Neelam and Gomed.  This order very clearly indicates that in the first row there are Buddha, Sukra and Moon. In the second row, there are Guru Surya and mangal, in the third row, there are Ketu, Shani and Rahu planets. One should wear any Gem after keeping this very fact and this precisely defined order only   

Wear Gem with its proper weight:

Any that ornament, including the ring which consists of Navratna, is beneficial only when it is worn inappropriate weight according to the astrological calculation. Many such precious ornaments are useless or without any good results producing the effect which is not made of right pr proper weight. Only wearing precious gem is not that important but it is important to \wear them with proper weight and proper combination.

Before wearing any Gem know its friendliness and enmity :

It is a very natural and common fact that like-minded people like one another’s company but in contrast those who are lacking like-mindedness and if they happen to meet with one another will not like one another’s the company and they will enjoy unpleasant company.

If the characteristic of any gem is not matched with another, it will give ill effects and create a very unpleasant situation in day to days life. Before wearing any Gem one must check very carefully, whether it is friendly or not for him or her. Many Gems if not worn according to its friendly nature may cause harmful effects, therefore it is very important to wear them wisely and according to the principles of astrology.

Follow our latest and upcoming blogs to get more information about different Gems and Stones from our institute, the Institute of Vedic Astrology. And you can also learn more things about Gems in the IVA from an online distance learning course

 

 

 

Read More
Astrology By Institute of Vedic Astrology Dec 31 2019

Every person is different from each other and hold some unique qualities and skills within them. Astrology shows their different personalities through their zodiac signs. Each zodiac sign is different from each other and shows the different qualities and faculties of a person.
Each different sign holds different qualities and specialties in it. Those people who have creativity inside them, are seems to be more attractive by nature and preferences.
Then, there are some signs that are very creative and innovative by their nature. These particular signs are special and different from other zodiac signs. According to astrology, creativity in every individual is dependent upon the planets which are present in their horoscope, and we can assume their nature and attitude according to their zodiac sign.
If any person is aware about his or her inner quality, then they are able to choose the right career track in their life, and it also helps them in other ways also.

Signs which are creative by their nature-

  • Virgo (Kanya)
  • Leo (Singh)
  • Taurus (vrishabh)
  • Capricorn (makar)
  • Pisces (Meen)

These are the most creative zodiac signs (Rashis) in astrology. Now we will get to know about the faculties present in these signs.

  1. Virgo (Kanya)-
    People with Virgo sign always tries to perform something different than others. They always try to learn new and different things. They usually don’t waste their time on unnecessary things and use to mind their own business.
  2. Leo (Singh)-
    They are the people who are very creative and innovative by their nature. They always try to give their life, be it personal or professional. They always work to give their best in their life and don’t leave any room for error in their work.
  3. Taurus (vrisabh)-
    The people lying in this sign are much imaginative and creative by their nature. They can do their best in creative sections related to money or property. Taurus people are good painters as well, and no one can beat them in it.
  4. Pisces (Meen)-
    These people are much thoughtful and imaginative. They are always stuck in their own thoughts and imagination and then work according to it.
  5. Capricorn (makar)-
    People with Capricorn sign are much practical than other signs. They always use to learn new things and then work according to it or apply those tips in their present work. They bring out something new after learning, that’s why they seem to be more creative among all.

The above signs were the most creative signs in astrology. If you want to know more about zodiac signs and its effects on human nature, you can also learn Vedic astrology from the Institute of Vedic Astrology, which will give you better knowledge about astrology from their online training distance learning course, with their online video course.


 

 

Read More
ASTROLOGY By Institute of Vedic Astrology Dec 28 2019

People are much excited about their future predictions. What they are going to have in the future, where they will going to have success, they will get money or not, how will be their health, etc. Every person wants to know the answers to these questions.

It is very important to get your future predictions so that you will be able to control the unfavorable situations and can enjoy favorable situations well. If you will get an option to change your future or destiny then you can absolutely able to change that with the help of Astrology. In this modern generation where people are dependent on their karma (deeds) on the other side, Astrology is also dependent on your karma. If you will get to know the future prediction as per your Astrological sign you can control and manage the future situations.

