My Cart
close

Learn Astrology-Vastu Online from Institute of Vedic Astrology AN ISO 9001:2015 CERTIFIED INSTITUTE

Institute of Vedic Astrology is the finest destination for all those who are keen to study Astrology, Vastu, Palmistry, Numerology and allied subjects. IVA was founded in the year 1999. IVA courses are based on innovative Remote Learning Training System (RLTS) that is designed to provide quality education through distance education. Institute of Vedic Astrology Indore’s sustained commitment to Quality and Research has enabled it to earn the prestigious award of ISO 9001-2015 certification (Certificate No. RQ91/9466 ICS) for quality assurance. This award reflects institute’s excellence in quality education through distance learning programs in Vedic Astrology, Palmistry, Vedic Vastu Shastra, Feng Shui, Gems Healing and Crystals Therapy, KP Astrology, Tarot Card Reading and Numerology.

Learn Combo Courses at upto 50% Discounted Fees

 
Vedic Astrology Combo Course (with dual Certification)

Vedic Astrology Advance Diploma Distance Learning Course (1600+ Pages of Study Material)
+
Vedic Astrology Video Foundation Course (400+ Video Lessons) (Available in Hindi also)

 
Vedic Vastu Combo Course (with dual Certification)

Vedic Vastu Advance Diploma Distance Learning Course (1200+ Pages of Study Material)
+
Vedic Vastu Video Foundation Course (150+ Pages of Video Lessons) (Available in Hindi also)

 
Tarot Card Reading Combo Course (with dual Certification)

Tarot Card Reading Advance Diploma Distance Learning Course (1000+ Pages of Study Material)
+
Tarot Card Reading Video Foundation Course (325+ Pages of Video Lessons)

International Students

int-student-girl
flags

Courses in many Countries

Institute of Vedic Astrology has a dedicated department for International Students. That is why students from 42 countries have joined our courses and counting….

Most Trusted by International Students

India mostly referred to as “Teacher of the world”. The whole world is now realizing the power of Indians methods of Yoga, Pranayama, Vedic Astrology, Vastu Shastra, etc. Institute of Vedic Astrology has become one of the most trusted destinations for international students to learn the deeper ancient sciences of Astrology, Vastu, Palmistry, Numerology, Gems Healing & Crystal Therapy and KP Astrology.

Panel Of Experts

SREE RAMA
Vedic Astrologer, Sayan System
SATISH LODHA
Industrial Vastu Expert
NEELIMA NILESSH SARDA
Numerologist
PRAKASH PANJABI
Certified Gemologist & Tarot Expert
MANOJ UPADHYAY
Chemical Engineer & Eminent Palmist
PARUL DOSHI
Chinese Horoscope Expert
MEENA DHANJI GALA
Gems & Crystal Therapist & Healer
J. P. MISHRA
Vedic Astrologer, Parashar System
AR. SUSHANT PATIL
Vastu & Building Energy Expert
PRIYABRATTA DAS
Tarot Reader & Clairvoyant
GAUTAM AGRAWAL
Interior Designer & Feng Shui (Form School)
H S SRIDHAR
Astro-Numerology Expert
DR. RAJAN R MAYEKAR
Vastu Remedy Expert, Architect
PDT RAVIKANT SHASTRI
Vedic Astrologer, Niryan System
VIKAS JAIN
Innovator, Educationalist
DINESH THAKUR
Tarot Reader & Dowser
ATUL SHARMA
Numerologist & Nadi Shastra
JEWELLER KAMAL SONI
Professional Jeweller
Rahul Agrawal
Innovator, Educationalist
PDT SHIV NARAYAN SHARMA
Vedic Samudrik Shastra Expert
ARPIT JAIN, MBA
Thinker
SYED RASHID ALI
Design Expert
HEMANT BAID
Layout Planner

Specialisation Courses 1 st Specialisation Course is given free with Professional Diploma Course

  • Astrology

    Medical Astrology

    Mercantile (Business) Astrology

    Muhurat Shastra (Available in Hindi ONLY)

    6 extra modules in Astrology explaining concepts more logically
     
  • Vastu

    Commercial Vastu

    Industrial Vastu

    Environmental Vastu

    Geomancy

    3 extra modules in Vastu explaining corrections without breaking structures
     

TESTIMONIALS

It gives me immense pleasure to inform that I was thoroughly satisfied by the useful knowledge extended to me by your course. Needless to add that after completion of the course I am full of self confidence in my abilities. Best regards.

