वैदिक ज्योतिष ऑनलाइन विडियो कोर्स

वैदिक ज्योतिष ऑनलाइन विडियो कोर्स - एक नजर में

वैदिक ज्योतिष ऑनलाइन विडियो कोर्स

इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी द्वारा विद्यार्थियों की मांग पर ज्योतिष फाउंडेशन कोर्स तैयार किया गया है जिसे विडियो के माध्यम से सिखा जा सकता है | इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के अनुभवी शिक्षक और ज्योतिषी विशेषज्ञ द्वारा ४५० से ज्यादा विडियो द्वारा कोर्स को आसानी से समझा जा सकता है | ज्योतिष के प्रारंभिक पहलुओ को विस्तृत में इन विडियो में समझाया गया है जिसको देखकर विद्यार्थी आसानी से इन कोर्स में महारत हासिल कर सकता है |

अब ज्योतिष सीखना बहुत ही आसान होगा | आप विडियो को जब चाहे, जहा चाहे आपके कंप्यूटर, लैपटॉप, टेबलेट या मोबाइल पर देख सकते है | विशेष अध्यायों को बार-बार देख सकते है | ज्योतिष शास्त्र सीखना अब अत्यंत सरल और आसान हो जायेगा | यदि आप ज्योतिष शास्त्र में पारंगत होना चाहते है तो आप इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के वैदिक ज्योतिष के विडियो कोर्स में आज ही प्रवेश ले सकते है |

Signup Now

पाठ्यक्रम संरचना

कोर्स करने की फायदे :

यहाँ से ज्योतिष सीखने के बाद आप अपना खुद का ज्योतिष व्यवसाय शुरू कर सकते है या दुसरो को निशुल्क परामर्श भी प्रदान कर सकते है | साथ ही ज्योतिष शास्त्र को प्रतिदिन में आप उपयोग में ला सकेंगे | इस वीडियो कोर्स में भी आपको कुछ लोगो के जीवन से जुड़े सच्चे अनुभव बताये जायँगे ताकि आप और बेहतर तरह से समझ पाए | इसी के साथ आप लोगो की जन्मपत्रिका पढ़ने और समझने के भी माहिर हो पाएंगे |


कोर्स की विशेषताए
  • विशेषज्ञों द्वारा ४५०+ विडियो द्वारा ज्योतिष शास्त्र का बारीकी से अध्ययन
  • विडियो कोर्स द्वारा कक्षा सत्र में सीखने का अनुभव प्राप्त करे
  • सबसे आधुनिक संचार माध्यम के साथ ज्योतिष जैसे प्राचीन ज्ञान को आसानी से सीखे
  • नोट्स को पीडीएफ प्रारूप में डाउनलोड किए जा सकते हैं।
  • वीडियो को अनेक बार देखे
कैसे सीखे

इस कोर्स में आप पूरा कोर्स विडियो के माध्यम से सीखते है | आप जैसे ही कोर्स में प्रवेश लेंगे उसके ४८ घंटे के अन्दर ही आपको लॉग इन आई-डी (login id) तथा पासवर्ड (password) ईमेल (email) द्वारा प्राप्त हो जायेंगे | आप इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी की वेबसाइट पर इस लॉग इन और पासवर्ड द्वारा लॉग इन करके विडियो को देख सकते है |

विडियो कोर्स को २६ चैप्टर में विभाजित किया गया है जिसमे ज्योतिष क्या है से लेकर जन्म पत्रिका देखना और फलादेश करना आसन तरीके से विडियो द्वारा विशेषज्ञ द्वारा सिखाया गया है | प्रत्येक चैप्टर में कई अध्याय है | हर चैप्टर के बाद एक टेस्ट है जिसे आप हल करके अगले चैप्टर पर जाते है | सारे विडियो देखने के बाद अंत में मुख्या परीक्षा होती है जिसे आप अपनी सुविधा अनुसार दे सकते है | परीक्षा पास करने के बाद इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी से आपको सर्टिफिकेट प्राप्त होगा | इस वीडियो कोर्स की खासियत यही है की यह कोर्स आपको आसान भाषा और सरल तरीके से ज्योतिष ज्ञान देने के लिए सम्पूर्ण है | साथ ही कोर्स सम्बंधित नोट्स आप डाउनलोड कर पढ़ भी सकते है और वीडियो को भी बार बार देख सकते है |

