My Cart
close
Your Shopping Cart Is Empty

BLOG

Palmistry By Institute of Vedic Astrology Apr 25 2020

जाने हाथ पर बने शनि पर्वत के बारे में हस्तरेखा शास्त्र से-

हमारे हाथों में विभिन्न प्रकार के पर्वत हमें देखने को मिलते हैं जिन्हें हम हस्तरेखा के अंतर्गत मानते हैं। इन्हें हाथों के ऊपर बने पर्वत इसीलिए भी कहा गया है, क्योंकि यह सामान्य पर्वत यानी कि पहाड़ जैसे भी नजर आते हैं जो हमारे हाथों में कुछ उभरे हुए होते हैं।

यह पर्वत हमारी हर उंगली के नीचे मौजूद होते हैं, जो हमें उस व्यक्ति के बारे में कई प्रकार की बातें भी बताते हैं, और वह पर्वत किस प्रकार का होता है। उस पर निर्भर करता है, कि व्यक्ति भी किस प्रकार का होगा या उसका जीवन या भविष्य किस प्रकार का होगा। वह व्यक्ति कैसा स्वभाव व कैसा चरित्र दुनिया के सामने रखता है या आगे जाकर वह अपने भविष्य में क्या करता है, इसका पता भी हम हाथों पर बने पर्वत की सहायता से पता लगा सकते हैं।

कई लोग ज्योतिष या विभिन्न प्रकार के तरीकों का सहारा लेते हैं, अपने भविष्य के बारे में पता करने के लिए। हस्तरेखा शास्त्र एक ऐसा शास्त्र है जो किसी दिलचस्प कला से कम नहीं है।

आज हम बात करेंगे मध्यमा उंगली पर स्थित शनि पर्वत की-

यह पर्वत मध्यमा उंगली के नीचे स्थित होता है। जिसके मूल में शनि का स्थान माना जाता है। यदि यह पर्वत हथेली पर स्पष्ट ना हो तो सफलता और सम्मान से जातक वंचित रह जाता है। यदि यह पर्वत किसी के हाथ पर स्पष्ट दिखाई देता है या विकसित दिखाई देता है तो इसका मतलब यह होता है कि जातक काफी भाग्यवान होता है।

ऐसे व्यक्ति प्रयत्न करने पर सफलता पाते हैं। वैसे तो हर पर्वत अपने आप में विशेष है परंतु शनि पर्वत किसी भी व्यक्ति के जीवन के बारे में सही से सही बात उसे दर्शा सकता है।

यदि मध्यमा उंगली का सिरा नुकीला हो तो जातक कल्पना प्रिय होगा यदि ऐसा ना होकर वर्गाकार हो तो कृषि अथवा रसायन के क्षेत्र से जातक जुड़ सकता है, और ऐसे क्षेत्र में अपना नाम बना सकता है।

यदि किसी व्यक्ति का पर्वत अधिक स्पष्ट ना होकर अधिक उम्र आवा हो तो व्यक्ति ज्यादा भाग्यशाली नहीं माना जाता इसी के साथ उस व्यक्ति पर विभिन्न प्रकार के बुरे प्रभाव भी पढ़ते हैं। ऐसे व्यक्ति के दिमाग में कभी ना कभी आत्महत्या के ख्याल तक उत्पन्न हो जाते हैं।

ऐसे व्यक्ति स्वभाव से डाकू और लुटेरा बनके अपना जीवन व्यतीत करते हैं,या फिर ऐसे व्यक्तियों की अकाल मृत्यु भी हो जाती है। ऐसे व्यक्तियों के हाथ पीले भी नजर आते हैं।

वहीं यदि किसी व्यक्ति का शनि पर्वत बढ़कर गुरु पर्वत से मिल रहा हो तो ऐसे व्यक्तियों को आदर व सम्मान उनकी योग्यता की वजह से प्राप्त होता है। यदि उस पर्वत का झुकाव रवि या सूर्य पर्वत की ओर नजर आता है तो जातक अपने कार्य से मन चुराने वाला होता है और आलसी प्रवृत्ति का होता है।

व्यक्ति जिनके हाथों पर यह पर्वत विकसित रूप से उभरा वाह पाया जाता है और स्पष्ट पाया जाता है तो वह व्यक्ति अपने जीवन में काफी तरक्की कर पाता है।

यदि शनि पर्वत और विकसित स्थिति में पाया जाता है तो व्यक्ति अपने घर गृहस्थी की चिंता में चिंतित रहता है और उस व्यक्ति का स्वभाव शंका पूर्ण होता है।

शनि ग्रह के पूर्ण रूप से विकसित और स्पष्ट होने पर व्यक्ति प्रबल रूप से भाग्यवान होता है, और जीवन में बड़ी कामयाबी हासिल करता है ऐसे व्यक्ति हमेशा अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ते हैं।

अगर किसी भी व्यक्ति की हथेली में शनि पर्वत पर आवश्यकता से अधिक रेखाएं पाई जाती है, तो वह व्यक्ति कायर होने के साथ-साथ अत्यधिक विभिन्न समस्याओं का भोगी भी बनता है, और शनि पर्वत के साथ सूर्य पर्वत भी विकसित होता है तो व्यक्ति एक सफल व्यापारी या आर्थिक दृष्टि से प्रबल और संपूर्ण होता है।

जातक बात है उन व्यक्तियों की जिनकी हथेली पर यह पर्वत मौजूद नहीं होता या बिल्कुल भी विकसित नहीं होता तो ऐसे व्यक्ति कई बार और असफलता की प्राप्ति करते हैं। ऐसे लोगों के जीवन में मित्रों की संख्या भी कम होती है और वह स्वभाव से ठग होते हैं और वह धर्म एवं आस्था में बिल्कुल भी यकीन नहीं रखते।

यदि आपको भी शनि पर्वत के साथ दूसरे पर्वतों के बारे में हस्तरेखा से जुड़ी जानकारी प्राप्त करना है, तो आप भी हमारी संस्थान इंस्टिट्यूट ऑफ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के माध्यम से पत्राचार पाठ्यक्रम के जरिए हस्तरेखा शास्त्र सीख सकते हैं और अपने और अपने जीवन के बारे में दिलचस्प जानकारियां हासिल कर अपने जीवन को नई राह दे सकते हैं।