Every day is a new day and every year is a new life. To live your new year full of positivity and changes you should have a look at your zodiac predictions as well, it will help you to know about future holds for you in the new year.

Institute of Vedic Astrology has got the right predictions for your zodiac sign with which you can make your new year prosperous and favorable for you.

You can also learn Astrology to get your future predictions.

While discussing the astrological signs and predictions you should also know about its various aspects like it differ person to person according to their zodiac sign. Each sign has its own pros and cons and it works according to the positions of planets especially Moon, Saturn, Jupiter, and Sun. The placement of those planets in a particular house defines the person’s zodiac situation.

The upcoming year 2020 is full of opportunities and chances for all 12 zodiac signs. The 2020 Astrology forecasts that the year will be refreshing and full of new challenges for some particular zodiac signs. Let’s have look at some of the zodiac signs and their future predictions.

Aries-

  The year 2020 has something big and interesting for you, as it is coming with new challenges and opportunities for you in the upcoming year. In the horoscope of Aries people, Jupiter along with Saturn and Mercury are going to position in the 10th house, which is the indication that you will be going to achieve something big in the future. But don’t forget to put your hard work in your job or career to make your life easy going. The money will be stable and you should not use your cunning and strategies to gain money in an unethical way.

Taurus-

Including the planet Jupiter and Saturn the Mercury is seen to be weaker in the 9th position of the house. Don’t be tensed about it because it will not go to harm you. All you need here is to work with full of your heart and mind. There are chances of having a religious trip in 2020, if you are interested in spirituality then it will surely lead you to a religious journey. The trip is going to help you to get new ideas and to gain the capacity to fight with battels and stress in your life.

Gemini-

  The planet Saturn will be going to positioned at the 9th house in your horoscope. This year going to be positive for you as you will face peace of mind and satisfaction within yourself. It might be possible that you can have some health-related issues this year. You can start exercises and Yoga to make yourself fit and to avoid unusual illnesses and diseases.

Cancer-

All the major astrological planets are going to positioned in the 7th house, Jupiter is seen to be weak here, as you may face new challenges and difficulty in this upcoming year. Here you need to start working on your self-esteem to be motivated and empowered towards your goals.

Leo-

In 2020 the Sun is going to rule your sign and all the major planets are going to be positioned at 6th house. Here you can expect some major changes in your life. You should also stop thinking about unnecessary things. In the mid-2020 you can expect some good luck for you, as destiny is going to have something big for you.

 

To know more about 2020 Astrology predictions, follow our website blogs or you can also learn Astrology from the Institute of Vedic Astrology with their online distance learning course.

Read More
GEMS_HEALING_&_CRYSTAL_THERAPY By Institute of Vedic Astrology Dec 26 2019

मोती एक नाम अनेक

हिंदी में जिसे मोती कहते हैं, संस्कृत में उसे मुक्ता कहते हैं या मुक्ता फल कहते हैं, अरबी और फारसी में गौहर मौरवादीद और अंग्रेजी में पर्ल कहते हैं।

प्राप्ति स्थान

मूंगे की तरह मोती भी पत्थर ना होकर जीवो विशेष के पेट से उत्पन्न होने वाला एकशैलखंड है। मोती की उत्पत्ति के विषय में अनेक मत प्रचलित हैं, सबका सार यह है कि समुद्री सीप की एक जाति विशेष के पेट से मोती निकलता है। यह सीप शिकारियों के द्वारा पकड़ा जाता है और फिर उसे मारकर पेट चीरकर मोती निकाला जाता है। अब तो वैज्ञानिकों ने कृत्रिम मोती बनाना प्रारंभ कर दिए हैं। समुद्री सीपी पाल कर उन्हें कुछ ऐसे विशिष्ट पदार्थ खिलाए जाते हैं जो सीपी के पेट में स्थित होकर विभिन्न तत्वों से अवतरित होकर मोती के रूप में बाजार में आते हैं, किंतु सर्वश्रेष्ठ मोती वही होता है, जो प्राकृतिक रूप में सीपी के पेट से निर्मित हुआ हो और चमक बनावट की दृष्टि से निर्दोष हो।