Highlights of Video Courses

  • 400+ Videos shot in exotic locations across India
  • Astrology explained step by step
  • A real feel of the Live Classroom training
  • Understanding and learn Astrology by seeing Videos
  • See Videos multiple times whenever struck
  • World-class support is just an email away

पाठ्यक्रम

  • पाठ्यक्रम अवलोकन
  • मैं एक औसत छात्र हूँ - क्या मैं इतना बड़ा विषय सीख और सीख सकता हूँ
  • इस कोर्स को कैसे सीखें
  • सीखने का दायरा
  • क्या याद रखना और क्या नहीं याद रखना
  • ज्योतिष क्या है
  • राशिफल क्या है
  • इतिहास
  • वैज्ञानिक पृष्ठभूमि
  • कर्म
  • ज्योतिष विभाग
  • दिनों की रचना
  • ज्योतिष फलित विज्ञान
  • अयन
  • देशांतर अवं मध्यांतर
  • कंप्यूटर द्वारा जन्म पत्रिका बनाना
  • सॉफ्टवेयर का उपयोग करके जन्म पत्रिका बनाना
  • परीक्षा
  • कुंडली के 12 भाव
  • प्रथम भाव
  • द्वितीय भाव
  • तृतीय भाव
  • चतुर्थ भाव
  • पंचम भाव
  • षष्ठ भाव
  • सप्तम भाव
  • अष्टम भाव
  • नवम भाव
  • दशम भाव
  • एकादश भाव
  • द्वादश भाव
  • भाव और नाम
  • भाव और दिशा
  • भाव और समय
  • परीक्षा
  • नौ ग्रह और उनके कारण
  • सूर्य ग्रह
  • चंद्रमा ग्रह
  • मंगल ग्रह
  • बुध ग्रह
  • बृहस्पति ग्रह
  • शुक्र ग्रह
  • शनि ग्रह
  • राहु ग्रह
  • केतु ग्रह
  • ग्रह और संबंध
  • ग्रह और शक्ति
  • ग्रहों की दृष्टि
  • ग्रह और राज्य
  • मार्गी और वक्री ग्रह
  • ग्रह और स्वाद
  • ग्रह और तत्व
  • ग्रहों की उच्च और नीच राशी
  • ग्रहों का उदय और अस्त
  • परीक्षा
  • 12 राशियाँ
  • मेष राशि
  • वृषभ राशि
  • मिथुन राशि
  • कर्क राशि
  • सिंह राशि
  • कन्या राशि
  • तुला राशि
  • वृश्चिक राशि
  • धनु राशी
  • मकर राशि
  • कुम्भ राशि
  • मीन राशि
  • चर, द्वि-स्वाभाव और स्थिर राशी
  • राशी और उनसे सम्बंधित गुण भाग 1
  • राशी और उनसे सम्बंधित गुण भाग 2
  • राशी और उनसे सम्बंधित गुण भाग 3
  • राशी और उनसे सम्बंधित गुण भाग 4
  • राशी और उनसे सम्बंधित गुण भाग 5
  • प्रथम भाव में सूर्य का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में सूर्य का प्रभाव
  • तृतीय भाव में सूर्य का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में सूर्य का प्रभाव
  • पंचम भाव में सूर्य का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में सूर्य का प्रभाव
  • सप्तम भाव में सूर्य का प्रभाव
  • अष्टम भाव में सूर्य का प्रभाव
  • नवम भाव में सूर्य का प्रभाव
  • दशम भाव में सूर्य का प्रभाव
  • एकादश भाव में सूर्य का प्रभाव
  • द्वादश भाव में सूर्य का प्रभाव
  • प्रथम भाव में चंद्र का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में चंद्र का प्रभाव
  • तृतीय भाव में चंद्र का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में चंद्र का प्रभाव
  • पंचम भाव में चंद्र का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में चंद्र का प्रभाव
  • सप्तम भाव में चंद्र का प्रभाव
  • अष्टम भाव में चंद्र का प्रभाव
  • नवम भाव में चंद्र का प्रभाव
  • दशम भाव में चंद्र का प्रभाव
  • एकादश भाव में चंद्र का प्रभाव
  • द्वादश भाव में चंद्र का प्रभाव
  • प्रथम भाव में मंगल का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में मंगल का प्रभाव
  • तृतीय भाव में मंगल का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में मंगल का प्रभाव
  • पंचम भाव में मंगल का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में मंगल का प्रभाव
  • सप्तम भाव में मंगल का प्रभाव
  • अष्टम भाव में मंगल का प्रभाव
  • नवम भाव में मंगल का प्रभाव
  • दशम भाव में मंगल का प्रभाव
  • एकादश भाव में मंगल का प्रभाव
  • द्वादश भाव में मंगल का प्रभाव
  • प्रथम भाव में बुध का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में बुध का प्रभाव
  • तृतीय भाव में बुध का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में बुध का प्रभाव
  • पंचम भाव में बुध का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में बुध का प्रभाव
  • सप्तम भाव में बुध का प्रभाव
  • अष्टम भाव में बुध का प्रभाव
  • नवम भाव में बुध का प्रभाव
  • दशम भाव में बुध का प्रभाव
  • एकादश भाव में बुध का प्रभाव
  • द्वादश भाव में बुध का प्रभाव
  • प्रथम भाव में गुरु का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में गुरु का प्रभाव
