My Cart
close

BLOG

Vastu By Institute Of Vedic Astrology May 29 2017

Institute of Vedic Astrology Vaastu Tips for Kitchen

Vastu is the traditional Indian technique of home designing that combines the natural forces with architectural orientation. According to the Institute of Vedic Astrology Indore every modern household is following Vaastu rules, as the home is the first place that brings happiness and peace in our life. The kitchen is not an exception and modern kitchens are being designed following Vastu rules. As we all know Vastu has a connection with the Vedas and there are specific rules for every corner of a house in Vastu, to provide maximum peace and prosperity to its habitat.

Why it is essential to follow the Vastu tips in the kitchen: -

If we consider our home is the center of happiness, then the kitchen is its heart. The role of a kitchen is to provide healthy food and to maintain the health and energy of the family members. The kitchen design has evolved over the years. Before it happened to be a place with a closed-door at the farthest corner of the house, but the concept has been changed a lot. The modern kitchen is a spacious open place, equipped with household gadgets where the family can meet at the end of the day. So, it is essential to design the kitchen according to Vaastu to keep the family healthy and eradicate health-related problems. Also, in Hindu Shastra kitchen and food is related to the Goddess Laxmi. So a proper layout of the kitchen is vital as it is believed to bring good luck and peace to the family. Let us check the tips.

1) Kitchen direction

According to Vedic Vaastu direction is vital since the kitchen symbolizes the ‘fire’ element. Fire or Agni is beneficial if we can control it properly but could be very dangerous if it goes out of our hands. The symbolic fire is the origin of all hopes and desires in our minds.

So, the fire element needs to be handled with great care in Vaastu. Each direction has a significant role in Vaastu. There is a specific direction to keep fire elements like oven, stove, etc. in the kitchen.

The South-West direction is known as the home of the fire element, and the North-West is meant as the home for air element. Following this fact, in the kitchen location of such equipment should be towards South-East. If not possible, the North-West is the right option, as air and fire are interconnected.

2)  Ideal placement of kitchen sink

The kitchen sink symbolizes the flow of water as it is meant for different washing purposes in the kitchen. Since sinks and taps point out the water flow, it should be placed away from the gas stove and the North-East corner of the kitchen is the best option for it. Vastu Shastra indicates the fire and water as opposing elements and repulsive to each other.

3)  Place the exhaust fans and windows in the East

The kitchen should be airy and well ventilated. So, to keep your kitchen airy, there must be windows and exhaust fan to ward off the smoky air from inside. According to Vastu, the kitchen window and exhaust fan must be placed in the East.

4) Placement of Gas Stove

The ideal installation of a gas stove is the South-East as it is known as the Agni cone. Moreover, the cook must be facing towards the East direction while cooking. A gas stove is used for cooking food and food is the primary source of our energy. So, it is necessary to choose the right corner for the fire element to keep the energy flow in the household.

5) Place the electronic kitchen gadgets in the proper place

The modern kitchen is equipped with electric kitchen appliances like microwave, heater, induction stove, toaster and mixer-grinder. As per Vastu, all these appliances should be placed in the South-West direction.

6) Kitchen color

The kitchen should be vibrant in color as it is the place where we spent quality time. If the kitchen color looks dull and pale, it will create a negative impulse in the family members. So according to Vastu, the kitchen must be colored with yellow, green, orange and unique color. Never use black color in the kitchen.

7) Choose the perfect flooring

Flooring is an essential aspect of the kitchen, and it must be made with marble, tiles or mosaic. Floors made with these substances are hard, non-scratch able and easy to clean.

8) Ideal place for storage

Storage is a vital part of every kitchen. It should be spacious, comfortable to access and separate from every purpose. According to Vastu, walls that are situated towards Southern and Western walls are perfect for making cupboards and drawers.

How can you learn Vastu?

The Institute of Vedic astrology offers different courses on Vedic Vastu, which could be very helpful for anyone to know about the Vastu laws of orientation. The courses are

•    1-year post-graduate diploma course in Vastu.

•    Six months diploma course in Vastu.

Benefits of joining the course

•    Knowledge of Vastu is a must for those who are dealing with construction, renovation, development and interior designing business. Vastu courses can help then a lot to serve their clients in a better way.

•    In the Vedic institution of astrology, the Vastu course is taught under the guidance of skilled professionals.

•    After completing these courses, anyone can work as a Professional Vastu Expert

 

Search

Recent Post

  • Facing obstacles in your relationship? astrology is here to help you!

    Maintaining a proper relationship with everyone in today's world is so important for every single person. The relationship holds great importance in everyone's life because this is the only thing on which people rely in their life because they always need someone in their life. Like a child needs a parent, friends, a person needs a life partner, etc. Every relation is important. Today it is also very important to maintain a proper relationship with your professional contacts to have a smooth working in the business or in the office.

    But do you ever thought that how you should maintain a proper relationship with every person around you? If you are thinking that talking or meeting them properly or giving time to them is enough to create a better relationship with them is not always right. As we all know every human being is different so as their behavior and nature. So you should always keep in your mind that how you have to deal with every person around you. Astrology can surely help you with that!

    We have always heard about astrological horoscope and zodiac signs somewhere, but have you ever thought that these things can actually affect your life and relationship with people around you, whether it is family, friends or professional relationships.

    If you are facing difficulty managing relationships with some people in your life then here we are going to give you an idea about some people and their behavior according to their zodiac sign.

    There are total of twelve zodiac signs in astrology here we are going to give you an idea about every zodiac sign that how these people are so that you can create a better understanding and approach with them.

    - Aries

    Most of the time they get so frustrated about some things and never stop thinking about it. As you should maintain calm relations with them as they are very aggressive and feisty sometimes.

     - Leo

    They are the most positive ones in their life. They have a positive attitude with everyone around them which take them to the fair things in their life. 

     - Cancer

    These people are highly sensitive and moody that is why you should always have to think before speaking with these kinds of people. But once you are friends with them you can ensure a lifetime of friendship.

     -Pisces

    Pisces adapt well to their circumstances both good and bad. They are highly empathetic.