 

 

Search

Recent Post

  • Signs on mount of venus palmistry

    The universe is so big and beautiful also, besides it there are so many hidden mysteries involved. The most beautiful formation of the universe or nature is humans. Yes, humans we all never pay attention to ourselves so much and therefore we never get to know how great our structure is made. Each and every small thing is perfectly placed where it should be and in proper quantity. We never ask ourselves why we just have only two hands rather than four because that is something animals don't have. Why should we get a voice and animals don’t? All of these make sense and if nature provides something different shapes or formation in our body that means it has some unique reason. One thing that we all noticed in every person is that the lines of our hands are always different from others or it is very unusual to observe the same line like us in any other person. These lines and shapes in our hands hold something that we don't know and their presence is vital. If we ever go to any astrologer or pundit the first thing, they ask about is show me your hands because these lines tell all about us. This process is called palmistry and the aim of palmistry is to determine the faith of the person as well as the possible roads the person will choose to follow in their life. In this article, we will tell you about signs on the mount of Venus in palmistry and which one of them is good or bad. 

    What is the mount of Venus palmistry? 

    This mount is surrounded by the Lifeline. The mount of Venus is located on the part of the palm that is at the base of the thumb. That line determines its placement on the palm. The area of the Venus mount indicates love, passion, romance, sensuality as well as the person’s personality. The Venus mount and its condition also indicate the level of our love and commitment to others and It shows how determinant we are. The Venus mount is the symbol of art and our love towards art and beauty in general. It shows our desire to form a relationship. Those who have a well-developed mount of Venus are energetic and transfer their positive energy to other people.

    Signs on the mount of Venus 

    Mount of Venus is the symbol of love, art, and romance. There are some types of shapes that are important on the mount of Venus palmistry. They are listed below. 

    Stars on the mount of Venus 

    Stars on the mount of Venus show that the person will be greatly successful in a loving relationship and finds the best loving partner in their life. Their partner always supports them as well as encourages them towards their intuition. 

    Tridents on the mount of Venus 

    If tridents are found on the mount of Venus it indicates that the person is excellent in love matters and never faces any type of problem in finding the perfect match for their life. These people also live luxurious lives and never face financial crises. 

    Islands on the mount of Venus 

    Islands on the mount of Venus is not a good sign and always seen as a bad sign. It shows that a person will have marital problems with their partner and they both always argue with themselves. They will never have mutual agreements between them. 

     Triangle on the mount of Venus 

    If a person has a triangle on the mount of Venus means he/she is capable of impressing his/her partner. They are smart and have a great sense of humor. These types of people usually handle all situations with laughter and passion. 

     Grille on the mount of Venus 

    This is one of the common signs on the mount of Venus and indicates that the person is more interested in getting physical satisfaction rather than emotional satisfaction. The structure of the shape like nets and crosswords. 

    Want to learn more about it... 

    If you want to know more interesting facts about the mount on the Venus or palmistry then keep updated with our blogs and articles. If you want to learn palmistry you can learn it from the best platform THE INSTITUTE OF VEDIC ASTROLOGY, INDORE. The institute is best known for its online distance learning courses. You can also contact us on our website. 

     

     

    Read more
  • Numbers and their corresponding zodiac signs

    Each number is unique in their style. numerology is the easiest way through which one can understand someone's personality traits and characteristics belonged to each number. According to the numbers and the zodiac sign the person behaves in a certain manner. That is why we can see the different personalities and characteristics of the person this shows that every person is unique and different from each individual. Because every number is connected to two different zodiac signs that are the reason why people behave differently according to numerology we can analyze the different personality traits of the person.
    Here we are going to discuss about some traits and personality of the person with different numbers and zodiac sign according to numerology.

    We can consider numerology as the easiest way to predict someone's personality and behavior only with the help of number but if we also connect their zodiac signs which are connected with numerology numbers then we can find more informational things about the person and his life.

    Number 1- 

    The number one of numerology is connected with the zodiac sign of Leo whose ruling planet is Sun. The number one is the base of every number. As we can say that number 1 represents the whole universe. All those people who are born on 1,10,19 on 28 of any month have this number as their life path number. The people who are connected with numerology number 1 are the one who has a positive outlook towards their life. They always want to be the best in their life and want to achieve the highest position in their life as they are very enthusiastic and have patience. They are very dedicated to their work as well as they have strong will power.

    Number 2-

    This number is connected with the zodiac sign cancer. The ruling planet of number 2 is the moon. As number 2 who is created with one and one that means that have dualism in their nature. people who are born in 2, 11, 20, and 29 have number 2 as their life path number.
    As number 2 who is made with two numbers that is why these people have the blend of both positive and negative in them. As they have ruling planet moon these people shine like moon by the reflection of light of the sun people of this number are likely to get influenced by other people easily. 

    Number 3-

    Number 3 is connected with the zodiac sign Sagittarius and Pisces. The ruling planet of this number is Jupiter. People who are born on 3, 12, 21, and 30th of any month own this number. Is this type of person has three sides s triangle symbolizes force, matter, and consciousness so people with number 3 have three kinds of personalities and sides. These people have attractive 
    Numbers and their corresponding Zodiac Signs

    personal and immense fame. They have a great sense of responsibility in themselves. They believed to have a disciplined life and follow certain rules and principles in their life. People with number 3 have to dominate nature as well that is why they have fewer friends and more enemies.

    Number 4-

    Number 4 is also connected with the zodiac sign Leo whose ruling planet is Sun. as these people share some common characteristics which are matched with number 1. People who were born on 4,13,22 and 31st of any month have the power of number 4. They are true to their words and always have a positive perception in their life and they always look forward to their life. They enjoy social status and loves to be social in their life. They have a very practical approach towards their life. 