  • तृतीय भाव में गुरु का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में गुरु का प्रभाव
  • पंचम भाव में गुरु का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में गुरु का प्रभाव
  • सप्तम भाव में गुरु का प्रभाव
  • अष्टम भाव में गुरु का प्रभाव
  • नवम भाव में गुरु का प्रभाव
  • दशम भाव में गुरु का प्रभाव
  • एकादश भाव में गुरु का प्रभाव
  • द्वादश भाव में गुरु का प्रभाव
  • प्रथम भाव में शुक्र का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में शुक्र का प्रभाव
  • तृतीय भाव में शुक्र का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में शुक्र का प्रभाव
  • पंचम भाव में शुक्र का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में शुक्र का प्रभाव
  • सप्तम भाव में शुक्र का प्रभाव
  • अष्टम भाव में शुक्र का प्रभाव
  • नवम भाव में शुक्र का प्रभाव
  • दशम भाव में शुक्र का प्रभाव
  • एकादश भाव में शुक्र का प्रभाव
  • द्वादश भाव में शुक्र का प्रभाव
  • प्रथम भाव में शनि का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में शनि का प्रभाव
  • तृतीय भाव में शनि का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में शनि का प्रभाव
  • पंचम भाव में शनि का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में शनि का प्रभाव
  • सप्तम भाव में शनि का प्रभाव
  • अष्टम भाव में शनि का प्रभाव
  • नवम भाव में शनि का प्रभाव
  • दशम भाव में शनि का प्रभाव
  • एकादश भाव में शनि का प्रभाव
  • द्वादश भाव में शनि का प्रभाव
  • प्रथम भाव में राहू का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में राहू का प्रभाव
  • तृतीय भाव में राहू का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में राहू का प्रभाव
  • पंचम भाव में राहू का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में राहू का प्रभाव
  • सप्तम भाव में राहू का प्रभाव
  • अष्टम भाव में राहू का प्रभाव
  • नवम भाव में राहू का प्रभाव
  • दशम भाव में राहू का प्रभाव
  • एकादश भाव में राहू का प्रभाव
  • द्वादश भाव में राहू का प्रभाव
  • प्रथम भाव में केतु का प्रभाव
  • द्वितीय भाव में केतु का प्रभाव
  • तृतीय भाव में केतु का प्रभाव
  • चतुर्थ भाव में केतु का प्रभाव
  • पंचम भाव में केतु का प्रभाव
  • षष्ठ भाव में केतु का प्रभाव
  • सप्तम भाव में केतु का प्रभाव
  • अष्टम भाव में केतु का प्रभाव
  • नवम भाव में केतु का प्रभाव
  • दशम भाव में केतु का प्रभाव
  • एकादश भाव में केतु का प्रभाव
  • द्वादश भाव में केतु का प्रभाव
  • मेष राशी में सूर्य का प्रभाव
  • वृषभ राशी में सूर्य का प्रभाव
  • मिथुन राशी में सूर्य का प्रभाव
  • कर्क राशी में सूर्य का प्रभाव
  • सिंह राशी में सूर्य का प्रभाव
  • कन्या राशी में सूर्य का प्रभाव
  • तुला राशी में सूर्य का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में सूर्य का प्रभाव
  • धनु राशी में सूर्य का प्रभाव
  • मकर राशी में सूर्य का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में सूर्य का प्रभाव
  • मीन राशी में सूर्य का प्रभाव
  • मेष राशी में चंद्र का प्रभाव
  • वृषभ राशी में चंद्र का प्रभाव
  • मिथुन राशी में चंद्र का प्रभाव
  • कर्क राशी में चंद्र का प्रभाव
  • सिंह राशी में चंद्र का प्रभाव
  • कन्या राशी में चंद्र का प्रभाव
  • तुला राशी में चंद्र का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में चंद्र का प्रभाव
  • धनु राशी में चंद्र का प्रभाव
  • मकर राशी में चंद्र का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में चंद्र का प्रभाव
  • मीन राशी में चंद्र का प्रभाव
  • मेष राशी में का प्रभाव
  • वृषभ राशी में का प्रभाव
  • मिथुन राशी में का प्रभाव
  • कर्क राशी में का प्रभाव
  • सिंह राशी में का प्रभाव
  • कन्या राशी में का प्रभाव
  • तुला राशी में का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में का प्रभाव
  • धनु राशी में का प्रभाव
  • मकर राशी में का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में का प्रभाव
  • मीन राशी में का प्रभाव
  • मेष राशी में बुध का प्रभाव
  • वृषभ राशी में बुध का प्रभाव
  • मिथुन राशी में बुध का प्रभाव
  • कर्क राशी में बुध का प्रभाव
  • सिंह राशी में बुध का प्रभाव