     -Scorpio

    You should mess with them as they are very turbulent. They are self-concerned and mysterious in their nature.

     -Taurus

    They are known for their stubbornness. But they are highly determined you can create good terms with them in business as they are totally ambitious.

     -Sagittarius

    They are optimistic and restless. They are highly aggressive in their nature and freedom is their catnip.

     -Gemini

    They are adaptable, so they can be adjustable as well. They are versatile, curious and fun-loving. You can have better terms in friendship with them.

     -Virgo

    They can be a perfect business person because they have logical and practical thinking and approach towards everything in their life.

     -Libra

    These people have a tendency of forgiving but not forgetting. So try to be patient and calm with them in every situation.

     - Capricorn

    They are the actual working bees. They are always concerned about their work and career. They are goal-oriented as you can have good terms with them in business.

     -Aquarius

    They care about their privacy a lot, that is the reason it is hard for them to make close friends. They are intellectual and innovative as well.

    Know more about astrology by learning Vedic Astrology with the Institute of Vedic Astrology from online distance learning courses. Now learn Vedic Astrology and know your friends, family and create a better relationship.

     

     



    Read more
  • The best healing crystals to kick out the stress and anxiety

    In today’s modern world no one is free from stress and anxiety. A student facing a competitive exam to a person dealing with business activities is surrounded by the vibe of stress and anxiety which will later harm their life and health due to their bad effects. Keeping yourself away from a different kind of stress and anxiety is in your hands.

    There are many ways through which you can get relieved from the stress and anxiety within you. The most unique and proven ways of fighting with stress and anxiety are different gems and crystals.

    With the help of particular gems or crystals, you can get rid of the stress and anxiety which you are facing for a very long time, as well as you can also suggest this to your family members and other people also so that everyone can get the benefits from it.

    Some crystals are easily available and some are rare but it all depends on the person facing the problem that which crystal or gem he wants to use according to his or her problem.

    Most commonly people use gems and crystals as per astrological concepts to get rid of many different life-related problems and health problems.

    It is not obvious or compulsory to use crystals or gems only as per the astrological concept. There are many gems that are used in different ways to get rid of many problems in life. Stress and anxiety are commonly found in many people, but the reasons are different so one should prefer crystal or gem according to their problem or a particular life situation.

    Everyone is aware of crystals or gems but not every person knows that they can be used in many different ways possible.

    Here are some generally used crystals and gems that can surely help you to fight with the stress and anxiety of your life.

    The main and important crystals which are specially used for getting relief in stress and anxiety are:
    1. Moonstone

    1. Rose Quartz
    2. Himalayan salt rock
    3. Howlite
    4. Clear Quartz

     

    1. Moonstone-This crystal helps us to understand ourselves better. By understanding ourself better you can create a better perception towards life and towards your work, it will help you to reduce your anxiety within yourself. 

     

    1. Rose Quartz- This is the crystal which basically represents love. This can increase self-love as well as love with others also. By wearing this one can create love with self and can increase motivation and positivity in themselves. 

     

    1. Himalayan salt stone- This is the best stone that is used for fighting and getting relief from anxiety due to any work or life situation. It also helps to get relief from insomnia. It raises the energy level in the person and boosts the flow of blood in the human body. 

     

    1. Howlite- It is known as the calming stone. The howlite stone calms communication between people. It also encourages and facilitates awareness and encourages emotional expression. This can help you to balance your emotions and you can easily deal with stress and anxiety. 

     

    1. Clear Quartz- It is the stone that generally clears negativity from the mind and enhances the spirituality in the person which will take him to the right path and help them to get rid of the anxiety depression and stress.

      Learn more about crystals and gems from the best institute of learning about gems and crystals therapy, the Institute of Vedic Astrology, Indore. Here you can get the best guidance about gems and crystals with the online distance learning course of IVA. Join and create a stress-free and happy life.
    Read more
  • सुखी दांपत्य जीवन के उपाय-

    विवाह क्या है?

    भारतीय संस्कृति में अपने वंश को आगे बढ़ाने के लिए और समृद्ध करने के लिए विवाह की एक शुभ परंपरा है जिसमें दो व्यक्तियों को एक मधुर बंधन में बांधा जाता है इस बंधन में बंद कर दो व्यक्ति एक साथ जीवन व्यतीत करते हैं, एक साथ सुख-दुख बांटते हैं, और मिलजुलकर  परिवार की व्यवस्थाएं संभालते हैं, पति-पत्नी परिवार रूपी गाड़ी के दो पहिए होते हैं यदि एक भी रुक जाए तो परिवार रूपी गाड़ी आगे नहीं बढ़ती जिन व्यक्तियों का दांपत्य जीवन खुशहाल होता है, वे अपने जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी अच्छी प्रगति करते देखे गए हैं। किसी कारण से यदि दांपत्य जीवन खुशहाल नहीं होता है तो उसमें घबराने वाली कोई बात नहीं होती उससे बहुत सरल उपायों द्वारा खुशहाल बनाया जा सकता है।

    दांपत्य सुख हेतु ज्योतिषी उपाय-

    जीवन में असंतुष्ट दांपत्य अनेक समस्याओं की जड़ होता है, जिससे विभिन्न प्रकार के तनाव एवं बाधाएं उपस्थित होती हैं दांपत्य जीवन को सहज सरल और मधुर बनाने के लिए यह कुछ उपाय हैं-

    1 प्रदोष के दिन गुड़ का शिवलिंग बनाकर उसकी विधि पूर्वक पूजा करने से दांपत्य जीवन में सौहार्द बढ़ता है।

    2 प्रतिदिन सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए सुंदरकांड का पाठ शुक्ल पक्ष के किसी भी मंगलवार से प्रारंभ किया जा सकता है 3.चावल मिश्री दूध सुगंधित वस्तुएं दही और सफेद पशु दान करने से दांपत्य जीवन मधुर बनता है।  

    4.दांपत्य जीवन शुक्र को प्रबल करने से मधुर बनता है उसके लिए सत्संगति करना, कला में रूचि पैदा करना, और एकांत का त्याग करना आवश्यक है।