    Number 5-

    the number 5 numerology is connected with the zodiac sign Gemini and Virgo. The ruling planet of this number is mercury. People who are born on 5, 14, and 23rd belongs to number 5. These people have a dynamic energy that gets diverted very easily. People with number 5 do not follow the pre-planned strategies to get the success they frequently change their plants and strategies to get the best in their life. They have the curiosity to travel and to learn perfect management skills in their life. Sometimes irresponsibility and rapidness manifest in them. 

    If you want to know no the personality traits of other different numbers related to the zodiac sign you can follow our latest and recent blogs based on numerology.

    Help you can also learn about numerology with the help of our online distance learning course of numerology by the Institute of Vedic Astrology, where you will get proper guidance and authentic study material to know deep and genuine information about numerology. 

    Read more
  • सूर्य की विशेषताएं, कृष्णा मूर्ति पद्धति के अनुसार

    हमारी हिन्दू मान्यतायों के अनुसार सूर्य को हमने पिता का स्थान दिया है, वही सभी ग्रहों में सूर्य को सबसे बलशाली भी माना है। सूर्य जीवन शक्ति की धुरी है। यदि सूर्य है तो जीवन है। इन्ही के साथ सूर्य को सभी ग्रहों के बीच राजा का स्थान भी प्राप्त है। सूर्य अग्नि तत्व तथा आत्मा कारक ग्रह है। यह चित्त प्रधान, पुरुष एवं पूर्व दिशा को सूचित करता है। यह समस्त ग्रहों में सबसे बलवान ग्रह माना गया है, क्योंकि यह सभी ग्रहों का चालक है तथा इससे ही सब ग्रहों को तेज मिलता है। इसके प्रभावाधीन जातक उदार, सद्कर्मों की कामना करने वाला, अधिकार वाला, गरीबों पर दया करने वाला एवं परोपकारी होता है। सूर्य ग्रह का स्वभाव कठोर तथा क्रूर भी माना जाता है। यह शरीर में भी ऊर्जा का खास रूप से निर्माण करता है, और विभिन्न रोगों से लड़ने की शक्ति व्यक्ति को प्रदान करता है।

    यहां हम बात करेंगे सूर्य ग्रह की और उससे संबंधित कुछ विशेषताओं की जोकि कृष्णमूर्ति पद्धति के अंतर्गत देखी जाती है।

    सूर्य को नैतिक नियमों व शक्ति से हर चीज का पालन करने वाला कहा जाता है। सूर्य के अंदर सही नेतृत्व करने की क्षमता भी देखी गई है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य प्रबल होता है इसका मतलब यह है कि कोई भी व्यक्ति जो सूर्य से प्रभावित होता है वह बहुत जल्दी नाराज भी हो जाता है लेकिन जल्द ही वह लोगों को अपनी गलतियों के लिए माफ भी कर देता है। इस प्रकार के लोग हमेशा अपने कार्य में पूरी लगन और ईमानदारी का परिचय देते है। ऐसे व्यक्तियों में अनुशासन सामान्य रूप से पाया जाता है। इसी के साथ ऐसे व्यक्ति खुशमिजाज स्वभाव के होते हैं। ऐसे तो सूर्य को सभी ग्रहों का राजा माना गया है, इसीलिए जो व्यक्ति सूर्य से प्रभावित होता है वह अपने जीवन में उच्च पद हासिल करने की इच्छा सदैव रखता है। यदि सूर्य पर अशुभ प्रभाव हो तो व्यक्ति अपनी सूझबूझ होकर अपने अधिकारों का दुरुपयोग करना भी शुरू कर सकता है।

    यदि हम बात करें सूर्य से संबंधित बीमारियों व रोगों की तो हमें यह पता चलेगा की सूर्य से संबंधित वह प्रभावित लोगों को अक्सर दिल से संबंधित बीमारियां होने का खतरा रहता है। इसी के साथ इन्हें गर्मी एवं जिगर से संबंधित रोग, दांत और दाएं आंख की प्रणाली से जुड़े रोग भी हो सकते हैं। ऐसे व्यक्तियों को उच्च रक्तचाप यानी हाइट ब्लड प्रेशर की समस्या भी हो सकती है। सूर्य से संबंधित रोगों का प्रभाव सिर तथा मुख तक होता है। ब्लड प्रेशर की समस्या तब उत्पन्न होती है, जब सूर्य छठे भाव स्थित हो और बुध 12वे भाव अशुभ सूर्य से प्रभावित व्यक्तियों को मानसिक तनाव व मानसिक परेशानियां बढ़ने की आशंका रहती है, जिससे उन्हें मस्तक से संबंधित रोग जैसे पागलपन या विचित्र मानसिकता पाई जाती है। इसी के साथ ऐसे व्यक्तियों को रीढ़ की हड्डी में कष्ट होने की समस्या भी बनी रहती है।

    जब सूर्य अशुभ हो तब जीवन शक्ति क्षीण होते चली जाती है, नजर कमजोर खासकर के दाएं आंख कमजोर होने लगती है। यदि आप ने अपने घर में गाय या भैंस पाल रखी हो तो या तो घर से चली जाती हैं या मर जाती है, यह सूर्य के अशुभ होने के संकेत होते हैं।

    सूर्य से प्रभावित व्यक्ति के घर की बात करें तो यह देखा जाता है, कि यदि सूर्य बलवान है तो मकान की हालत बढ़िया होगी एवं पैतृक मकान किसी विशेष हिस्से गलियां सेक्टर में होगा। जिस भाव में सूर्य स्थित होगा। इस दिशा के कमरे में प्रकाश, धूप अवश्य आती होगी। सूर्य से संबंधित स्थानों में शिव जी का मंदिर, सरकारी इमारतें, दफ्तर, अस्पताल, चिड़ियाघर एवं दवा की दुकानों को शामिल करा गया है। वही पक्षियों में हंस को सूर्य के अधिकार में माना गया है।

    सूर्य से संबंधित क्षेत्र में ही व्यक्ति को अपने कार्य में सफलता हासिल हो सकती है, और वह काफी ऊंचाइयों को छू सकता है। जैसे कि सूर्य उच्च ग्रहों में माना जाता है उसी प्रकार शुभ सूर्य से प्रभावित लोग हमेशा ऊंचे पद को अपने कार्य क्षेत्र में हासिल करते हैं जैसे अच्छी सरकारी नौकरी या उच्च स्तर का कारोबार इत्यादि।

    यह तक की कुछ बातें जो कृष्णमूर्ति पद्धति के अनुसार सूर्य की विशेषताओं को दर्शाती है। यदि आपको इन्हें और गहराई से जानना है, तो आप भी इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के साथ कृष्णमूर्ति पद्धति ज्योतिष सीख इन बातों की जानकारी पत्राचार पाठ्यक्रम के जरिए ले सकते हैं।

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

    Read more
  • The five of pentacles tarot card

    Are you the one who is carefree and spends a lot of money? Then wait after getting this tarot card might give a shock! 