DR. SMRITI CHOURASIA Korba (BAMS, SVD, PGDIV, PGDIG)
testimonial

I did Vedic Vaastu and Numerlogy courses as a part time hobby. These course have given me a new way to my life. I have got good guidance and support that was unimaginable le. Whoever can learn these courses even has a hobby will have great impact on intellect and lifestyles. Thanks IVA team.

CA ASHWIN SETHI Jabalpur (PGDIN, PGDIV)
testimonial

The course is very exhaustive and nicely explained. I faced some problems in understanding few concepts which was solved by IVA experts immediately. Now I am gaining confidence in the subject. Would like to join Tarot Reading after completing this. Thanks IVA.

HEERAL CHHELAVDA Ahmedabad (PGDIA)
testimonial

I am an Engineer and self-employed professional. Learning Vedic Vastu Shastra from IVA had greatly helped me in my professional career. I recommend this course to all people related to construction. People who have Vastu related problem in their properties will also surely benefit from this.

ER. SUNIL KUMAR Delhi (B.E. PGDIV)
testimonial

मैं नि: संकोच यह कहना चाहूंगी कि IVA हर द़ृष्टि से एक आदर्श संस्थान है जिसमें छात्रों की कठिनाइयों का त्वरित हल किया जाता है। पाठ्यक्रम का अध्ययन कर मैं अंक शास्त्र को पार्ट टाईम के रूप में उपयोग कर धन एवं प्रतिष्ठा प्राप्त कर रही हूँ अब मैं हस्त रेखा शास्त्र का कोर्स संस्थान से कर रही हूँ और आशा करती हूँ कि यह मेरे कैरियर में चार चाँद लगा देगा।.

SMT. SIMMI LADIA Varanasi (PGDIP, PGDIN)
testimonial

Excellent courses. Excellent people. Excellent support. Gr8 learning experience., God Bless.

Ranbir Kaur Baidwan, Patiala (PGDIV, PGDIA, PGDIK, PGDIG, PGDIF, PGDIN, PGDIT)
testimonial

मैंने IVA से ज्योतिष में पोष्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा की उपाधी प्राप्त की है। एक वर्ष कैसे बीत गया पता ही नहीं चला। पहले माड्यूल से ही दूसरे की प्रतिक्षा रहती थी। इसी संस्थान ने मुझे इस योग्य बना दिया है कि मैं अर्जित ज्ञान का सदुपयोग करते हुए शनै-शनै इस क्षेत्र में पेशेवर की तरह कार्य करने लगा हूँ।

Piyush Chiraniya, Kolkata (PGDIA, PGDIV)
testimonial

The astrology course was very informative and the practical, case studies and examples were well supported and taught in simplified user & friendly language. Staff were helpful. IBA definitely deserves ISO certification for its commitment to quality. I wish IVA the God speed.

N. Pramod Kumar, Bangalore (PGDIA, PGDIV)
testimonial

(Translated) Being a priest by profession, I had learnt Vedic Astrology and Vedic Vastu From FVA in 2004. Now, I don’t get time to perform puja for people. Instead, I have a big list of clients and industrialists who regularly take my advice for all their personal, professional, commercial and social matters. Especially the material on Dosha and their remedies is very comprehensive. Now, I am learning gems and Crystal Therapy. Om Swasti.