    5 स्फटिक की माला से इस मंत्र का 11000 बार जप करने से और उसके बाद बेसन के लड्डू का प्रसाद बांटने से लाभ होता है मंत्र है- “ओम ह्रीं सः”।  

    6 तुलसी की माला से निम्नलिखित मंत्र का 18 बार जप करने के बाद माला को बहते जल में प्रवाहित करने से लाभ होगा मंत्र है- “ओम ह्रीं सः” यदि पति-पत्नी के मध्य अकारण ही तनाव उत्पन्न हो रहा हो, तो दांपत्य जीवन को सुखमय बनाने के लिए निम्नलिखित मंत्र का लाल चंदन की माला से 21000 जाप करने चाहिए और जाप के बाद माला को स्वयं धारण कर लेना चाहिए -"ओम क्ल क्लोम क्रीम नमः”

    व्रत एवं दान से दांपत्य सुख प्राप्ति के उपाय-

    जिन स्त्रियों को दांपत्य सुख में स्थायित्व चाहिए, वह गुरुवार का व्रत विधि पूर्वक करें गुरुवार के व्रत में इन नियमों का पालन आवश्यक है। व्रत को शुक्ल पक्ष के गुरूवार से प्रारंभ करें व्रत वाले दिन केले के वृक्ष की पूजा करें गुड़ और चने का भोग लगाएं, तथा भगवान विष्णु की आराधना करें और भगवान को पीले पुष्प अर्पित करें, गुरुवार को पीले रंग के वस्त्र धारण करें तथा खाने में पीली वस्तुओं का उपयोग करें गुरु मंत्र- “ॐ बृहस्पताऍ नमः” का जाप करें किसी ब्राह्मण को भोजन कराकर दक्षिणा दें।  तथा सुखी दांपत्य जीवन हेतु आशीर्वाद प्राप्त करें, इस दिन झूठ बोलने और पाप कर्मों से दूर रहें।

    ज्योतिषी सम्बंधित आगे जानकारी लेने हेतु हमारे ब्लॉग पढ़ते रहे साथ ही हमारी संस्थान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के साथ सीखें ज्योतिषी पत्राचार शिक्षा विडिओ कोर्स के माध्यम से घर बैठे कभी भी कहीं भी। आज ही सीखें ज्योतिषी और बने ज्योतिष विशेषज्ञ।

    Read more
  • घर पर फेंगशुई कैसे सीखें-

         इससे पहले कि आप कुछ भी सीखें आपको मूलभूत रूप से उस विषय के बार में पता होना चाहिए ताकि आपको उस विषय के बारे में मूल ज्ञान हो। फेंग शुई भी उन्ही विषयों में से एक है, आईऐ जानिए की फेंग शुई के बारे की उसे कैसे सीखा जा सकता है और घर में उसका उपयोग क्या है।

    फेंगशुई क्या है?

    कई लोगों के लिए, यह शब्द नया और दिलचस्प है, ज्यादातर भारतीयों के लिए। तो, आइए इस शब्द के बारे में विचार करें। अंग्रेजी में फेंग शुई का अर्थ है “हवा-पानी”। फेंग शुई एक चीनी प्राचीन कला और विज्ञान है जो मनुष्यों के लिए अनुकूल और लाभकारी तरीके से घर की प्रकृति और ऊर्जा से जुड़ा है। फेंगशुई के विशेषज्ञों का दावा है, कि फेंग शुई के कुछ सरल और आसान नियमों का पालन करके ही हमारे घर में हम सकारात्मक और शुभ वातावरण का निर्माण कर सकते है।

    फेंग शुई के विशेष नियमों के अनुसार इमारते,  मकान,  कार्यालय और स्थान व्यवस्था को डिजाइन करने की एक चीनी प्रणाली है जो ऊर्जा के प्रवाह से संबंधित है।

    आजकल, दुनिया भर में कई लोग फेंगशुई का पालन करते हैं और उसमे विश्वास करते हैं,  क्योंकि इसके इस्तेमाल के बाद लोगो को जीवन में सही परिणाम देखने को मिले| भारत और भारत के बाहर फेंग शुई सीखने के लिए सबसे अच्छी जगह इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी है। यह संस्थान पूरी कोर्स अवधि के दौरान आपका मार्गदर्शन करेगा और आपको फेंग शुई के क्षेत्र में विशेषज्ञ बनने में सहायता भी करेगा।

    फेंगशुई सीखने के फायदे-

    • यह आपके घर में सकारात्मक प्रवाह उत्पन्न करने में मदद करेगा और पर्यावरण को शुद्ध करने में भी सहायता करेगा।
    • फेंगशुई घर में सुख और समृद्धि लाने में मदद करता है।
    • यह आपके घर के वातावरण को शुद्ध और ताज़ा बनाने में मदद करता है।
    • यदि आप अपने घर में किसी भी तरह के दुख का सामना कर रहे हैं या नकारात्मक वातावरण की तलाश कर रहे हैं तो आप इससे छुटकारा पाने के लिए फेंग शुई सिद्धांतों को लागू कर सकते हैं।
    • यह आपको पानी, प्रकाश और हवा से संबंधित ऊर्जा को बनाए रखने में मदद करेगा।
    • फेंग शुई आपके परिवार को नकारात्मकता मुक्ति प्राप्त करने और मन और आत्मा को सकारात्मक बनाने में मदद करेगा।
    • आप IVA से फेंग शुई सीखकर भी फेंग शुई में अपना करियर शुरू कर सकते हैं और पेशेवर रूप से काम करेंगे।

      फेंग शुई जैसे विषय बहुत ही रोचक और आसानी से सीखने वाले होते हैं, जिसमें केवल कुछ सिद्धांत, उपकरण और तकनीक शामिल हैं, जिन्हें आपको अपने घर या रहने की जगह पर लागू करना है। निर्माण, डिजाइनिंग और सजावट में उन सिद्धांतों को लागू करने के बाद, आप अपने घर को सकारात्मक बना सकते हैं और बुरी ऊर्जाओं से मुक्त हो सकते हैं, जो हमारे निकट वातावरण में मौजूद हैं।