  • कन्या राशी में बुध का प्रभाव
  • तुला राशी में बुध का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में बुध का प्रभाव
  • धनु राशी में बुध का प्रभाव
  • मकर राशी में बुध का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में बुध का प्रभाव
  • मीन राशी में बुध का प्रभाव
  • मेष राशी में गुरु का प्रभाव
  • वृषभ राशी में गुरु का प्रभाव
  • मिथुन राशी में गुरु का प्रभाव
  • कर्क राशी में गुरु का प्रभाव
  • सिंह राशी में गुरु का प्रभाव
  • कन्या राशी में गुरु का प्रभाव
  • तुला राशी में गुरु का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में गुरु का प्रभाव
  • धनु राशी में गुरु का प्रभाव
  • मकर राशी में गुरु का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में गुरु का प्रभाव
  • मीन राशी में गुरु का प्रभाव
  • मेष राशी में शुक्र का प्रभाव
  • वृषभ राशी में शुक्र का प्रभाव
  • मिथुन राशी में शुक्र का प्रभाव
  • कर्क राशी में शुक्र का प्रभाव
  • सिंह राशी में शुक्र का प्रभाव
  • कन्या राशी में शुक्र का प्रभाव
  • तुला राशी में शुक्र का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में शुक्र का प्रभाव
  • धनु राशी में शुक्र का प्रभाव
  • मकर राशी में शुक्र का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में शुक्र का प्रभाव
  • मीन राशी में शुक्र का प्रभाव
  • मेष राशी में शनि का प्रभाव
  • वृषभ राशी में शनि का प्रभाव
  • मिथुन राशी में शनि का प्रभाव
  • कर्क राशी में शनि का प्रभाव
  • सिंह राशी में शनि का प्रभाव
  • कन्या राशी में शनि का प्रभाव
  • तुला राशी में शनि का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में शनि का प्रभाव
  • धनु राशी में शनि का प्रभाव
  • मकर राशी में शनि का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में शनि का प्रभाव
  • मीन राशी में शनि का प्रभाव
  • मेष राशी में राहू का प्रभाव
  • वृषभ राशी में राहू का प्रभाव
  • मिथुन राशी में राहू का प्रभाव
  • कर्क राशी में राहू का प्रभाव
  • सिंह राशी में राहू का प्रभाव
  • कन्या राशी में राहू का प्रभाव
  • तुला राशी में राहू का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में राहू का प्रभाव
  • धनु राशी में राहू का प्रभाव
  • मकर राशी में राहू का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में राहू का प्रभाव
  • मीन राशी में राहू का प्रभाव
  • मेष राशी में केतु का प्रभाव
  • वृषभ राशी में केतु का प्रभाव
  • मिथुन राशी में केतु का प्रभाव
  • कर्क राशी में केतु का प्रभाव
  • सिंह राशी में केतु का प्रभाव
  • कन्या राशी में केतु का प्रभाव
  • तुला राशी में केतु का प्रभाव
  • वृश्चिक राशी में केतु का प्रभाव
  • धनु राशी में केतु का प्रभाव
  • मकर राशी में केतु का प्रभाव
  • कुम्भ राशी में केतु का प्रभाव
  • मीन राशी में केतु का प्रभाव
  • दशा पद्धति क्या है?
  • विभिन्न तरह की दशा
  • विम्शोत्तरी दशा का महत्त्व
  • विमशोत्तरी दशा सूत्र
  • पंचांग एवं २७ नक्षत्र
  • ग्रहों की महादशाए
  • सूर्य की महादशा
  • चन्द्र की महादशा
  • मंगल की महादशा
  • राहू की महादशा
  • गुरु की महादशा
  • शनि की महादशा
  • बुध की महादशा
  • केतु की महादशा
  • शुक्र की महादशा
  • अन्तर्दशा क्या है?
  • अन्तर्दशा का प्रभाव
  • समय की गणना
  • शुभ और अशुभ समय
  • दशा और अन्तर्दशा का आपसी प्रभाव
  • सूर्य की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • चंद्र की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • मंगल की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • राहू की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • गुरु की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • शनि की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • बुध की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • केतु की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • शुक्र की महादशा और अन्य ग्रहों की अन्तर्दशा
  • जन्म पत्रिका कैसे देखे ?
  • जन्म पत्रिका अध्ययन – भाग १
  • जन्म पत्रिका अध्ययन – भाग २
  • जन्म पत्रिका अध्ययन – भाग ३
  • जन्म पत्रिका अध्ययन – भाग ४
  • जन्म पत्रिका अध्ययन – भाग ५
  • जन्म पत्रिका अध्ययन – भाग ६
  • घटना अध्ययन – पत्रिका १
  • घटना अध्ययन – पत्रिका २
  • घटना अध्ययन – पत्रिका ३