Pdt. Vijay Kumar Shastri, Rishikesh (B.A. (Sanskrit), PGDIV, PGDIA, PGDIG)
testimonial

मैंने वास्तु शास्त्र पर कई किताबों का अध्ययन कर के अपने बंगले का निर्माण करवाया। किन्तु कई वर्ष बाद अपने मित्र की सलाह में मैंने प्ट। के वास्तु पाठ्यक्रम में प्रवेश लिया। कोर्स के दौरान मैंने पाया की मेरा ज्ञान अधूरा था जिसके कारण मेरे बंगले में अनेकों वास्तु दोष उत्पन्न हो गये थे। माड्यूल 11 एवं 12 द्वारा मैंने इनके समाधान को समझा व बिना तोड़-फोड़ के उसे सही करना भी जाना।

Shri Hemant Sharma, Jaipur (PGDIV, PGDIF, PGDIN)
testimonial

Institute of Vedic Astrology is the Right Choice to Learn

 
1000+ pages of exhaustive Study Material
 
Dedicated Student Doubt Clearing Cell
 
Integrated Learning approach
 
Audio lessons in Astrology and Vastu
 
Practical Approach to Subject
 
Case Studies
 
Unique Orientation course to professionally practice what you have learnt
 
Become a professional after completing the course
 
Usually doubts are answered / cleared in 24 hours on Working Days (except weekends and holidays)

Blogs

बुरे राहु के संकेत क्या हैं?

भूमिका

प्रकृति ने मनुष्य को छठी इंद्री के रूप में मन का उपहार दिया है। इस सौगात के बलबूते पर मनुष्य कई अनसुलझी पहेलियां भी सुलझा लेता है और कई रहस्यों से पर्दा भी उठा सकता है।  उनमें से एक गुण यह है कि वह शुभ या अशुभ को देखकर उनके मूलभूत कारणों का पता भी लगा सकता है| शायद यही वजह है, कि ज्योतिष शास्त्र के आधार पर जीवन में होने वाले कष्ट देखकर राहु के अशुभ होने की बात पता लगा सकते हैं|

स्थितियां कष्टों के अनुसार अशुभ राहु -

जीवन में जब कष्ट आते हैं, तो उनके कारण अशुभ ग्रह होते हैं। अलग-अलग ग्रहों के अशुभ होने पर अलग-अलग प्रकार के कष्ट मिलते हैं। हम राहु की विभिन्न अशुभ स्थिति को उनके परिणामों द्वारा समझते हैं।

  1. यदि जीवन में सुख की हानि है या अपमान मिल रहा हो या परिवार से समाज से अपमान मिल रहा हो तो समझना चाहिए कि राहु जन्म कुंडली में अशुभ होकर लग्न में बैठा है।
  2. यदि जातक को धन हानि हो रही हो, खास कर स्थाई या पैतृक संपत्ति की हानि से नुकसान हो या व्यापार में धन हानि हो या जातक की वाणी में क्षोभ हो या वाणी में कटुता कहीं गई हो या कुटुम से वियोग या विरोध हो तब उस स्थिति में राहु अशुभ होकर द्वितीय भाव अर्थात धन भाव में बैठा होता हैl
  3. यदि जातक के परिवार में कलह - क्लेश बढ़ गया हो या उसके मन में दुख निराशा हो या कृषि या संपदा की हानि हो रही हो, तो निश्चित रूप से अशुभ राहु चौथे भाव अर्थात माता के भाव में स्थित है।
  4. यदि जातक की बुद्धि भ्रमित होने के कारण हानि हो रही हो या उसे सबके प्रति कु विचार आते हो या वह कुसंगति में पड़ गया हो या उसे पुत्र या मित्रों से दुख व क्लेश मिल रहा हो या उसके हर कार्य में बाधा आती हो तो समझना चाहिए कि अशुभ राहु पंचम भाव में स्थित हैl
  5. यदि जातक के अपनी पत्नी से मतभेद हो या उसके दांपत्य जीवन में तनाव हो या उसके साथ अलगाव की स्थिति हो तो निश्चित रूप से अशुभ राहु सप्तम भाव अर्थात विवाह स्थान में स्थित है ।
  6. यदि जातक को हर क्षेत्र में अपमान मिल रहा हो या हर कार्य में असफलता वह अपयश मिल रहा हो या उसके पद से उसे कई बार अब अवनति मिलती हो या उसे महान शारीरिक कष्ट उठाने पड़ते हो तो ऐसे में जन्म कुंडली में अशुभ राहु अष्टम भाव अर्थात मृत्यु के स्थान में स्थित होता है l
  7. यदि जातक के अपने पिता से मतभेद या विरोध होते हो या गुरुजन से विरोध होते हो या उसके भाग्य में बाधा या हानि होती है, तो उस स्थिति में राहु अशुभ होकर नवम भाव अर्थात भाग्य स्थान में स्थित है।
  8. यदि जातक के आपस में खर्चे बढ़ गए हो या उसे अनावश्यक जुर्माना भरना पड़ रहा हो या दंड का भागी बन रहा हो या उसे शारीरिक पीड़ा अधिक हो या उसकी बंधन की स्थितियां हो तो निश्चित रूप से अशुभ राहु द्वादश भाव अर्थात बारहवें स्थान में स्थित है।