     बहुत से लोग केवल अपने घरों पर बैठकर नई चीजें सीखना पसंद करते हैं क्योंकि वे किसी कॉलेज या संस्थान से बाहर नहीं जाना चाहते हैं। समय और अन्य अनुसूची बहुत से लोगों को अपने जीवन में विभिन्न चीजों को सीखने की अनुमति नहीं देती है।

    घर में फेंग शुई सम्बन्धी उपकरण लगाना नया चलन है। कुछ लोग अपने घर में फेंग शुई का उपयोग सिर्फ इसलिए करते हैं क्योंकि वे इसे किसी तरह से पसंद करते हैं, और उन्हें फेंग शुई दिलचस्प लगता है, लेकिन दूसरी ओर, बहुत से लोग अपने घर को शुद्ध और सकारात्मक बनाने के लिए इसका प्रयोग करते है।

    कैसे सीखें फेंगशुई?

    अगर आप कुछ भी नया सीखना चाहते हैं तो आपको इसे हमेशा शुरू से सीखना चाहिए। बहुत से लोग अपने जीवन में अलग और अनोखी चीजें सीखना चाहते हैं, इसलिए फेंग शुई सीखना आपको सभी से अलग और अलग बना देगा।

    आपके घर पर फेंग शुई सीखने के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं, इंटरनेट की मदद से आप घर बैठे ही कुछ भी सीखना बहुत आसान हो गया था। सीखना अब सीखने के विभिन्न तरीकों से बहुत आसान और सुविधाजनक हो गया है।

    फेंग शुई सीखने का सबसे अच्छा तरीका किताबों के साथ है और इंस्टीट्यूट ऑफ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के पास सरल भाषा से तैयार किये गए मॉड्यूल्स के साथ फेंगशुई सीखने के लिए सबसे अच्छी अध्ययन सामग्री है। आज ही फेंग शुई सीखे और अपने घर को सबसे अलग बनाये।

    Read more
  • Get rid of docter with these hand postures (hast mudras)

    What is hast Mudra ( hand posture)?

    In India, there is a popular method of hand’s posture therapy ( hast mudra chikitsaa) since ancient timings. The inclusion of hand postures ( hast mudras ) is already placed in the prayer methods of the Hindu spiritual services. Almost everybody is familiar with 24 postures before chanting the Gayatri mantra and 8 postures after the Gayatri mantra. These postures keep one healthy.

     Natural five elements :

    The human body is made of Natural five elements, it is mentioned in the Charaka Samhita's career sthanam’s. These five Natural five elements are including earth elements, water elements, air elements, fire elements, and sky elements. These are present into every part of our body including the hands. The earth element is present into the closest finger from the smallest finger which is known as Anamika or ring finger. A water element is present into the smallest finger (kanistha finger). Air element is present into the tarjani finger which is close to the ring finger, fire element is present into the thumb finger and sky element is present into the middle finger.

    Diseases and the Natural five elements(Panchabhoota)

    We know that the human body is consists of Natural five elements. these natural five elements are present in every part of our body, but with a certain fix proportion. If this balance or proportion gets disturb then, the balance of the human body gets disturbed. This imbalance finally leads to various kinds of illnesses. If this imbalance gets rectify with the help of the fine balancing of these five Natural five elements.then the body automatically gets cured.

    Major hand postures(Hast Mudras):-

    There are several kinds of hand postures( hast mudras). A few major hand postures are as follows.

    1- Earth Posture:  

        The ring finger is the representative of earth posture. In the earth, the posture ring finger is touched with the thumb finger.

    2- Water Posture:    

        In the water posture, the smallest finger is touched with the thumb finger.

    3- Air Posture: 

      In the air posture Index, a finger is its representative finger. In this posture index finger is touched with thumb at its root point and then by the thumb, index finger needs to press very gently.

    4- Sky Posture (Akaash Mudra):

       In this posture, the middle finger is considered its representative finger. This middle finger is touched with the thumb while practicing this sky posture.

    5- Muskingam Posture :

       In this p[osture both hand’s fingers are kept close in tiding position. Then they need to press gently each other.

    6- Life posture (Prana  Mudra):

         In this posture, ring finger and smallest finger which are representatives of the earth element and water element respectively are touched with the thumb finger.

    7- Sun Posture :

            In this posture fingers of both the hands are kept fix in such a way that they should make fist position, thereafter left hand’s thumb to be kept in the state up position and then right hand’s thumb is kept in its backside position.

    8- Yampashsm posture :

            In this posture, both hand’s Index fingers are to be kept tide with one another and remaining fingers are used for making fist position.

    Various postures and their relativity with curing diseases ;

    Ling mudra keeps cold and coughs away, prana mudra keeps eye-related problems away, Vaayu mudra keeps pimples away, Aakash mudra keeps ear-related problems away. Other than these effects Surya mudra keeps diabetes away and Surya mudra keeps lover related problems away. Whenever these postures (mudras 0 are to be practiced one should sit in a Padmaasan position and then he or she should keep their back, neck, and hands must keep state and erected position. One must always remember or concentrated over his or her Est dev before doing any posture.  


    Institute of Vedic Astrology, Indore which is the best institute in India and the USA provided Distance learning courses on Palmistry through which you can learn Palmistry easily and become a master in this skill. Join and know yourself better and help others with Palmistry.

     

    Read more
  • रुद्राक्ष क्या है और कैसे काम करता है ?