    Five of Pentacles are the tarot card which represents you the upcoming financial challenges in your life. This card simply tells us the financial problems, challenges which you are going to face in the future. 
    If you will look towards the card then it will represent that there are two people who are walking through the icy wind and snow both are poor and living in poverty. But it simply depends on the situation of the reading you are getting. The pentacles card make you realize that you are spending too much or unusual expenses are occurring in front of you. if you are a person who is engaged in self business or trying to make money e from different sources then this card is to make you realize that this is the time you should create awareness to save your money and to save yourself from the scarcity of money. 

    Let's discuss about the situation of the cards which are occurring in the parts of the reading that can occur in an upright situation or in a reversed situation. 

    Upright Five of Pentacles- 

    If you are getting the upright position of the card in the reading then it simply indicates that this card is showing you the financial loss and poverty which you are facing or you will face in the upcoming time. it is also true that you had hit the hard times especially when it comes to your senses, work, career, or material purposes. Your ego may be also blemished, especially since success can often and correlates to your financial wealth whether your losses can be humble blow your self-esteem, and sense of self vote. Either you can also feel self-isolated and alone in this time of financial crisis because maybe your closed one I will make distances with you due to your financial losses. It may also represent the lack of mindset because you are all into the situation of facing your crisis alone. the best way to bring yourself out in this situation is to focus on your future by doing better things and taking efficient decisions in your life. 

    Reversed Five of Pentacles-

    If you are the one who is already facing financial losses or crisis from a long time then reversed five of pentacles can be a piece of good news for you! The five of pentacles which are in a reversed position indicates that your hard time, as well as a financial crisis, are going to end soon and shows the brighter side of your future. maybe in the past, you have suffered major financial losses or jobless but here you can find new sources of income either a new job or someone can offer you good financial help. Finally, you can see a way out to bring yourself from financial difficulties. sometimes you may feel that you don't have enough but this is the right time when you can make the right decisions and create good financial and career decisions in your life.

    there is a lot to it all you need to understand the cards and the meaning and the answer they are indicating you. The best way to understand the card is to learn and understand about it.

    The Institute of Vedic astrology will guide you from scratch so that you can know the Deep and informational things about all the tarot cards. The Institute of Vedic Astrology is here to offer you an online distance learning course in tarot card reading where you can learn tarot card reading and become an expert tarot card reader only sitting at your home. Join the Institute of Vedic Astrology and see the difference in your life by applying tarot card reading. 

    Read more
  • जाने क्या प्रभाव डालता है मंगल गृह विभिन्न राशियों में

     हर ग्रह का प्रभाव हर राशि में विभिन्न तरह से पड़ता है। ग्रह ना केवल व्यक्ति विशेष होता है परंतु यह राशि विशेष भी माना जाता है। जब भी हम ज्योतिष के अनुसार यह जानने का प्रयास करते हैं, कि कौन सा ग्रह किस राशि में कैसा प्रभाव देता है तो हम विभिन्न राशियों में अलग-अलग प्रभाव व निष्कर्ष पाएंगे। यहाँ हम बताएंगे कि कैसे विभिन्न ग्रह व्यक्ति के जीवन में बड़े एवं छोटे बदलाव लाते हैं। हमें यह जानना आवश्यक है, कि किस स्थिति में कौन सा ग्रह कैसे फल देता है। कभी कोई ग्रह अच्छे फल देता है तो कभी दूसरा ग्रह नकारात्मक फल देता है।

    आज हम बात करेंगे मंगल ग्रह की यह ग्रह सभी ग्रहों के बीच में अहम भूमिका भी रखता है। यदि यह किसी के पक्ष में है तो यह व्यक्ति को जमीन से आसमान पर चढ़ा देता है वहीं यदि यह नीच है तो वह व्यक्ति को आसमान से जमीन पर भी उतार देता है। यहां हम मंगल ग्रह के बारे में आपको जानकारी देंगे कि यह ग्रह विभिन्न राशियों में किस प्रकार के फल देता हैं।

    मेष-

    यह अगर मेष राशि में हो तो यह व्यक्ति को डॉक्टर, पुलिस या सेना अधिकारी बनाने में सहायता करता है। प्रबंधक साहसी दुर्घटना चोट का निशान सिर पर होने का संकेत भी देता है। यह बताता है कि व्यक्ति जल्द बाज है और तेजी से काम करता है। व्यक्ति उदार सेवा करने वाला वह क्रियाशील भी है। इसी के साथ यह स्वास्थ्य के बारे में भी दर्शाता है ऐसे व्यक्ति को आंख तथा पेट में पीड़ा होती है।

    वृषभ-

    यदि मंगल इस राशि में है तो व्यक्ति का मुख स्वार्थी उतावला संपत्ति का नुकसान उठाने वाला पारिवारिक गढ़ बड़ों से गुजरने वाला और ऐसे व्यक्तियों को स्त्री की ओर से हानि हो सकती है। ऐसे व्यक्तियों के कई प्रेम संबंध भी होते हैं।