निष्कर्ष- इस प्रकार जातक के जीवन में मिलने वाले परिणामों से राहु के अशुभ या शुभ होने के संकेत मिलते हैं।

अपने जीवन या संबंधित लोगों के इन तत्वों और पहलुओं के बारे में अधिक जानने के लिए आप IVA से ज्योतिष के विषय में ऑनलाइन अधययन कर सकते हैं। आप भी एक कुशल ज्योतिष बन सकते है, अगर आप किसी प्रतिष्ठित संसथान से वैदिक ज्योतिष विषय में अध्यन करते है, तो जैसे  इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी

 

 

वास्तु के यह पौधे आपके घर को बना देंगे स्वर्ग

हमारे जीवन में पौधों की भूमिका

सबसे पहले यह पृथ्वी आग का गोला थी फिर यह ठंडी हुई और इतनी ठंडी हुई कि फिर इस पर सबसे पहले वनस्पति उगना प्रारंभ हुई और उसके बाद जीव जंतु आए और अंत में मनुष्य शायद इसीलिए मनुष्य को आज भी मैं वनस्पतियों और प्रकृति से बहुत प्रेम है क्योंकि वह उन्हीं का एक हिस्सा है वनस्पति में भी कुछ पौधे जंगली होते हैं परंतु कुछ पौधे लाभकारी होते हैं वह आपके मन को भी खुशी देते हैं और आपके शरीर को स्वास्थ्य देते हैं साथी आपके घर का वातावरण उर्जा माई बना देते हैं

पौधे कुछ कहते हैं

जब हम घर बनाते हैं तब हमें यह नहीं पता चलता कि हमें कौन से पौधे लगाने हैं तो हमें जो पौधे मिल जाते हैं हम उन पौधों को ही लगा लेते हैं परंतु सभी पौधे शुभ नहीं होते हैं कुछ पौधे जैसे नागफनी या कैक्टस बहुत कांटेदार पौधे हमारे घर के लिए भी शुभ नहीं होते हैं और हमारे मन की स्थिति के लिए भी शुभ नहीं होते हैं इसके स्थान पर फूलदार रसिया खुशबू वाले वृक्ष हमारे मन को भी सुकून पहुंचाते हैं और हमारे घर के वातावरण में एक नई ऊर्जा लाते हैं तू हम समझते हैं कि कौन से पौधे लगाना चाहिए और कौन से पौधे नहीं लगाना चाहिए