    रुद्राक्ष क्या है - मनुष्य ने जब से प्रगति की है, तब से समस्याएं भी हैं और जब समस्याएं  हैं, तो उसने उनका समाधान भी खोज निकाला है। हर समस्या का समाधान उसने मंत्र से या यंत्र से या फिर रत्नों से खोज निकाला। कुछ मनुष्य है, जो रत्न नहीं पहन पाते तो उन्होंने बहुत सारी वनस्पतियां खोज निकाली। जिनसे कि धन, स्वास्थ्य और विद्या संबंधी समस्याओं का निदान प्राप्त किया जा सकता था। ऐसी वनस्पतियों में रुद्राक्ष होता है। रुद्राक्ष के द्वारा जीवन जीने में आसानी और सार्थकता मिल जाती है। रुद्राक्ष एक फल स्वरूप विशेष बीज है, जो बेर के बीजों से थोड़ा बहुत मिलता-जुलता होता है। यह संसार की सर्वाधिक प्रभावशाली वस्तु है। पवित्रता, दिव्यता, आध्यात्मिक-चेतना, और देवी चमत्कार के लिए विश्व में विख्यात है।

    रुद्राक्ष का पौराणिक संदर्भ - रुद्राक्ष को शिवजी के नेत्र से उत्पन्न माना जाता है, इसलिए इसका नामकरण रुद्राक्ष अर्थात रूद्र धन अक्षर रखा हुआ है। शिव भक्तों को यह बहुत ही प्रिय है। वैसे अन्य अनेक देवी-देवताओं की पूजा विधि में भी इसकी माला धारण करने और उस पर मंत्र जप करने का विधान है। आध्यात्मिक दृष्टि से जितना महत्व रुद्राक्ष को प्राप्त है कदाचित ही अन्य किसी वनस्पति को प्राप्त होगा। अध्यात्म ही नहीं, भौतिक जगत के कई क्षेत्रों में भी इसका विशेषकर- चिकित्सा क्षेत्र में इसे बहुत मान्यता प्राप्त है। पूजा-पाठ और मंत्र-जप आदि में विशेष लाभ के लिए रुद्राक्ष की माला सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है। गणेश जी, लक्ष्मी जी, शिव जी आदि सभी देवी-देवताओं की उपासना में रुद्राक्ष की माला एक अहम भूमिका अदा करती है, परंतु डाकिनी-शाकिनी-यक्षिणी, आदि की उपासना में रुद्राक्ष की माला का प्रयोग वर्जित है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह इसकी पावनता, शिवत्व और कल्याणकारी प्रभाव के कारण है।

    रुद्राक्ष कहां पाए जाते हैं। - रुद्राक्ष एक पेड़ का फल है। यह फल गूलर के समान गोल होता है। गोल जामुन की कल्पना करते है, ठीक वैसा ही होता है। परंतु जामुन का गुदा कोमल होता है, जबकि यह बहुत ही कठोर है। इसकी टहनियों में फलों की संख्या विपुल होती है और ये पक कर अपने आप गिर जाते हैं। पेड़ के नीचे या फल निंबोली की तरह बिखरे रहते हैं। आदिवासी लोग इनका संग्रह करते हैं और फिर पानी में कई दिनों तक फलों को भिगोकर गूदे को मुलायम करके निकालते हैं। गुदा निकल जाने पर धुले हुए रुद्राक्ष के बीज बाजार में बिकने आते हैं। पके फल के बीज उत्तम होते हैं, लेकिन कच्चे फलों के बीच ना तो स्थाई होते हैं, न ही गुणवत्ता में पूरे खरे उतरते हैं। कुछ जंगली बेर के बीजों की मिलावट भी इनमें होती है। अतः रुद्राक्ष खरीदते समय उसकी शुद्धता को भलीभांति परख लेना चाहिए। रुद्राक्ष के पेड़ भारत में, नेपाल के आसपास पाए जाते हैं। वैसे कुछ पेड़ दक्षिण भारत में भी हैं, परंतु स्वाभाविक रूप से इसके पेड़ हिमालय की तराई वाले क्षेत्रों में ही मिलते हैं। बर्मा, दक्षिण पूर्व के देशों, जावा, कंबोडिया, थाईलैंड, इंडोनेशिया और सुमात्रा आदि देशो विशेष रूप से पाया जाता है।

    रुद्राक्ष का मुख्य भेद से वर्गीकरण - रुद्राक्ष का दाना हाथ में लेकर गौर से देखें, जैसे छिले हुए नींबू अथवा आंवले के फल पर धारियां बनी होती है। ठीक वैसी ही धारियां रुद्राक्ष के दाने पर दिख जाती हैं। रुद्राक्ष चाहे जिस आकार में हो उसके उपर धारिया होती है। यह धारिया एक सिरे से चलकर दूसरे सिरे को छूती हैं। इन्हें मुख कहते हैं, जिन दानों पर जितने धारियां हो वह दाना उतना ही मुखी कहलाता है। आमतौर से पांच धारियों वाले दाने ही पाए जाते हैं, उन्हें पंचमुखी रुद्राक्ष कहते हैं। यह धारियां प्राकृतिक रूप से निर्मित होती हैं। इनकी संख्या 1 से लेकर 21 तक मानी जाती हैं, परंतु वर्तमान समय में अधिकतम 14 धारियों वाले दाने ही देखे गए हैं। इनमें कुछ सुलभ होते हैं और कुछ दुर्लभ तो कुछ तो बिल्कुल ही प्राप्त नहीं होते हैं। जिस पेड़ में जिस आकार के फल आते हैं, सभी लगभग समान ही होते हैं। आम, जामुन की तरह प्रत्येक दाने वाले पेड़ अलग-अलग होते हैं। परन्तु धारियों की संख्या इसमें बदलती रहती है, जिस पेड़ से पंचमुखी रुद्राक्ष प्राप्त होते हैं उसी से 6 तथा 7 मुखी दाना भी प्राप्त हो जाता है। रुद्राक्ष छोटा हो या बड़ा सभी पूजा तथा औषधीय प्रयोग में समान रूप से उपयोग में आते हैं।

    रुद्राक्ष तथा अन्य रत्न व उपरत्न के बारे में जानने के लिए आप हमारे इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी से जेम्स एंड क्रिस्टल में अध्यन कर सकते है, तथा इसमें विशेषज्ञ भी बन सकते है। हमारा इंस्टिट्यूट आपको ये कोर्स पत्राचार द्वारा प्रदान करता है।

    Read more
  • Vastu for your t- point facing plots

        Is your house facing a T-junction of the road? Then it's time to get the right advice to secure yourself from the bad effects of this T-junction. Many people face this problem in their house, office or factory or showroom which is not auspicious as per Vastu.