मोती के गुण

.मोती एकऐसारत्न है, जो कई सदियों से मनुष्य को लुभाता चला आ रहा है।मोती को रोजमर्रा की जरूरतों के हिसाब से पहना जा सकता है। साथ ही मोती एक ऐसा रत्न है, जिसे पूरे समय धारण किया जा सकता है। मोती की बनावट के अनुसार मोती के उपयोग भी होते हैं। मोती चंद्रमा ग्रह का रत्न है और चंद्रमा ग्रह निश्चित रूप से मन का कारक होता है। इसलिए सीधी सी बात है, कि मोती रत्न मन पर बहुत प्रभाव डालता है। एक अच्छा मोती मन को नियंत्रित कर पूरे जीवन को व्यवस्थित कर सकता है। ऐसे लोग जिनका मन बहुत चंचल होता है और उस चंचलता के कारण यदि वे जीवन में असफल होते हैं, तब मोती सबसे बढ़िया साधन होता है। उस मन को स्थिर करने का परंतु उसके लिए चपटा मोती धारण किया जाता है। एक स्वच्छ और चपटा मोती मन को व्यवस्थित कर एकाग्र करता है।इसके लिए बसरा का चपटा मोती श्रेष्ठ होता है।

ज्योतिष के आइने में मोती

कर्क लग्न का स्वामी चंद्रमा होता है और चंद्रमा का रत्न मोती होता है। इस आधार पर चंद्र रत्न मोती कर्क लग्न वालों के लिए निर्विवाद रूप से अनुकूल सिद्ध होता है। मोती धारण करके कर्क लग्न वाले व्यक्ति बहुत कुछ लाभ की अनुभूति करते हैं। सद्विचार, दीर्घायु, बौद्धिक, संपन्नता, स्वास्थ्य, लाभ, सौंदर्य, सद्भावना और प्रणयक्षेत्र में मोती उन्हें निश्चित रूप से लाभकारी होता है। ऐसे जातक यदि आजीवन मोती पहनने रहे, तो सहसा उन्हें किसी अभाव विरोध और विसंगतियों का सामना नहीं करना पड़ता है।

मोती एक औषधि के रूप में

सौंदर्य के अनुसार तो मोती रत्न और लाभकारी होता ही है। परंतु औषधि के रूप में भी मोती बहुत लाभकारी होता है। यदि मोती नारंगी रंग का है, तो वह रक्तविकार, रक्तस्त्राव, नेत्र विका,र तिमिर रोग, वक्ष पीड़ा, शारीरिक दुर्बलता, शक्ति हास, दृष्टि दोष, वीर्य दोष और कांति हास आदि रोगों में बहुत लाभकारी औषधि के रूप में सिद्ध होता है और इस बात की पुष्टि ज्योतिष शास्त्र के साथ-साथ भौतिक शास्त्र यानी कि पदार्थ विज्ञान शास्त्र भी कर चुका है।

विशेष रोग मिर्गी में मोती

भारतीय विद्वानों ने रत्नों के विभिन्न उपयोगों का अनुसंधान किया है। उनका निष्कर्ष है, कि जिस प्रकार आयुर्वेद में रत्नों की भस्म और पीष्ठी का प्रभाव रोग निवारक होता है। उसी प्रकार रत्न को उसके मूल रूप में धारण करने से भी रोग विकार शांत होते हैं। मिर्गी के रोग में मोती रत्न चमत्कारी प्रभाव दिखाता है। भ्रम, उन्मत्ता,मौन, प्रलाप और चेतना दौरा मिर्गी जैसे उपद्रव में और उनके शमन में मोती बहुत चमत्कार करता है। मानसिक और मस्तिष्क संबंधी विकारों में मोती धारण करके रोगी जन पर्याप्त लाभ उठा सकते हैं।