    मिथुन-

    मिथुन राशि में मंगल होना काफी लाभदायक होता है। व्यक्ति तेज़ बुद्धि वाला व अन्वेषक जड़ तक पहुंचने वाला सीआईडी, टेक्टिव, पुलिस अधिकारी या एडिटर बनने का हुनर रखता है। ऐसे व्यक्तियों को यात्रा में नुकसान और हाथों वह बाहों पर घाव होने की संभावना होती है और इनके अपने भाइयों से अच्छे संबंध नहीं होते हैं और इन्हें गुप्त डर होता है। यह अच्छे कवि संगीतकार तथा सलाहकार व जासूस भी बन सकते हैं।

    कर्क-

    इस राशि में यह कुछ खास प्रभाव नहीं देता है। कर्क राशि के जातकों को मंगल अच्छे फल नहीं देता यह व्यक्ति को दंगा करने, बुरा बोलने, माता से जुड़ी समस्याएं, दुखी जीवन, दिमागी उलझन, मन में उतावलापन और अशांति देता है ऐसे व्यक्तियों को डॉक्टर सर्जन और गुप्त शत्रुओं का भय रहता है।

    सिंह-

    इस राशि के जातकों को मंगल बड़े ही अच्छे परिणाम देता है। यह व्यक्ति को डॉक्टर, सर्जन, प्रबंधक, उच्च अधिकारी व पुलिस, या सेना में जाने का मौका देता है। इसी के साथ व्यक्ति पैरामेडिकल, अधिकारी व कमांडर भी बन सकता है। ऐसे व्यक्ति उत्साही, क्रियाशील, निडर और विजय प्राप्त करने वाले होते हैं ऐसे व्यक्तियों को आंख और पेट में समस्या हो सकती है, और यह आग से जुड़ी घटनाओं से ग्रस्त भी हो सकते हैं। इसी के साथ यह ज्योतिष और गणित के विशेषज्ञ बन सकते हैं।

    कन्या-

    यदि मंगल इस राशि में है तो व्यक्ति सुखद प्रेम संबंध में पड़ सकता है। ऐसे व्यक्तियों का ग्रस्त जीवन भी गड़बड़ रहता है, इनके जीवन में संघर्ष ही होते हैं। इन्हें स्त्रियों के द्वारा दुर्भाग्य की प्राप्ति भी हो सकती है। ऐसे व्यक्ति बातूनी होते हैं। इसी के साथ इन्हें पेड़ से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

    तुला-

    तुला राशि वाले जातक को नुकसान उठाना पड़ सकता है। इन्हें इनके जीवन में पारिवारिक गढ़ बड़ों का सामना करना पड़ता है, खास करके मुकदमे से जुड़ी समस्याओं को लेकर यह अपने जीवन में बड़ी-बड़ी उमंगे रख सकते हैं परंतु यह अपने स्वभाव से झगड़ालू भी होते हैं।

    वृश्चिक-

    ऐसे जातक फसादी, घमंडी, निडर, अभिमानी, त्रिविक्रमण करने वाले और जीवन में भारी संघर्ष उठाने वाले होते हैं। ऐसे व्यक्तियों के साथ आदित्य दुर्घटनाएं घटती हैं। व्यक्ति जल्दबाजी करते हैं।

    धनु -

    ऐसे व्यक्ति लोगों में लोकप्रिय माने जाते हैं, यह नेता उच्चाधिकारी उच्च पद महत्वाकांक्षी सेनापति सेना अधिकारी बनने के योग रखते हैं।

    मकर-

    ऐसे व्यक्तियों के जीवन में दौड़ भाग लगी रहती है वह इन्हें घाव चोट होने का भय होता है, इसी के साथ इन्हें पानी में डूबने का भी भय होता है। यदि मंगल उच्च राशि में भी होता है तो ऐसे व्यक्ति निडर, प्रबंधक, डॉक्टर व राजनीतिक क्षेत्रों में काम करने का अवसर प्रदान करता है।

    कुंभ-

    ऐसे जातक लड़ा- झगड़े में उलझे होते हैं, और यह किसी न किसी बीमारी के कारण दुखी रहते हैं। इनके साथ दुर्घटनाओं की आशंकाएं भी बनी रहती है। ऐसे व्यक्तियों को अपने मित्रों से भी धोखा मिलता है, वह इनका जीवन संघर्ष में होता है। क्योंकि कहीं ना कहीं ऐसे व्यक्तियों की बुद्धि कम होती है।

    मीन-

    ऐसे व्यक्तियों को जीवन में कुछ अच्छा हासिल करने के लिए संघर्ष व दौड़ भाग करनी पड़ सकती है। यह धनी होते हैं, इसी के साथ उत्साही होते हैं और इनका गृहस्थ जीवन दुख से भरा होता है। संतान होने में इन्हें विघ्न आते हैं। ऐसे व्यक्तियों को उच्च पद वालों की सहायता प्राप्त होती है परंतु इनका जीवन अस्थाई होता है।

    यदि आप दूसरे ग्रहों उनके प्रभावों के बारे में और बेहतर तरीके से जानना चाहते हैं तो आप भी इंस्टिट्यूट ऑफ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के जरिए वैदिक ज्योतिष में पत्राचार पाठ्यक्रम के जरिए ज्ञान हासिल कर सकते हैं।

    Read more
  • How to attract wealth with the help of vastu

    Money is the word that means a lot in the modern-day or it is one of the important things for survival on the planet. We all work hard to earn some respect or to be successful in our life but if we look closely at it, we find that all the things that we are doing are to earn more money or to create more wealth. Some of us save it into bank accounts or some keep it in their locker in the almirah of the house but we all are saving it because it means a lot and without sufficient money, it is very difficult to live a happy and prosperous life. But it's not only about working hard or doing more jobs to earn more money perhaps it also depends on what environment we are living in or working. Also, in which direction we are putting our money both at the house as well as the workplace. Indian houses are made according to the Vastu guidelines to bring proper wealth or money into the house and to welcome proper wealth or money into the house, our house should welcome the positive energies that bring prosperity and wisdom into our life. We might see some people that usually become rich without doing any type of struggle or hard work. No doubt that hard work is the key to success but we call them lucky and think that it is in their destiny. The answer is no if we observe closely to their lifestyle like how they live or how they work we get to know that their houses are completely made according to the Vastu norms and they believe in Vastu more than us. They pay attention to each small thing because that's what Vastu is all about placing the right thing in the right direction to follow positive energy. In this article, we will share some important tips on conducting wealth with the help of Vastu.  