श्रीमती अंजली सराफ

श्रीमती अंजली सराफ ने गणित विषय में बी.एस.सी. कर दर्शन शास्त्र में एम. ए की डिग्री हासिल की है, उसके बाद राजा मान सिंह तोमर संगीत विश्वविश्यालय , ग्वालियर से गायन में डिप्लॉमा भी लिया है |

बचपन से ही कवि ह्रदय होने के कारण इन्होने अपनी कविताओं के साथ देश भर में एक हज़ार से अधिक अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों में कविता पाठ किया है | बात यही ख़त्म नहीं होती हैं, कविता लिखने के साथ साथ कहानियां व नाटक भी लिखे | वही उन्होंने संकलन की कड़ी में स्वलिखित कविताओं से संकलित किताब “आगाज़” का प्रकाशन २० साल पहले किया था | २०१५ में स्वलिखित कहानियों से संकलित किताब “बस....तुम्हारी कहानी” का भी उनके द्वारा प्रकाशन हुआ | अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कविता पाठ के लिए २००७ में मास्को की यात्रा भी कर चुकी हैं | इनकी कहानियों व परिचर्चाओं का प्रसारण "आकाशवाणी " के विविध केन्द्रो में हो चूका है | अपनी लेखन कला का जादू इन्होने राष्ट्रीय टेलीविज़न पर भी बखूभी बिखेरा, जिसमे इन्होने सब टेलीविज़न नेटवर्क के दबंग चैनल पर प्रसारित कार्यक्रम "बहुत खूब" में अपनी कवितायें भी पढ़ी | साहित्य के क्षेत्र में अपने निरंतर योगदान के लिए इन्हे सम्मानित भी किया गया है| साथ ही कई बड़े अखबारों में इनकी रचनाओं और लेखो का प्रकाशन भी हुआ है |

२२ वर्ष पहले इन्होने एक प्रख्यात गुरु से वैदिक ज्योतिष का ज्ञान भी प्राप्त किया और उसमे महारथ हासिल की | पिछले २० वर्षो में इन्होने सेकड़ो लोगो ज्योतिष सलाह व परामर्श दिया है | श्रीमती अंजली सराफ इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के साथ अपने ज्ञान और कला की सहायता से बतौर ज्योतिष प्रवक्ता व शिक्षिका, विद्यार्थियों को ऑनलाइन शिक्षा दे रही है, जिससे विद्यार्थी घर बैठे इस अनमोल ज्ञान और कला को सीख पाए और अपने जीवन को सफल बना पाए | श्रीमती अंजली जी आज के समय में एक ऐसी शख्सियत है जो समाज में अपना योगदान एक अच्छे नागरिक और अनुभवी ज्योतिष के रूप में दे रही है, जो समाज में बदलाव लाने की उम्मीद और हिम्मत रखती है |