मोती विभिन्न आयाम

अंक शास्त्र के अनुसार मूल अंक दो होने पर उसके स्वामी ग्रह चंद्रमा के अनुकूल रत्न मोती पहनने पर लाभ प्राप्त होता है। साथ ही जब वर्णों के अनुसार रत्नों का विभाजन किया जाता है, तो वैश्य वर्ण के लिए मोती रत्न उपयोगी होता है। इसका अर्थ यह हुआ कि व्यापारी वर्ग यदि मोती धारण करता है और विशेषकर सबसे छोटी उंगली में यदि मोती पहनते हैं, तो व्यापारी वर्ग के लिए यह बहुत लाभकारी सिद्ध होता है। वैवाहिक अवसर पर वधु को मोती का उपहार दिया जाना कल्याणकारी होता है। वैसे भी मोती शांति दायक है, इसे धारण करने से व्यक्ति की मानसिक.अस्थिरता, उलझन, उत्तेजना, शुष्कता दूर हो जाती है यह रत्न ज्वर और मस्तिष्क की।उष्णता को शांत करके तन मन को निरोग व शीतल बनाता है।

सभी लग्न और मोती

मेष लग्न वाले जातकों का चंद्रमा कुंडली के चतुर्थ भाव में विराजमान होता है, यह एक शुभ स्थिति है। उधर मेष लग्न का स्वामी मंगल है, जो चंद्रमा का मित्र है। इस प्रकार मेष लग्न से चंद्रमा को सहयोग मिलता है। ऐसे लोग मोती धारण करके चंद्रमा और मंगल दोनों की कृपा प्राप्त करते हैं। वृषभ लग्न वालों को मोती नहीं पहनना चाहिए। मिथुन लग्न वाले जातक के लिए मोती का प्रभाव आने का होता है, उसे यह रत्न धारण नहीं करना चाहिए। कर्क लग्न का स्वामी चंद्रमा है, इस आधार पर चंद्र रत्न मोती कर्क लग्न वालों के लिए निर्विवाद रूप से अनुकूल सिद्ध होता है। मोती धारण करके कर्क लग्न वाले व्यक्ति बहुत कुछ लाभ की अनुभूति करते हैं। सिंह लग्न वाले जातकों के लिए मोती हानि-कार होता है। अतः उन्हें नहीं पहनना चाहिए। कन्या लग्न वाला व्यक्ति को मोती रत्न विविध प्रकार के भौतिक सुख उपलब्ध कराता है। ऐसे व्यक्ति यश, कीर्ति, मान-सम्मान, संतान-सुख और अर्थ लाभ अवश्य प्राप्त करते हैं। तुला लग्न वालों को मोती धारण करना वर्जित है। चंद्रमा की स्थिति वृश्चिक लग्न वालों के लिए अनुकूल रहती है, अतः चंद्र रत्न मोती उन्हें शुभ फल देता है। ऐसे ऐसे लोग जो वृश्चिक लग्न में जन्मे हो, मोती धारण करके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में व्यवसाय, धन, उपार्जन, यात्रा, आध्यात्मिक क्षेत्र में लाभ उठाते हैं। धनु लग्न वालों को मोती नहीं पहनना चाहिए। मकर लग्न वालों को भी मोती नहीं पहनना चाहिए। कुंभ लग्न वालों को भी मोती विशेष फलदाई नहीं होता है, परंतु मीन लग्न वालों को मोती पहनने से लाभ मिलता है।

इसी तरह के अन्य रत्नो के बारे में जानने के लिए आप हमारे संसथान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी से जेम्स एंड क्रिस्टलथेरेपी में पत्राचार द्वारा अध्यन कर सकते है।

Read More
NUMEROLOGY By Institute of Vedic Astrology Dec 24 2019

  Following the path suggested by any number can be a myth but it’s true that every number holds your destiny according to your date of birth. Everything related to your numerology is dependent on your date of birth. 
            There are many types of numbers which vary person to person according to his date of birth and sometimes the time of birth. 
                In numerology, there are some numbers which are termed as lucky numbers, unlucky numbers, life path numbers or auspicious/inauspicious numbers. Then there come the master numbers, they can be just as much of a curse as they can be a blessing also.
Every number in numerology is significant, yet there are special numbers which can be observed by the numerologists as master numbers. Those master numbers of numerology are 11, 22, and 33. 
           Number 11, 22 and 33 are called as master numbers in numerology which can be proved as strongest numbers for the person who have these numbers in his or her birth chart. 
       These numbers have profoundly powerful meanings in it and they can appear in your chart, they can advise you in difficult situations of your life. 