    This is the main reason why our house or office is not getting prosperity and happiness. According to the Vedic Vastu, the house or a plot which is facing T-point of the road outside of the house’s main door is not so auspicious, or if you are still living in that type of plot then you should take some measures to protect yourself from the negative effects, road that runs straight into the face of the house is considered obstruction and symbolize as spear that obstructs the good fortune of the house.

    Sometimes people are also unaware of the fact that T-facing houses bring bad luck, inauspiciousness, and misfortune for the people living there. It does not matter if you believe in these things or not but the fact is that this can actually affect your personal as well as professional life.

    You cannot change the direction of the road where your home exists but you can bring some minor or major changes in the house and take some measures to protect yourself from the negative effects of the road which is facing your house straightly.

    These T-junction is also known as Veedhi Sulas as per Vedic Vastu. This Veedhi Sulas happens when the road affects the house that means when road approaches the site, some are considered bad while some of them don’t matter so much.

    When it is about the T-junction then it is like a gun pointed straight towards our house, which will be going to kill your happiness, peace, the prosperity of the house. One should think to rectify this thing with some measures soon.

    According to Vastu that house which is facing East, North, and Northeast direction and has T-junction is only said to be auspicious as it will bring wealth, fame and name to the owner of the house, that other directions are not considered as auspicious.

    Here are some measures and tips you can follow to avoid that negative energy to avoid you

    • You can add plants like shrubs at the border of your house which can control the effect of the negative energy which is coming directly to your house.
    • Add a mirror or small pieces of the mirrors at the outside wall of the house.
    • If you are having your door straight towards the road then try to relocate the main door to avoid some effects.
    • You can install Vastu copper strips in your house it will work as a virtual partition to cut off the negative energies which are coming towards your house.
    • Rectify defects related to the road towards the south by using a lead metal pyramid.

    To know more about various aspects of Vastu faults you can follow our recent and upcoming blogs on Vastu.

    You can also learn Vedic Vastu from the Institute of Vedic Astrology, Indore, through their online distance learning courses in Vedic Vastu.

    Read more
  • India’s republic day 2020

    That was a huge achievement for Indians that we have got our democratic rights in India on 26th of January 1950. On this day in the 1950s, we had become a Republic country in the world. The Constitution of India was adopted by the Constituent Assembly on 26 November 1949 and came into effect across the country on 26 January 1950. Republic Day of India is one of the three national festivals in India.


    By celebrating Republic Day, we ensure that we have fulfilled our responsibilities and duties towards our nation. Change, development, growth, and culture is the soul of Nation and Nation is still waiting to become a developed country from a developing country.
    Believe or not believe but it is all dependent on some Astrological aspect due to that Nation has faced and are still facing different kinds of things and situations.
    Astrology shows that the planetary effects in the sky not only affects the life of the human but it also affects the whole nation where the person used to live because a person used to live in the society and the aspects like weather, societal environment, democracy, government, law, employment, education directly affects the human life.
    If the planetary positions and the movements in the sky is favorable then it will give good effects on the people of the nation also.
    With no doubt, 2020 has brought many changes in the astrological situations of the sky as well as in the human’s life.

    If we talk about the astrological aspect of India at the time of the Republic then it is said that planet Pluto was occupied by the Leo sign that was the reason which indicates that the nation has faced various struggles and problems and then got high achievements after getting the republic rights in the world. 
    There are various transits in the whole year of 2020 which will affect the lives of many people due to the change in the positions of the planets. India is going to face various changes and development this year.


    The planet Saturn has the main transit in the month of January, as it is transiting to the zodiac sign Capricorn and later in Sagittarius. The planet Saturn is the planet of justice and discipline as it will bring many changes in the life of the people after the 26th of January. The planet is going to give the right directions and path to the people of Capricorn sign, it will affect many things the democracy as well.  People who are ruling the country or a particular state will take the right decisions for the nation and the society which will provide great benefits to the citizens of India. 
    As Saturn is the ruling planet of the zodiac sign Capricorn and Aquarius as people with this zodiac sign will also face various changes. As the zodiac sign, Sagittarius and Capricorn are already facing the phase of Sade Sati, Aquarius is also going to join their team soon this year.
    Saturn will be going to make realize all the zodiac signs that success can only be achieved with the help of hard work and struggle. So, it is believed that people who are ruling the country will soon be going to realize many things through which the nation can get the development and changes.


    If the nation gets the development and growth it will directly affect the life of the people living in the nation because people are connected to the society and nation.
    You can also follow our latest and future blogs to get the astrological updates on various Indian festivals www.ivaindia.com/blog

    On behalf of the Institute of Vedic Astrology, Indore, we are wishing you a very happy Republic day. 

    Read more
  • कैसा हो आपके घर का मंदिर जानिए वैदिक वास्तु के ज़रिये-

    हमारे घर में जिस प्रकार हर एक कमरे का अपना महत्व है उसी प्रकार से पूजा घर / मंदिर भी हमारे घर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। भारतीय पद्धति के अनुसार भी मंदिर घर में एक महत्वपूण स्थान रखता है, जहाँ विभिन्न देव व देवियों को स्थान दिया जाता है और उन्हें हर रोज़ पूजा जाता है, जिससे घर में शान्ति, समृद्धि और धन का आगमन होता है। 

    घर में मंदिर एक पवित्र स्थान है जहाँ हम भगवान की पूजा करते हैं। इसलिए, स्वाभाविक रूप से, यह एक सकारात्मक और शांतिपूर्ण स्थान होना चाहिए। मंदिर क्षेत्र जब वास्तु शास्त्र के अनुसार रखा जाता है तो घर और वहां रहने वालों के लिए स्वास्थ्य, समृद्धि और खुशी ला सकता है। हालांकि एक अलग पूजा कक्ष आदर्श होगा, यह हमेशा महानगरीय शहरों में संभव नहीं है, जहां जगह की कमी सामान्य रूप से पायी जाती है। 