    Some important tips to welcome wealth in the house with the help of Vastu. 

    Welcome the wealth-

    Money enters the house to the entrance so the first thing to bring wealth into our life is to always clean the entrance doors and keep it neat and nice. Hanging a bell or wind chime near the entrance door will attract more money to the house. Also, try to make it shine in the evening time with a candle or lamp that will attract wisdom and prosperity into our life.  

    Almirah and cash drawer- 

    The place of almirah and cash drawer is very crucial from the aspect of financial gain. A wrong place of almirah will cause unwanted loss of money from the house and also it becomes very difficult to save money. The direction of the almirah should be close to the southwest wall and the doors should be open in the north direction as it is the direction of lord kuber which is also known as the lord of wealth. 

    Water leakages- 

    Water is one of the five elements of Vastu. So, it becomes very important to keep it in mind that there are no water leakages in the house. Water leakages result in losing money and if we live in a house where water leakage continues then money will never rest in our life because the water never rests. It always flows with the direction. 

    Money plant- 

    Money grows on plants and placing a money plant into the house will really help in gaining wealth. If we place a money plant near the window and feed it properly then as it grows more, our wealth will also grow and never cause any type of money shortage into the house. 

    Want to learn more about it...

    If you want to know more interesting facts about gaining wealth with the help of Vastu then keep updated with our blogs and articles. If you want to learn Vastu Shastra, you can learn it from the best platform THE INSTITUTE OF VEDIC ASTROLOGY, INDORE. The institute is best known for its online distance learning courses. You can also contact us on our website. 

    Read more
  • घर की सुरक्षा के लिए अपनाएं यह फेंग शुई उपाए-

          आज के समय में किसी के भी घर ऑफिस या कार्यालय में हम आसानी से फेंगशुई को देख सकते हैं। फेंगशुई अपने घर या ऑफिस में अपनाने से जगह की सुंदरता ही नहीं बढ़ती बल्कि इसी के साथ यह आपके घर और कार्यालय में अलग प्रकार की ऊर्जा और सकारात्मकता का प्रभाव भी बढ़ाता है। पर क्या आप जानते हैं, कि फेंगशुई घर में सकारात्मकता ही नहीं बल्कि आपकी वह आपके परिवार जनों की सुरक्षा भी करता है।

    फेंगशुई एक ऐसा विज्ञान है, जो चीन देश में उत्पन्न हुआ था। कुछ सालों बाद यह आसपास के देशों में भी उतना ही प्रसिद्ध हो गया क्योंकि यह वैदिक वास्तु जो कि भारत में प्रचलित है उसी के सामान प्रभावशाली देखा गया। यह घर और घर में रहने वाले परिवार जनों को नकारात्मक ऊर्जा व शक्तियों से सुरक्षित रखने में सहायता प्रदान करता है। यह विभिन्न तरह के प्राकृतिक तत्वों को संतुलन में रखने में सहायता प्रदान करता है। जिससे आपके जीवन में अलग तरह का बदलाव आपको देखना मिल सकता है।

    यहां हम आपको बताएंगे कि किस प्रकार अपने घर में फेंगशुई इस्तेमाल करने से आप अपने घर को सुरक्षित होने के साथ-साथ उसे समृद्धि बना सकते हैं।

    फेंगशुई दो शब्दों से मिलकर बना है यानी वायु और श्री यानी जल। इसका तात्पर्य है कि यह जल और वायु जैसे तत्व को किस तरह से संतुलित कर आप अपने घर को सुरक्षित रख सकते हैं, इसकी जानकारी आपको देता है।

    फेंगशुई में गुड लक को बढ़ाने के साथ-साथ घर को सुरक्षित रखने के बारे में बताया गया है इनमें कुछ ऐसी चीजें हैं जिनका उपयोग कर आप घर में उन्नति, धन दौलत और समृद्धि ला सकते हैं।

    आज के व्यस्त जीवन में हमें इतना समय नहीं मिल पाता है,कि हम घर में हर एक चीज का ध्यान इतनी बारीकी से रख सकें । लेकिन यदि आप अपने घर में फेंगशुई का इस्तेमाल करते हैं तो उसके बाद आपको अपने घर के प्रति बेफिक्र हो जाना है, क्योंकि फेंगशुई आपके घर को सुरक्षित रख आपके जीवन से परेशानियां दूर करने का काम बड़ी ही आसानी से करेगा। घर में किसी भी तरह की परेशानी हो चाहे निजी या फिर आर्थिक फेंगशुई हर स्थिति में आपकी सहायता आपके जीवन को खुशहाल बनाने में करेगा।

    - फेंगशुई में बंबू या बांस का पौधा शक्ति का प्रतीक माना गया है, इसीलिए इस की यही खासियत है कि यदि आप इसे घर में लगाते हैं तो यह विपरीत परिस्थितियों में आपको सहारा देने का कार्य करता है।

    - मनी प्लांट को फेंगशुई के अनुसार सबसे शुभ माना गया है। यह व्यक्ति के घर में वैभव का प्रतीक माना जाता है। यह धन को आपके घर आकर्षित करता है। इससे आपके घर में आर्थिक सुरक्षा हमेशा बनी रहेगी।

    - आप अपने घर में फेंगशुई लाफिंग बुद्धा भी लगा सकते हैं, यह लाफिंग बुद्धा चीनी संस्कृति में खुशहाली, गुड लक, संतुष्टि और बहुलता का प्रतीक माना जाता है।

    - ड्रैगन को सभी प्राणियों में सबसे विशाल जीव माना गया है। इसीलिए आप अपने घर में फेंगशुई ड्रैगन रख सकते हैं यह सफलता और सुरक्षा का प्रतीक माना गया है यदि आपके घर में नकारात्मकता ऊर्जा बना रही हो तो फेंगशुई ड्रैगन को घर में रख आप नकारात्मक ऊर्जा को सकारात्मक ऊर्जा में बदल सकते हैं।