With the help of numerology and the master numbers, you can uncover your specific yet hidden and unique talents so that you can increase the chances for success in all fields of your life. 
 
Number 11-
     This number represents instinct and it is the most intuitive of all the numbers. It will give you the feeling of knowledge and is also termed as a ‘number of faith’.  The negative aspect related to this number is anxiety, shyness, and stress in humans. 
If you have this number in your numerology chart, you can use this number to create personal power and spiritual development. 

Number 22-
A person with this number holds great confidence and leadership qualities. It is the practical number, as it can be beneficial for the people who are attached with business-related activities. People with this number are capable of changing their lush dreams into solid reality. 

Number 33-
The person having 33 in his or her numerology chart has the ability to throw them into a project that goes far beyond the practicality and makes it come true. 
Number 33 is rare and it is only significant if it is one of your core numbers like life path number, personality number, heart desire number, etc. 
These people are highly knowledgeable and always recheck the facts before executing any new project or idea. 

Learn Numerology to understand more about numbers and its meaning in your life. 

Institute of Vedic Astrology is offering you online training in a distance learning course of numerology, under supervision of experts in numerology. Come join the course to become a numerology expert. 

   Following the path suggested by any number can be a myth but it’s true that every number holds your destiny according to you date of birth. Everything related to your numerology is dependent on your date of birth.
There are many types of numbers which vary person to person according to his date of birth and sometimes time of birth.
In numerology there are some numbers which are termed as lucky numbers, unlucky numbers, life path numbers or auspicious/inauspicious numbers. Then there comes the master numbers, they can be just as much of a curse as they can be a blessing also.
Every number in numerology is significant, yet there are special numbers which can be observed by the numerologists as master numbers. Those master numbers of numerology are 11, 22, and 33.
Number 11, 22 and 33 are called as master numbers in numerology which can be proved as strongest numbers for the person who have these numbers in his or her birth chart.
These numbers have profoundly powerful meanings in it and they can appear in your chart, they can advice you in difficult situations of your life.

With the help of numerology and the master numbers, you can uncover your specific yet hidden and unique talents, so that you can increase the chances for success in all fields of your life.
 

Number 11-
This number represents instinct and it is the most intuitive of all the numbers. It will give you the feeling of knowledge and is also termed as a ‘number of faith’.  The negative aspect related to this number is anxiety, shyness, and stress in humans.
If you have this number in your numerology chart, you can use this number to create personal power and spiritual development.

Number 22-
A person with this number holds great confidence and leadership qualities. It is the practical number, as it can be beneficial for the people who are attached with business-related activities. People with this number are capable of changing their lush dreams into solid reality.

Number 33-
The person having 33 in his or her numerology chart has the ability to throw them into a project that goes far beyond the practicality and makes it come true.
Number 33 is rare and it is only significant if it is one of your core numbers like life path number, personality number, heart desire number, etc.
These people are highly knowledgeable and always recheck the facts before executing any new project or idea.

Learn Numerology to understand more about numbers and its meaning in your life.

Institute of Vedic Astrology is offering you online training in distance learning course of numerology, under the supervision of experts in numerology. Come join the course to become a numerology expert.

Read More
KPAsrology By Institute of Vedic Astrology Dec 21 2019

Every person wants to know the answer to their different life-related questions like which things are going to happen and when? When they will get married or when they will get the right job? Here the term known as KP Astrology will surely work for them to predict their upcoming life or future events in a much predictional manner.

Astrology is the science related to the planets and KP Astrology is the extension of Astrology. The KP Astrology is basically known as Krishnamurthy Paddhatti Astrology which was developed by the late prof. Krishnamurthy. The KP Astrology is developed with the help of Vedic Astrology which is Indian Astrology and Western Astrology which is generally used in Western countries. So, we can say that this is developed with a mixture of both Vedic and Western Astrology.

The KP Astrology system of Astrology is commonly used to predict future events with higher accuracy. In Vedic Astrology, things can be predicted easily like what things will going to happen in the future but KP Astrology shows that when things are going to happen.