चमत्कारी पौधे

कुछ पौधे घर की सकारात्मक ऊर्जा के लिए चमत्कारी सिद्ध होते हैं परंतु उन्हें किस दिशा में लगाना यदि इस बात का भी ध्यान रख लिया जाए तो और अधिक शुभ होता है घर की उत्तर दिशा में पौधों का रोपण करना शुभ होता है परंतु तुलसी को घर की सीमा में कहीं भी लगाना शुभ होता है पूर्णांक अशोक मोलश्री शमी तिलक चंपा अनार पीपली डाक अर्जुन गंभीर सुपारी कटहल केतकी मालती कमल चमेली मल्लिका नारियल केला एवं पाटन वृक्षों से सुशोभित घर लक्ष्मी का विस्तार करता है

अशोक वृक्ष

अपनी सगन सुखदाई नहीं छाया के द्वारा इस वक्त ने जिस प्रकार मां सीता के दुख को कम किया था ठीक उसी प्रकार इस वृक्ष के कई ऐसे औषधीय उपयोग हैं जो कि स्त्रियों में होने वाली व्याधियों को काफी हद तक करने में सक्षम है अशोक की छाल में टैनिन तथा कटे चिन्ह नामक रसायन पर्याप्त मात्रा में होते हैं जो कि औषधीय महत्व के हैं अशोक से निर्मित अशोकारिष्ट नामक औषधि बहुत गुणकारी है अशोक के बीजों को दो माशा चूर्ण को जल के साथ नित्य कुछ दिनों तक लेने से अश्वरी रोग चला जाता है अशोक के वृक्ष के नीचे स्नान करने वाले व्यक्ति की ग्रह जनित बाधाएं दूर होती हैं मंदबुद्धि स्मृति लोक के शिकार एवं ऐसे जातक जिनकी पत्रिका में बुध ग्रह नीच का हो उनके लिए अशोक वृक्ष के नीचे स्नान करना अत्यंत शुभ कार्य है

केला

केले का वृक्ष लगाना हर तरह से सुखदाई होता है जहां एक और केले के पत्ते पर भोजन किया जा सकता है थाली के रूप में वहीं पर दूसरी ओर पका हुआ केला शीतल वीर्य वर्धक शरीर के लिए पुष्टि दायक मांस को बढ़ाने वाला भूख प्यास को दूर करने वाला तथा नेत्र रोग और प्रमेह नाशक होता है पेट के कीड़े मारने तथा खून शुद्ध करने के लिए केले केले की जड़ के अर्क का सेवन लाभदायक है केले की अर्क को बनाने के लिए लगभग 1 किलो जल में 50 ग्राम केले की जड़ डालकर इतना गर्म करें कि जल की मात्रा आदि हो जाए इसके बाद इस मिश्रण को  96 यही छना हुआ जल केले का अर्थ है

पीपल

किसी भी घर में पश्चिम में पीपल वृक्ष का होना अत्यंत शुभ है ज्योतिष शास्त्र की मान्यता है कि शनि ग्रह से पीड़ित व्यक्ति को शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष की जड़ में जल चढ़ाने से पर्याप्त शांति प्राप्त होती है पीपल की परिक्रमा करने से देवता प्रसन्न होते हैं तथा ग्रहों का कुप्रभाव नहीं रहता है

अपने जीवन या संबंधित लोगों के इन तत्वों और पहलुओं के बारे में अधिक जानने के लिए आप IVA से वैदिक वास्तु के विषय में ऑनलाइन अधययन कर सकते हैं। आप भी एक कुशल ज्योतिष बन सकते है, अगर आप किसी प्रतिष्ठित संसथान से वैदिक ज्योतिष विषय में अध्यन करते है, तो जैसे  इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी

How to become a great Numerologist with Institute of Vedic Astrology

India is the land of culture, traditions, knowledge, art and more other different fields. Here any kind of knowledge is appreciable and empowered.  The one who wants to spend a different and unique life will always choose a different and interesting work field and career in their life. It is very important to spend different and individual life which will give you satisfaction and happiness in life.
Our happiness is our concern and our career is our choice. If you are looking for an easy yet interesting career field, then you can choose Numerology as your career field.