    - इसी के साथ आप अपने घर में फेंगशुई आई विल आई हैंगिंग जिसे नजर सुरक्षा कवच भी कहते हैं यह आप अपने घर में लगा सकते हैं जिससे आपका घर बुरी नजर से सुरक्षित रहेगा।

    फेंगशुई के बारे में और जानकारी लेने हेतु आप भी फेंगशुई का ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं वह भी बिल्कुल आसानी से। इंस्टीट्यूट ऑफ वैदिक एस्ट्रोलॉजी फेंगशुई में पत्राचार पाठ्यक्रम के माध्यम से आप तक फेंगशुई का ज्ञान पहुंचाने में सहायता करेगा।

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     




    Read more
  • The benefits of green gemstones -

    Colors are beautiful, so as the stones which have different colors. The gemstones not only enhances the beauty of the person wearing it, but it also has its benefits rather than it. 
    Gemstones are most commonly made from minerals but they also have some sacred faculties in it as well as some health benefits.

    Many people use gemstones to increase their luck and wealth, and some people use it to enhance their health and horoscope faults (Dosh), as according to astrology it is highly suggested that wearing stones can lower the faults of your horoscope (kundali). 

    Here, you'll get the information about some green colored gemstones and how the green gemstones can be proven beneficial for your life. 

    In the list of green colored stones, there are so many but there are some green stones which are highly preferred by people in their day to day life. Wearing a green gemstone can give you an end number of different benefits in your personal as well as professional life.

    1.Green Pearl- 

    Green pearl not only looks beautiful on your hand or neck but it can change your life as well as full stop the green pearl has a meaning and properties which can clean your mind. This gemstone is specially created to cleanse negative feelings and thoughts inside the person. This stone increases positivity and courage and makes its wearer emotionally accessible, kind, psychologically healthy, and motivated. Gemstones especially pearl are especially beneficial for those people who are mentally disturbed or depressed. People who are having emotional imbalance, stress, anxiety can wear green pearl and I can feel the difference and their mindset as well.

    2. Emerald stone- 

    The emerald stone is also consist of green color. It is highly recommended for the people who are facing competitive exams especially students who are still in the field of study. This stone can simply help them to achieve good scores in their exam. It is also said that the stone is good to enhance creativity in the person. Stone provides good imagination power and increases the creativity level of the person in the fields of art, science, music, etc. It also helps to activate the heart chakra and helps to balance the emotions.

    3. Green Fluorite-

    Many people always face a weak immune system. The weak immunity can lead to a healthy lifestyle so to enhance the immunity in one's body green fluorite is the right choice. This green gemstone enhances the immunity system comma increases cell regeneration and assimilates vital nutrients. This stone has huge health benefits as well. The green fluorite helps you to heal your scars both emotional as well as physical. If someone is having a problem related to stomach throat or sleep one can use this stone to get relief.

    4. Green Diamond-

    Not only the original white diamond but the green diamond stone have its special benefits. This diamond is very supportive to increase health and stamina of the person. It enhances the overall physical and mental health of the person. As the green color symbolizes vigor, activity, and life so the green diamond also increases the life and stamina of the person. The green diamond is associated with balanced renewal and rebirth.

    5. Green Sapphire-

    This is a very interesting gemstone in the group of gems. The green sapphire gemstone is very soothing and calming to the eyes. The green sapphire enhances and strengthens your spiritual vision. People who are connected with spiritual works can wear this stone to enhance their spiritual power. This stone brings the wisdom of loyalty and integrity to your life. This gemstone is very rare and valuable. If you want to have the best in it you can go for a dark green or medium green colored sapphire.

    There are many more green gemstones rather than this if you want to know about other different gemstones and green colored gemstones you can also get to know about this by learning gems therapy. The Institute of Vedic astrology is offering an online distance learning course in gems and crystals therapy. With the help of an online distance learning course in gems and crystals therapy, you can know the deep facts about different gems and crystals.

    Read more
  • सौम्य एवं शीतलता का प्रतीक चंद्र ग्रह

    खगोल विज्ञान में चंद्रमा को ग्रहण नहीं माना गया है। क्योंकि अन्य ग्रह सदैव सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करते हैं जबकि चंद्रमा पृथ्वी के चारों ओर परिक्रमा करता है।  इसलिए खगोल शास्त्री चंद्रमा को उपग्रह की संज्ञा देते हैं। लेकिन ज्योतिषशास्त्र में चंद्रमा को एक ग्रह की कोठी में रखा गया है। इसलिए हम यहां चंद्रमा को ग्रहण मानकर ही चलेंगे।

    चंद्रमा में पृथ्वी, बुध, शुक्र, शनि तथा मंगल की भांति सौरमंडल का एक सदस्य है।  भारतीय ज्योतिष में मुख्य ग्रह साथ माने गए हैं जिनके नाम हैं सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र और शनि। राहु-केतु को छाया ग्रह माना गया है।  

    चंद्रमा के संदर्भ में पौराणिक परिचय यह है कि चंद्रमा ब्रह्मा के पुत्र महर्षि अत्रि के नेत्र जल से उत्पन्न हुए थे। इसी कारण चंद्रमा का नाम आत्रेय भी पड़ा है। चंद्रमा का विवाह प्रजापति दक्ष की अपनी 27 कन्याओं से कर दिया था। चंद्रमा की 27 पत्नियां ही 27 नक्षत्र के रूप से जानी जाती है। चंद्रमा के संबंध में एक अन्य पौराणिक कथा है कि चंद्रमा अनुसूया के तीन पुत्रों में से एक है।