What is Krishnamurthy Paddhatti Astrology?

In the KP Astrology, the birth chart is made by classifying the 12 houses of the birth chart. This system of Astrology suggests besides looking for the planet movement and positions on the particular sign, you can look for the planet according to the placement in the particular constellation (Nakshaktras). Also, it is important to look for the lord of the particular constellation. So, hereafter seeing the positions and movements according to the constellations the final predictions are done. Through this system and process, the new technique of astrological prediction has been developed. This is the easiest method of getting the right future predictions.
In this system, no planet is auspicious or inauspicious. This system suggests that those planets who are giving its positive impacts are the auspicious planet and the one who is not are inauspicious planet.

Principles to predict any event as per KP Astrology-
The one and most important principle to predict the future according to the KP Astrology are that one should look after the main house in the birth chart and its upper constellation (Nakshaktras) lord. And if the lord is in the higher house in the birth chart then it will give better results in the event prediction. To get the right time prediction in this system the astrologer looks after the ‘Vimshottari Mahadasha’ according to the KP Astrology.

Prashna Kundali (Question chart)  the new trend-
According to our Hindu Astrology system if any person has got his or her birth chart or not he will always have many questions that are not possible to be answered only with the help of the birth chart that questioned are answered with the help of Prashna Kundali (Question chart). General questions like, when a person will get married, when the child is going to take birth or when one will get a house or flat etc, this type of questions are generally answered with the help of birth chart only, but to get to know about, at which floor one will get the flat can be answered with the help of question chart. When will someone gets the job can be answered by the birth chart but in which area, field or post one will get the job this can be answered by the Question Chart easily.
In this process, the question chart is been prepared to give the answers to the questioner. The answers are given according to the planetary positions and effects at that particular time, this is how the KP Astrology system works.

Where to learn about KP Astrology?

Anything can be learned easily through various methods and techniques. KP Astrology can also be learned easily through various options available in front of you. The best option to learn about KP Astrology is from the Institute of Vedic Astrology. The institute is known for its quality education in online distance learning courses with the guidance of expert faculties and study material. Join the institute and learn the art of predicting future events.


 

Read More
Astrology By Institute of Vedic Astrology Dec 19 2019

कन्या राशि वालों का पंचमी शनि

गोचर क्या है।

हम सभी जानते हैं, कि पृथ्वी के साथ-साथ सभी ग्रह सूर्य का चक्कर लगाते हैं। यही गोचर कहलाता है। चंद्रमा सबसे तीव्र गति से परिक्रमा करता है और शनि सबसे धीमी गति से परिक्रमा करता है। इसी गति को समझने के लिए मनुष्य ने जन्म कुंडली का निर्माण किया और उसमें 12 खाने बनाए। इन 12 खानों को भाव कहते हैं और एक राशि में किसी ग्रह के रहने का समय और फिर अगली राशि में जाने को उसका गोचर कहते हैं। चंद्रमा सबसे एक राशि से दूसरी राशि 2.15 दिन में पहुंच जाता है। जबकि शनि ग्रह को एक राशि से दूसरी राशि तक जाने में ढाई वर्ष लगते हैं।

शनि ग्रह

ऐसे तो शनि ग्रह बड़ा लाभदायक रहता है, परंतु वह बहुत धीमा चलने वाला होता है और धीमी गति से परंतु स्थाई लाभ देता है। जब शनि ग्रह नाराज हो जाता है या फिर कष्ट देता है तो वह अत्याधिक कष्ट देता है। जनसाधारण में शनि की साढ़ेसाती बहुत प्रचलित है, क्योंकि साढ़ेसाती में पूरे साढे सात वर्ष कष्ट के ही बीते हैं, परंतु शनि की एक स्थिति ऐसी भी होती है। जो भी जो साढ़ेसाती के बराबर ही कष्ट देती है और वह स्थिति होती है चंद्र लग्न से पंचम स्थान का शनि इसे कहते हैं पंचमी शनि और कर्नाटक में एक कहावत है कि पंचमी शनि फूटे मटके में खाना खिलाता है।