This is great for people who love numbers or mathematics. Well, don’t get scared! If you are not a math lover, Numerology still can be learned easily because it does not include deep math or formulas, as anyone can learn this art of numbers with basic math knowledge.

What Numerology is?
There are still many people who always think that the word or terminology ‘Numerology’ is full of confusing math, formulas and various principles but actually, Numerology is just the simple art of foretelling with the help of numbers.

Now you are in the thought that how will numbers can tell you the future! Yes, it can.
Numbers have the power of foretelling your future with deep meaning and relevant information. If you are aware of Astrology then surely you know that Astrology is a way to predict future through person’s date, time and day of birth. Through horoscope, the Astrologers tell the future and life-related information about the person. In the same way, Numerology also works.

In Numerology, the Numerologists use the date of birth of the person to predict his or her personality traits, destiny, events, and circumstances. Just like Astrology, Numerology provides a blueprint of the person’s life which is quite accurate.

The Numerology Numbers-
It is not a matter of confusion that normal numbers and Numerology are different. These are the normal numbers but with meaning, information and sometimes with mystical concepts. There are a variety of different series and expressions of numbers which hold different meaning and information.
According to the Numerologists, everything in this world is dependent upon the mystical properties of the numbers. Those you get aware of this can easily predict their future, career and many more things only with the help of numbers. Some kind of numbers in Numerology is:
-Life Path number
-Destiny number
-Love number

These are some kind of numbers which shows many things about person’s life and other various aspects. This is how numbers work in a human’s life to show them the right path.

How to be a Numerologist?
There are many ways to become a numerologist. But to become an expert in something, you have to learn the art perfectly. There are many options through which you can learn Numerology and become a Numerology expert but for that, you need proper certifications and skills to prove yourself in front of your clients.

Institute of Vedic Astrology, Indore is offering online distance learning courses in Numerology and other allied subjects which will give you the certification after the completion of course duration.
This course will help you to become a Numerology expert with their quality study content under the guidance of expert numerologists. 

Learn about different Mounts on your hand with Palmistry

Have you ever wondered that your hands are not just the hands but it is a deep source of information and secrets about you! Well, many of us haven’t thought about it before, that our hands are the sea of information. If you are aware of the art of Face Reading then you must know that Face Reading is the art of analyzing the features of the face just to get the deep knowledge and information about the person only with help of their facial parts.

In this art, you can get to know about yourself only by analyzing and reading your hands, which means your palm and the lines are just like the book of your secrets and talents.
This art of reading palm and palm lines is known as Palmistry.

Palmistry is the art of reading palm and palm lines through which we can get to know about the person in dept and we can also predict their future as well.

There are different mounts in everyone’s hands which simply show many aspects of the person and his personality. There many people who don’t have proper ideas about their personality but they can get to know about it through Palmistry.

What are the Mounts in Palm?
The mounts are kind of fleshy bumps on your palm which resides under your every single finger. This is termed as mount because it looks like a mountain on your palm. They play a very important role during the reading of the palm. These mounts are related to the planets which hold a different meaning in your hand and show your personality as well as the future.

There are a total of 7 mounts in someone’s hand-

  1. Mount of Jupiter- This situated at the base of your index finger.
  2. Mount of Saturn- This is situated at the base of your middle finger.
  3. Mount of Sun or Apollo- This mount is situated under your ring finger.
  4. Mount of Mercury- This situated at the base of your little finger.
  5. Mount of Moon- That is situated in the base of your palm under your little finger. 
  6. Mount of Venus- This mount is situated under the base of your thumb. 
  7. Mount of Mars- Mars mount is of two types-
    • Inner Mars 
    • Outer Mars 

The inner mount of Mars is situated between the mount of Jupiter and Venus, and the second outer mount is situated between the mount of Mercury and Moon. 

Let’s get the idea about every mount in detail to get the best information about ourselves.

1. Mount of Jupiter- The mount of Jupiter represents the authority and will power. The person has this mount properly developed then it shows that the person is ambitious, career-minded, responsible, honest and reliable in nature.
If it is flat then it means that the person is clumsy, dishonest and has no proper morals in his life.