ज्योतिष के पत्राचार कोर्स और विडियो कोर्स को एक साथ करे और कॉम्बो कोर्स में पाए आकर्षक डिस्काउंट

अधिक जानने के लिए बटन दबाये

Testimonials

  • Excellent courses. Excellent people. Excellent support. Gr8 learning experience., God Bless.

    Ranbir Kaur Baidwan, Patiala (PGDIV, PGDIA, PGDIK, PGDIG, PGDIF, PGDIN, PGDIT)
  • मैंने IVA से ज्योतिष में पोष्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा की उपाधी प्राप्त की है। एक वर्ष कैसे बीत गया पता ही नहीं चला। पहले माड्यूल से ही दूसरे की प्रतिक्षा रहती थी। इसी संस्थान ने मुझे इस योग्य बना दिया है कि मैं अर्जित ज्ञान का सदुपयोग करते हुए शनै-शनै इस क्षेत्र में पेशेवर की तरह कार्य करने लगा हूँ।

    Piyush Chiraniya, Kolkata (PGDIA, PGDIV)
  • The astrology course was very informative and the practical, case studies and examples were well supported and taught in simplified user & friendly language. Staff were helpful. IBA definitely deserves ISO certification for its commitment to quality. I wish IVA the God speed.

    N. Pramod Kumar, Bangalore (PGDIA, PGDIV)
  • (Translated) Being a priest by profession, I had learnt Vedic Astrology and Vedic Vastu From FVA in 2004. Now, I don’t get time to perform puja for people. Instead, I have a big list of clients and industrialists who regularly take my advice for all their personal, professional, commercial and social matters. Especially the material on Dosha and their remedies is very comprehensive. Now, I am learning gems and Crystal Therapy. Om Swasti.

    Pdt. Vijay Kumar Shastri, Rishikesh (B.A. (Sanskrit), PGDIV, PGDIA, PGDIG)
  • मैंने वास्तु शास्त्र पर कई किताबों का अध्ययन कर के अपने बंगले का निर्माण करवाया। किन्तु कई वर्ष बाद अपने मित्र की सलाह में मैंने प्ट। के वास्तु पाठ्यक्रम में प्रवेश लिया। कोर्स के दौरान मैंने पाया की मेरा ज्ञान अधूरा था जिसके कारण मेरे बंगले में अनेकों वास्तु दोष उत्पन्न हो गये थे। माड्यूल 11 एवं 12 द्वारा मैंने इनके समाधान को समझा व बिना तोड़-फोड़ के उसे सही करना भी जाना।

    Shri Hemant Sharma, Jaipur (PGDIV, PGDIF, PGDIN)
  • The course is very useful for getting knowledge of Numbers. Study material is designed very well which gives us clear idea of subject in simple language.

    Aarati Khadsare, PGDIN
  • It is very great opportunity to be a part of IVA.Sincerely getting a great knowledge & opportunities through the courses.As an Architect these courses improves my vision to see my working platform.

    Ar Pragati JainAhmedabad (PGDIA)

FEE STRUCTURE

भारतीय विद्यार्थी के लिए फीस

भारतीय विद्यार्थी Rs. 13000
फीस जमा करने के लिए बटन दबाये      जमा करे

विदेशी विद्यार्थी के लिए फीस

विदेशी विद्यार्थी US$ 180
फीस जमा करने के लिए बटन दबाये      जमा करे

विशेष सूचना :

विडियो कोर्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी की सहयोगी संस्था एस्ट्रलवर्सिटी (Astralvarsity) के संयोजन में बनाये गए है | इस कोर्स का सर्टिफिकेट एस्ट्रलवर्सिटी द्वारा दिया जायेगा | इस प्रकार इंस्टिट्यूट ऑफ़ वैदिक एस्ट्रोलॉजी के पूर्व विद्यार्थियों को परक्षा उत्तीर्ण करने के बाद २ संस्थाओ का सर्टिफिकेट प्राप्त होगा |