    यदि हम चंद्र ग्रह को वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखें तो चंद्रमा के संबंध में वैज्ञानिक दृष्टिकोण प्राचीन भारतीय पौराणिक दृष्टिकोण तथा ज्योतिष दृष्टिकोण के एकदम भिन्न यथार्थ पर निर्भर करता है। चंद्रमा पर मानव के पश्चात वैज्ञानिकों ने जो तथ्य निकाला है वह यह है कि चंद्रमा में धूल एवं पर्वतों से भरे धरातल हैं तथा ऑक्सीजन नाम की कोई गैस नहीं है जिससे किसी प्राणी के होने की कल्पना की जा सके। ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा सूर्य तथा बुध का नैसग्रीक मित्र माना गया है। शुक्र, मंगल और शनि के साथ इसका समभाव माना गया है। राहु तथा केतु उसके शत्रु माने गए हैं। चंद्रमा बुध राशि में उच्च का तथा वृश्चिक राशि में नीच का होता है इसकी स्वराशि कर्क है चंद्रमा की योगकारक राशियां निम्न है जैसे मेष राशि, तुला, और मीन। चंद्रमा का प्रभाव जातक के जीवन पर 24 से 26 वर्ष की आयु तक पड़ता है। चंद्रमा का अशुभ फल कृतिका, उत्तरा, फाल्गुनी, अश्लेषा, ज्येष्ठा तथा रेवती नक्षत्र पर होता है।  

    चंद्रमा को चतुर्थ भाव का कारक माना गया है किंतु बली चंद्रमा ही चतुर्थ भाव सपना श्रेष्ठ फल प्रदान करता है। चंद्रमा चतुर्थ भाव में जन्मांग चक्र में पड़ा हो किंतु निर्बल हो अथवा राहु के साथ मिलकर ग्रहण योग बना रहा हो, तो ऐसी स्थिति में चंद्रमा चतुर्थ भाव में होते हुए भी अपना संपूर्ण फल नहीं देगा।  

    चंद्रमा को ज्योतिष शास्त्र में काल पुरुष का मन माना गया है, नवग्रहों में सूर्य और चंद्रमा को राजा की संज्ञा दी गई है, किंतु ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को सूर्य की अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार किया गया है । भारतीय फलित ज्योतिष में पूर्ण चंद्र को सौम्य ग्रह तथा क्षीण चंद्र को पाप ग्रह के रूप में माना जाता है।

    चंद्रमा ग्रह मन का प्रतिनिधित्व करता है । इसके द्वारा जातक के मन, मानसिक स्थिति, कोमलता तथा हृदय की दयालुता के संबंध में जानकारी मिलती है। चंद्रमा के अशुभ प्रभाव से जातक आलस्य, नेत्र रोग, पांडुरोग, जल रोग या कफ से पीड़ित रहता है।  

    यदि आप भी चंद्र ग्रह के बारे में और गहरी जानकारी चाहते हैं तो आप भी ज्योतिष शास्त्र सीख सकते हैं। ज्योतिष शास्त्र सीखना सबसे आसान है इंस्टिट्यूट ऑफ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के साथ। यह संस्थान आपको ज्योतिष शास्त्र से संबंधित जानकारी पत्राचार पाठ्यक्रम के जरिए देगी। पत्राचार पाठ्यक्रम के जरिए आप भी आसानी से ज्योतिष सीख हर ग्रह के प्रभाव और दुष्प्रभाव के बारे में बेहतर तरीके से जान पाएंगे।  

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

    Read more
  • Why fool is the most valuable card

    Tarot cards the most powerful divination tool 

    Tarot cards are probably the most popular and powerful tool for divination. Many people think that they are just like other normal cards with different characters but it’s not true tarot cards are the true storybook of our life. They tell us about our wisdom and help us to find inner peace. Tarot cards exactly show us what to do and when to do. They suggest solutions to our problems regarding every aspect of our life. The 78 tarot cards are crucial as well as important to understand. Each one of them reveals a different story of life. In this article, we will cover one of the most valuable cards among all these and understand its role in our life. The fool is the first card in the row and also known as 0 number card. It brings happiness and joy into our life. Many peoples saw the sign but by understanding it deeply we can understand how important fool matters in our life.  

     

    What are the tarot cards? 

    Tarot cards are the ancient form of playing cards in most of Europe. They meant to be the true divination tool. There is a total of 78 cards that have been divided into two arcana. The first one is a major arcana that includes 22 major cards and the second is a minor arcana that holds 56 cards. Cards of the major arcana are treated as more important because they impact life and give more lessons, while the cards of minor arcana indicate the specific events of life. The fool is the major arcana card that means it has a significant effect on our life. 

     

    Fool the most valuable card- 

    The fool card is one of the interesting cards among 22 cards. It seems that it refers to unconditional love and happiness in life. It seems that if a person has a fool card, they might start with 0 but ends with the 22. For example, if you start work and your card is a fool then you might take it to the end or achieve higher success in it. The person with the fool card never bothered from anything and solved it with a great smile. This type of peoples is determined and creative in their respective fields. 


    Importance of the fool card -

    The fool is one of the strongest and powerful cards that indicates the new beginning of something into life. It can be anything to get rid of the bad past or starting of a great future. The journey of fool cards starts with 0 and ends with 22 that shows you unexpected and new adventure into your life. 

    If you receive a fool card while starting some new job or business it is a great sign of success and honor. You will be fully devoted to the new direction of your life unless you doubt yourself or start being more enthusiastic. 

    The fool card is also important from a love and relationship point of view. If you haven't got your partner yet, that means you will get a loving, charming, and genuine partner in your life very soon. If you are already into a relationship that indicates you both are ready to start a new phase of your life. 

    Lastly, the fool card is also treated as an effective card for health. If you are sick of something that means you will recover from it very shortly and it also prevents you from any type of disease. 

    The fool also seems to be a positive concern to finance. It removes the obstacles from the way of inflow of money. It can also be a sign of getting repayment and advancement of some project work. 

    Want to learn more about it... 

    If you want to know more about tarot cards and its importance, keep updated with our blogs and articles, or if you want to learn about tarot cards you can learn it from the best platform THE INSTITUTE OF VEDIC ASTROLOGY, INDORE. The institute is best known for its online distance learning course. You can also contact us on our websites.

    Read more

Popular Post