2. Mount of Saturn- This mount is related to the perceptive and integrity of things. Properly developed mount represents the independent, sincere, intelligent and hardworking person. If the mount is less developed or fully flat it means that the person easily gets sad and depressed and feels lonely most the time.

3. Mount of Sun- The person having this mount in a developed manner has the qualities of getting clever at most of the situations, loves art and literature and able to accept the other’s opinion. 

If this mount is low in someone’s hand it means that the person is poor in aesthetics, has no fortune in making and does not love arts.

4. Mount of Mercury- This mount represents wisdom. As the person having fully developed mount of Mercury are good at their work, manages things properly, witty and has a high ability to think. If this mount is absent in someone’s hand it means that the person is not willing to work hard, he is negative and has no will to do anything.

5. Mount of Moon- This mount is connected with imagination and mystery. As the person who is having this mount developed are imaginative, creative thinkers and loves to be in freedom. If this mount is less or underdeveloped then it means the person has a lack of ideas and he is conservative about everything.  

6. Mount of Venus-
This mount represents love emotions and affection. The well-developed mount shows a sympathetic, gentle and attractive nature. They have good fortune in love. The one who doesn’t have this mount developed is having a lack of energy and is very cold-hearted and sometimes rude.

7 Mount of Mars-

i) Inner Mars- This mars is termed as the positive mars as the person having this mount nicely developed is courageous, healthy and full of adventures. And undeveloped mount people are timid and indecisive in nature.
ii) Outer Mars- This termed as negative mars. People who are having this mount fully developed are fearless, don’t’ take risks in money-making works. The one who has lesser developed outer mount is having a lack of endurance, they can keep calm as they don’t have patience and weaker in solving problems attentively.

Institute of Vedic Astrology, Indore which is the best institute in India and the USA provided Distance learning courses on Palmistry through which you can learn Palmistry easily and become a master in this skill. Join and know yourself better and help others with Palmistry.

वास्तु के यह पौधे आपके घर को बना देंगे स्वर्ग

हमारे जीवन में पौधों की भूमिका

सबसे पहले यह पृथ्वी आग का गोला थी फिर यह ठंडी हुई और इतनी ठंडी हुई कि फिर इस पर सबसे पहले वनस्पति उगना प्रारंभ हुई और उसके बाद जीव जंतु आए और अंत में मनुष्य शायद इसीलिए मनुष्य को आज भी मैं वनस्पतियों और प्रकृति से बहुत प्रेम है क्योंकि वह उन्हीं का एक हिस्सा है वनस्पति में भी कुछ पौधे जंगली होते हैं परंतु कुछ पौधे लाभकारी होते हैं वह आपके मन को भी खुशी देते हैं और आपके शरीर को स्वास्थ्य देते हैं साथी आपके घर का वातावरण उर्जा माई बना देते हैं

पौधे कुछ कहते हैं

जब हम घर बनाते हैं तब हमें यह नहीं पता चलता कि हमें कौन से पौधे लगाने हैं तो हमें जो पौधे मिल जाते हैं हम उन पौधों को ही लगा लेते हैं परंतु सभी पौधे शुभ नहीं होते हैं कुछ पौधे जैसे नागफनी या कैक्टस बहुत कांटेदार पौधे हमारे घर के लिए भी शुभ नहीं होते हैं और हमारे मन की स्थिति के लिए भी शुभ नहीं होते हैं इसके स्थान पर फूलदार रसिया खुशबू वाले वृक्ष हमारे मन को भी सुकून पहुंचाते हैं और हमारे घर के वातावरण में एक नई ऊर्जा लाते हैं तू हम समझते हैं कि कौन से पौधे लगाना चाहिए और कौन से पौधे नहीं लगाना चाहिए