    आईए जानते हैं मंदिर और घर में मंदिर के स्थान से जुड़ी कई मुख्य बातें जैसे किस स्थान पर हो मंदिर की स्थापना, किस दिशा में मंदिर बनाना है उचित? पौराणिक और शास्त्रीय मान्यता के अनुसार भगवान की पूजा और मंदिर का स्थान घर के एकांत स्थान में उत्तर - पूर्व के कोने में ही हो, जिसे ईशान कोण कहते है, किन्तु अज्ञानतावश कई लोग अपने शयन कक्ष में ही भगवान का स्थान स्थापित कर देते है जो कि सर्वथा अनुचित है। 

    शंका व समाधान- 

    किसी के घर में यदि परिस्थितिवश मास्टर बेडरूम के अलावा कोई स्थान नही है, तो वह व्यक्ति या तो रसोई के उत्तर पूर्व के कोने में मंदिर स्थापित करें किन्तु भारत ही नहीं अपितु विदेशों में भी ऐसी परिस्थिति परिवारों में देखी गयी है, जहाँ केवल एक ही कक्ष में भोजन शयन और बैठक बनायीं जाती है। शौचालय या तो कॉमन होता है या जंगल का प्रयोग करते है।

    जिन व्यक्तियों के पास एक कक्ष के अलावा दूसरा कक्ष नहीं है उन व्यक्तियों की परिस्थितियों के अनुसार मंदिर अथवा पूजा स्थान के बारे में गहन अनुसन्धान से यह स्पष्ट हुआ की वह मनुष्य या परिवार अपने उसी कक्ष के इशान कोण में किसी भी विधि द्वारा अपने इष्ट देव का चित्र स्थापित कर सकते है।

    प्राण प्रतिष्ठित मूर्ति, धातु, पत्थर, लकड़ी एवं रत्न आदि की मूर्ति उस स्थान पर न रखे, यदि गलती से रखें हो तो उन्हें मंदिर या किसी धर्माचार्य को सौप देनी चाहिए, जिससे उसकी विधिवत पूजा की जा सके। 

    मंदिर से सम्बन्धित कुछ विशेष बातें- 

    - प्रत्येक व्यक्ति को इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए की वह अपने आवासीय परिसर के अन्दर कभी गलती से भी सार्वजनिक मंदिर, शिवालय स्थापित न करे।  
    - जिन घरों में स्थायी शिवालय देवालय या मंदिर होते है और नियमित पूजा-अर्चना नहीं होती वह परिवार निश्चित तौर पर घोर कष्टों को पातें है।
     
    - जिन व्यक्तियों के घर मंदिर के आसपास हो या वह में मंदिर रहते हों, वो लोग भी बड़े धर्म संकट का शिकार बनते हैं, क्यूंकी ग्रहस्ति में सभी कुछ होता है, अतः वे लोग जहाँ तक संभव हो सके दूर जाने का प्रयास करें।
     
    - जिन देवताओं के हाथ में दो से ज्यादा अस्त्र हों, ऐसी तस्वीरें और मूर्तियां भी मंदिर में न रखें। वास्तु के अनुसार इसे भी अशुभ माना जाता है।

    वास्तु सम्बंधित आगे जानकारी लेने हेतु हमारे ब्लॉग पढ़ते रहे साथ ही हमारी संस्थान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के साथ सीखें वैदिक वास्तु पत्राचार शिक्षा विडिओ कोर्स के माध्यम से घर बैठे कभी भी कहीं भी। आज ही सीखें वास्तु और बने वास्तु विशेषज्ञ।

     

    Read more
  • खेल खेल में अंक विज्ञान के साथ दोस्त और दुश्मन की पहचान करें।

    अंक विज्ञान क्या है -सभ्यता का पहला मापदंड अंक है, क्योंकि जीवन में जो कुछ भी घटित हुआ है, हो रहा है या होगा। उसे व्यक्त करने के लिए भाषा के बाद हमें अंको का ही सहारा लेना पड़ेगा। किसी भी परिणाम का प्रारंभ और अंत अंक ही है। यद्धपि यह निश्चित है, कि अंक विज्ञान विश्व का सर्वाधिक प्राचीन व उन्नत विज्ञान है, पर आज के युग में जिस गति से मानव के निकट आया है। उसे ध्यान में रखते हुए यह कहा जा सकता है, कि अंक ही आज के मानव का सर्वाधिक विश्वस्त मित्र है। उसका सहचर है, सुख-दुख का संभागीय सहायक है, पथ प्रदर्शक है और पूर्णता सक्षम है। आप भले ही इसे छोड़ दें पर यह आपके निकट है। आपके जीवन का प्रत्येक क्षेत्र अंक शास्त्र से बंधा है। इसके द्वारा आप यह जान सकते हैं, कि आज का दिन आपके लिए कैसा है या अगला सप्ताह क्या होने वाला है और आपको क्या करना चाहिए। हमारा पूरा जीवन ही अंको का जीवन है, उदाहरण के लिए यदि किसी व्यक्ति की जो जन्म तारीख होती है। वह जन्म तारीख उसे बहुत प्रिय होती है। वह उसके जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग बन जाती है, साथ ही उसके परिवार वालों के लिए भी वह बड़ी महत्वपूर्ण हो जाती है और वह तारीख व्यक्ति के जीवन में उत्साह का अनुभव देती है। इसलिए हम यह सब याद रखते हैं, कि हमारी शादी कब हुई, हमारी नौकरी कब लगी, हमारी पढ़ाई कब पूरी हुई या हमारे घर में कौन सा शुभ कार्य किस तारीख को हुआ था।

    अंक विज्ञान में अंकों के प्रकार - अंक विज्ञान में अंक कई तरह के होते हैं, जैसे मूलांक, भाग्यांक, नामाक्षर, व्यक्तिगत अंक आदि इन सभी के द्वारा आप अंक ज्योतिष में अलग-अलग तरह की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और सभी अंक आपको भविष्य की ओर इंगित करते हैं और नई योजनाएं बनाने में सहायक होते हैं। व्यक्तिगत अंक द्वारा आप अपने मित्र और अपने शत्रु को बड़ी आसानी से पहचान सकते हैं। तो हम देखते हैं, कि व्यक्तिगत अंक क्या होते हैं।