पंचमी शनि कैसे कष्ट देता है

कर्नाटक प्रदेश में साढ़ेसाती से अधिक दर पंचम शनि का मानते हैं। शनि जब पंचम भाव में हो, तो उसकी दृष्टि धन दौलत के दोनों भागों अर्थात द्वितीय तथा एकादश पर पड़ती है। साथ ही व्यापार के स्थान सप्तम भाव पर भी इस कारण उनका यह डर भी निर्मल नहीं। जब मनुष्य के धन भाव और लाभ भाव पर संकट आता है, तो निश्चित रूप से उसे बहुत कष्ट प्राप्त होता है। साथ ही पंचम स्थान में स्थित शनि की दृष्टि सातवें भाव पर पड़ती है। जो कि व्यापार का भाव है और दांपत्य जीवन का भाव है। व्यापार पर संकट आना मनुष्य पर के जीवन पर संकट आने जैसा होता है। साथ ही दांपत्य जीवन में मतभेद होना और भी कष्टकारी बात होती है।

पंचमी शनि कौन-कौन से कष्ट देता है।

24 जनवरी 2020 को शनि मकर राशि में प्रवेश करेगा और कन्या राशि वालों के लिए यह शनि पंचमी शनि रहेगा। तो अगले ढाई वर्षों तक कन्या राशि वालों को कुछ परेशानियां हो सकती है, परंतु यदि अभी से उपाय किए जाएं। तो शनि कष्ट नहीं देगा, अन्यथा शनि धन की हानि करता है साथ ही आय को कम करता है। जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद देता है। समाधान इस संकट से बचने के लिए बहुत सारे उपाय और समाधान हमारे पास हैं, परंतु उनको समझने के पहले हम शनि ग्रह के स्वभाव को समझते हैं। शनि ग्रह ऐसा ग्रह होता है, जो पहले व्यसनों के लिए उकसाता है, परंतु बाद में वही दंड भी देता है। तो हम इस सब से बचने के लिए यह उपाय करें, कि इस छोटी ढहिया के दौरान व्यसनों का त्याग कर दें। साथ ही यदि कहीं बाहर जाना पड़े, तो अपने साथ घर से भोजन लेकर चले, साथ ही पानी भी लेकर चले। जहां तक संभव हो इसके साथ ही यदि किसी रिश्तेदार के घर भोजन करना पड़े। तो किसी ना किसी रूप में उस भोजन की कीमत अदा कर दे। इस अवधि में ना तो किसी से लोहा दान में लें और ना ही किसी को लोहा दान करें और ना ही लोहा खरीदें। जहां तक संभव हो अपाहिजओं को कंबल का दान करें और यदि वह विधवा हो और साथ ही अपाहिज भी हो तो अति उत्तम।

प्रभावशाली उपाय

शनि की इस छोटी ढैया के दौरान दान करने वाली जो वस्तुएं होती है। वह काला उड़द, तेल, नीलम, काला तिल, कुलथी, भैंस, लोहा बर्तन के रूप में, दक्षणा, काला कपड़ा आदि पदार्थों का दान, शनि ग्रह की प्रसन्नता के लिए करना चाहिए। साथ ही शनि की स्तुति का मंत्र

नीलांजन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम ।
छाया मार्तंड संभुतम तम नमामि शनिश्चरा।।

इस मंत्र की स्तुति करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। साथ ही मंत्र के जप करने से जो कि दो प्रकार के मंत्र हैं पहला है।

“ओम शं शनिश्चराय नमः” और दूसरा “ओम प्राम प्रीम प्रौम स शनिश्चराय नमः” साथ ही विशेष रूप से शिवपूजन, हनुमंत पूजन और महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।

इसी तरह के कई विषयो के बारे अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे सर्वश्रेठ संसथान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी से ज्योतिष शास्त्र में दूरस्थ पाठ्यक्रम द्वारा अध्ययन कर सकते है। जो आपको इसे अध्ययन करने के तीन प्रकार के कोर्स उपलब्ध करता है, जैसे वैदिक ज्योतिष शास्त्र, वीडियो द्वारा वैदिक ज्योतिष शास्त्र और कॉम्बो कोर्स

 

Read More