चमत्कारी पौधे

कुछ पौधे घर की सकारात्मक ऊर्जा के लिए चमत्कारी सिद्ध होते हैं परंतु उन्हें किस दिशा में लगाना यदि इस बात का भी ध्यान रख लिया जाए तो और अधिक शुभ होता है घर की उत्तर दिशा में पौधों का रोपण करना शुभ होता है परंतु तुलसी को घर की सीमा में कहीं भी लगाना शुभ होता है पूर्णांक अशोक मोलश्री शमी तिलक चंपा अनार पीपली डाक अर्जुन गंभीर सुपारी कटहल केतकी मालती कमल चमेली मल्लिका नारियल केला एवं पाटन वृक्षों से सुशोभित घर लक्ष्मी का विस्तार करता है

अशोक वृक्ष

अपनी सगन सुखदाई नहीं छाया के द्वारा इस वक्त ने जिस प्रकार मां सीता के दुख को कम किया था ठीक उसी प्रकार इस वृक्ष के कई ऐसे औषधीय उपयोग हैं जो कि स्त्रियों में होने वाली व्याधियों को काफी हद तक करने में सक्षम है अशोक की छाल में टैनिन तथा कटे चिन्ह नामक रसायन पर्याप्त मात्रा में होते हैं जो कि औषधीय महत्व के हैं अशोक से निर्मित अशोकारिष्ट नामक औषधि बहुत गुणकारी है अशोक के बीजों को दो माशा चूर्ण को जल के साथ नित्य कुछ दिनों तक लेने से अश्वरी रोग चला जाता है अशोक के वृक्ष के नीचे स्नान करने वाले व्यक्ति की ग्रह जनित बाधाएं दूर होती हैं मंदबुद्धि स्मृति लोक के शिकार एवं ऐसे जातक जिनकी पत्रिका में बुध ग्रह नीच का हो उनके लिए अशोक वृक्ष के नीचे स्नान करना अत्यंत शुभ कार्य है

केला

केले का वृक्ष लगाना हर तरह से सुखदाई होता है जहां एक और केले के पत्ते पर भोजन किया जा सकता है थाली के रूप में वहीं पर दूसरी ओर पका हुआ केला शीतल वीर्य वर्धक शरीर के लिए पुष्टि दायक मांस को बढ़ाने वाला भूख प्यास को दूर करने वाला तथा नेत्र रोग और प्रमेह नाशक होता है पेट के कीड़े मारने तथा खून शुद्ध करने के लिए केले केले की जड़ के अर्क का सेवन लाभदायक है केले की अर्क को बनाने के लिए लगभग 1 किलो जल में 50 ग्राम केले की जड़ डालकर इतना गर्म करें कि जल की मात्रा आदि हो जाए इसके बाद इस मिश्रण को  96 यही छना हुआ जल केले का अर्थ है

पीपल

किसी भी घर में पश्चिम में पीपल वृक्ष का होना अत्यंत शुभ है ज्योतिष शास्त्र की मान्यता है कि शनि ग्रह से पीड़ित व्यक्ति को शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष की जड़ में जल चढ़ाने से पर्याप्त शांति प्राप्त होती है पीपल की परिक्रमा करने से देवता प्रसन्न होते हैं तथा ग्रहों का कुप्रभाव नहीं रहता है

अपने जीवन या संबंधित लोगों के इन तत्वों और पहलुओं के बारे में अधिक जानने के लिए आप IVA से वैदिक वास्तु के विषय में ऑनलाइन अधययन कर सकते हैं। आप भी एक कुशल ज्योतिष बन सकते है, अगर आप किसी प्रतिष्ठित संसथान से वैदिक ज्योतिष विषय में अध्यन करते है, तो जैसे  इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी

Vedic Vastu Shastra Online Training Course Overview-video

Institute of Vedic Astrology reviews the Vastu Video  Foundation course of what is covered. In this introductory Video, the trainer explains the course covered in Online Video Vastu Shastra Foundation course which aims at Vastu for beginners. See the Video to know the scope of the Vedic Vastu Shastra course.

Our Satisfied Client