    व्यक्तिगत अंक - व्यक्तिगत अंक व्यक्ति के अपने अंक होते हैं, जिन्हें उन्हें अपने नामाक्षर के अंकों को जोड़कर स्पष्ट कर लेना चाहिए। अंग्रेजी के प्रत्येक अक्षर के लिए व्यक्तिगत अंक होते हैं। यह क्रम से 1 से 9 तक होते हैं फिर अगले अंक के लिए फिर एक अंक आ जाता है। उदाहरण के लिए A अंक 1 होगा, B का अंक 2 होगा, इस तरह क्रम से चलने पर J का अंक फिर 1 आ जाएगा, क्योंकि यह क्रम में दसवां अल्फाबेट है। इस प्रकार हर अक्षर के लिए हर अंक तय है।

    अपने नाम के साथ प्रयोग करें - अल्फाबेट्स के साथ जो अंक तय होते हैं। उन अंकों के आधार पर आप अपने नाम में आने वाले अल्फाबेट्स के अनुसार सभी अंक लिख ले, इसका अर्थ यह हुआ कि आप अपने या किसी भी व्यक्ति के व्यक्तिगत अंक ज्ञात करने के लिए व्यक्ति के नाम के सभी अक्षरों को अंको में बदले और फिर उन्हें जोड़ ले। उदाहरण के लिए यदि आपका नाम अनिल है, तो आप के अक्षरों के हिसाब से अंक होंगे का , N का 5, I का 9  और L का 3 जोड़ने पर कुल 17 हुआ और उसका भी अंक 8 बनेगा इस तरह अनिल का व्यक्तिगत अंक 8 हुआ।

    अपने मित्र या शत्रु को पहचाने - जिसके भी बारे में आपको पता करना है कि वह मित्र है या आप का शत्रु है या वह न तो मित्र है ना तो शत्रु है, तो उसके भी नाम के आप अक्षरों के अनुसार अंक बना ले। उन अंकों को जोड़कर उसका भी व्यक्तिगत अंक आपके पास आ जाएगा। आपका भी व्यक्तिगत अंक आपके पास है और सामने वाले व्यक्ति का भी व्यक्तिगत अंक आपके पास है। अब यह देख लीजिए कि क्या वे दोनों अंक एक है या अलग हैं। यदि वे अंक एक ही आते हैं तब तो वह व्यक्ति आपका मित्र होगा, हितेषी होगा परंतु यदि वह अंक अलग आता है, तो फिर यह देखना पड़ेगा कि क्या वह अंक आपके अंक से मित्रता रखता है या शत्रुता रखता है। इस तरह अंको की मित्रता और शत्रुता के अनुसार यह पता चल जाएगा कि सामने वाला व्यक्ति आपसे अच्छा भाव रखेगा या शत्रुता का भाव रखेगा। उसी के अनुसार आप उससे अपना व्यवहार तय कर सकते हैं और भविष्य की योजना बना सकते हैं।

    आप यदि इन संख्यो के बारे में विस्तार से जानना चाहते है या अंक शास्त्र में ज्ञान आर्जित करना चाहते है, तो आप नुमेरोलोजी में हमारे सर्वश्रेठ संसथान इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी से पत्राचार द्वारा कोर्स कर सकते है।

    Read more

Popular Post

  • Numerology is the science of numbers
    blog-img

    What is Numerology

    To Understand Numerology in simple words, it can be interpreted as a science that believes that there is a relationship between numbers and life events. It is fascinating to note that numerologists understand everything about the event that will going to happens in the world but which is entirely dependent on some mystical properties that are associated with numbers. These mystical features come from the inherent vibrations of numbers. According to the theory of numerology, a unique kind of vibration is related to the number. Interestingly, each number can help you to understand and predict the behavior of people and even predict compatibility between two people.

    The following section will discuss how numerology can influence a person’s life:

    How can it affect your life?

    If you believe in it and see the patterns, you can observe the effects of numerology on different aspects of your life. For example:

    The course of your Life

    The direction of your life is very much decided by the numbers in your life. The kinds of challenges you face, the people you meet, your achievements and lessons of life are all associated with your number. To find out your number, you just need to add all the single digits of your complete birth date and then keep adding them until they are reduced to a single digit. That single number is the number of your life path.

    Your Traits

    You will be surprised to note that your numerology can give out some insightful aspects of your personality. It can show your characteristics and also let you understand how people see your character when they first meet you. To know this number, you simply need to use the alphabet chart of numerology and see the numerical value of all the consonants in your first, middle and last names. Once you find the numbers, you need to add all the numbers and bring them to a single digit and get your number.

    Your Career Path

    Numerology can help you much in finding your career path. If you are working on a career path that is compatible with your number, then you will surely get a lot of success without many hurdles or hassles in your life. For example, people with number 3 would be better in communication-related jobs and might face problems if they get into the technical field. Therefore, if you decide on a career keeping in mind your number according to numerology, you can do tremendously well.

    What are various Systems involved?

    Various systems can be used in numerology. The following section gives you a brief on the three systems:

     Chaldean Number System

    It is one of the oldest systems that are studied in present times. In this system, the letter to number calculations is determined by vibrations emitted by each letter and not by the alphabetical order itself.

     Pythagorean System

    It is one of the most popular systems used in numerology. In this method, the value is assigned by the Western alphabets by utilizing a number formula. The value is between 1 to 9.

     Kabbalah System

    The Kabbalah system is originated in the Hebrew culture. It considers a person's name and not the date of birth to determine the number. It has 22 vibrations between 1 to 400

     Final Words

    Hence, there are many aspects of Numerology that you might want to discover. In the end, it is up to you to believe in it or not. But learning about it and trying it out once could be worth it. 

    There are a lot more about Numerology and its deep aspects but for that, you need to learn it professionally. Institute of Vedic Astrology is here to help you out with their Online Distance Learning course of Numerology. Learn Numerology and become a master in your life and career. 

    Read more

Monthly Archive